बिज़नेस न्यूज़ » Economy » BankingPNB फ्रॉड : CBI ने 5 बैंकों से मांगी नोस्‍ट्रो ट्रांजेक्‍शन की डिटेल

PNB फ्रॉड : CBI ने 5 बैंकों से मांगी नोस्‍ट्रो ट्रांजेक्‍शन की डिटेल

जांच एजेंसी सीबीआई ने 5 बैंकों के मुख्य सतर्कता अधिकारी से 'नोस्ट्रो खातों' में ट्रांजेक्‍शन की डिटेल मांगी है।

1 of

नई दिल्‍ली.. पीएनबी फ्रॉड मामले में जांच एजेंसी सीबीआई ने 5 बैंकों के  मुख्य सतर्कता अधिकारी से 'नोस्ट्रो खातों' में ट्रांजेक्‍शन की डिटेल मांगी है। 'नोस्ट्रो खाता' उसे कहते हैं जिसमें कोई बैंक किसी अन्य विदेशी बैंक में मुद्रा रखता है ताकि उसके ग्राहक विदेश व्यापार कर सकें।

 

सीबीआई के एक अधिकारी ने बताया कि जांच एजेंसी ने केनरा बैंक, बैंक ऑफ इंडिया, स्‍टेट बैंक ऑफ इंडिया, इलाहाबाद बैंक और एक्‍सिस बैंक को पत्र लिखा है। एजेंसी ने इन बैंकों से नीरव मोदी और मेहुल चोकसी की कंपनियों को 'नोस्ट्रो खातों' में ट्रांजेक्‍शन की जानकारी मांगी है। इन बैंकों ने पीएनबी की ओर से जारी लेटर आफ अंडरटस्टैंडिंग( LoU) और लेटर ऑफ क्रेडिट (Lc ) के एवज में राशि दी थी। 


क्‍या है मकसद 


सीबीआई के अधिकारी ने कहा कि पीएनबी और इन बैंकों के आंकड़ों का मिलान करना जरूरी है। ताकि यह सुनिश्चत किया जा सके कि जितनी रकम की LoU और Lc  जारी की गई थी, उतनी ही आगे दी गई थी या उससे कम रकम दी गई थी। इससे यह साफ हो जाएगा कि घोटाले से वास्तव में कितना नुकसान हुआ है। इन बैंकों से मिली जानकारी नीरव मोदी और मेहुल चोकसी के लिए अतिरिक्त सबूत के रूप में भी पेश किए जा सकेंगे।

 
293 एलओयू और एलसी जारी किए थे


PNB  ने नीरव मोदी और मेहुल चोकसी की कंपनियों के लिए कुल 11400 करोड़ रुपए के 293 एलओयू और एलसी जारी किए थे। इसके एवज में इन बैंकों के विदेश स्थित शाखाओं ने नीरव मोदी और मेहुल चौकसी की कंपनियों को पैसे दिए थे। 


PAC ने किया अधिकारियों को तलब 


वहीं पीएनबी फ्रॉड मामले में पार्लियामेंट की पब्‍लिक अकाउंट्स कमिटी (PAC) ने ईडी समेत मामले की जांच से जुड़े कई अधिकारियों को तलब किया है। PAC के एक सदस्‍य ने बताया कि जांच कर रहे अधिकारियों से कमिटी के कई सवाल हैं। उन्‍होंने बताया कि इस मामले में रेवेन्‍यू सेक्रेटरी के अलावा ईडी, आईटी डिपार्टमेंट और कस्‍टम के बड़े अधिकारियों को ब्रीफिंग के लिए बुलाया गया है। उन्‍होंने आगे बताया कि इन अधिकारियों को 1 मार्च से पहले पैनल के सामने अपना पक्ष रखना है।   

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट