विज्ञापन
Home » Economy » BankingCheaper retail loans on anvil as majority of banks brace for 5-10 bps cuts by Mar 31

जल्द कम हो जाएगी आपके होम लोन की EMI, 31 मार्च से पहले ब्याज दर घटाएंगे कई बैंक

RBI के आग्रह के बाद अधिकांश बैंक कर रहे तैयारी

Cheaper retail loans on anvil as majority of banks brace for 5-10 bps cuts by Mar 31

नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की ओर से रेपो रेट में कटौती के बाद कई बैंकों ने लोन पर लगने वाली ब्याज दरों में कटौती कर दी है। इससे अन्य बैंकों पर भी ब्याज दरें कम करने का दबाव बना हुआ है। बैंकिंग सेक्टर से जुड़े लोगों के अनुसार, 31 मार्च से पहले कई बैंक अपनी ब्याज दरों में 5 से 10 बेसिस प्वाइंट की कमी कर सकते हैं। 

 

RBI कर चुका है ब्याज दरों में कटौती का आग्रह
हाल ही में ब्याज दरों में कटौती करने वाले एक बैंक के सीईओ का कहना है कि कई बैंक MCLR में कटौती करने की तैयारी कर रहे हैं। हालांकि, इस बात पर मंथन चल रहा है कि ब्याज दरों में कटौती कितनी की जाए। उन्होंने बताया कि कुछ बैंक पहले ही ब्याज दरों में कटौती कर चुके हैं और कुछ बैंक कटौती करने की तैयारी कर रहे हैं। बैंक के सीईओ का कहना है कि 31 मार्च तक अधिकांश बैंक ब्याज दरों में 5 से 10 बेसिस प्वाइंट की कटौती कर देंगे। उनका कहना है कि बीते माह RBI गवर्नर की ओर से अर्थव्यवस्था को मजबूती देने के लिए ब्याज दरों में कटौती करने के आग्रह के बाद बैंकों पर इसमें कटौती का दबाव बना हुआ है। 

 

एक सप्ताह में पांच बैंकों ने की कटौती
एक अन्य बैंकर का कहना है कि बीते एक सप्ताह में सार्वजनिक क्षेत्र के 4 और प्राइवेट क्षेत्र का एक बैंक ब्याज दरों में कटौती कर चुका है।  बैंकर का कहना है कि अर्थव्यवस्था के विकास के लिए RBI बैंकों से ब्याज दरों में कटौती करने का आग्रह कर चुका है। RBI का कहना है कि इससे बैंक बिना किसी नुकसान लोगों को लाभ पहुंचा सकते हैं। आपको बता दें कि होम लोन की ब्याज दरें MCLR से लिंक होती हैं। ऐसे में MCLR रेट में कमी या बढ़ोतरी का असर होम लोन की EMI पर पड़ता है।

 

RBI के अनुसार नहीं होगी कटौती
बैंकरों का कहना है कि वह एनपीए और अन्य कारणों से कर्जदाताओं को RBI के बराबर ब्याज दर कटौती का लाभ नहीं दे सकते हैं। बैंकरों के अनुसार, वह रेपो रेट में कटौती का लाभ उपभोक्ताओं को देना चाहते हैं, लेकिन इसमें अपना मार्जिन भी बनाए रखना है। यही कारण है कि बैंक MCLR दरों में 25 बेसिस प्वाइंट की कटौती नहीं कर सकते हैं। आपको बता दें कि फरवरी में हुई मौद्रिक नीति समिति की बैठक में आरबीआई ने रेपो रेट में 25 बेसिस प्वाइंट की कटौती की घोषणा की थी।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन