विज्ञापन
Home » Economy » BankingCard cloning debit and credit card cp restaurant

रेस्टोरेंट मे Debit-Credit Card इस्तेमाल करते समय रहें सावधान, क्लोनिंग के जरिए लग सकता है चूना

खतरे में HDFC बैंक के ग्राहक

Card cloning debit and credit card cp restaurant

Card cloning debit and credit card cp restaurant हाल ही में दिल्ली के कनॉट प्लेस में कार्ड क्लोनिंग का मामला सामने आया है। पुलिस ने लोगों के अकाउंट से पैसे उड़ा लेने वाले ठगों के एक गिरोह का पर्दाफाश किया है। इस गिरोह का अक सदस्य पुलिस की गिरफ्त में है। आरोपी के पास से कार्ड की क्लोनिंग करने के  लिए इस्तेमाल की जाने वाली स्क्रीमर मशीन भी जब्त कर ली है। आरोपी की पहचान पंकज कुमार के रूप में हुई है। पंकज के साथ उसका एक और दोस्त भी था जिसकी पहचान राहुल के रूप में हुई है। राहुल अभी फरार है लेकिन पुलिस का कहना है कि वह उस तक भी जल्द पहुंच जाएंगे। 

नई दिल्ली। हाल ही में दिल्ली के कनॉट प्लेस में कार्ड क्लोनिंग का मामला सामने आया है। पुलिस ने लोगों के अकाउंट से पैसे उड़ा लेने वाले ठगों के एक गिरोह का पर्दाफाश किया है। इस गिरोह का अक सदस्य पुलिस की गिरफ्त में है। आरोपी के पास से कार्ड की क्लोनिंग करने के  लिए इस्तेमाल की जाने वाली स्क्रीमर मशीन भी जब्त कर ली है। आरोपी की पहचान पंकज कुमार के रूप में हुई है। पंकज के साथ उसका एक और दोस्त भी था जिसकी पहचान राहुल के रूप में हुई है। राहुल अभी फरार है लेकिन पुलिस का कहना है कि वह उस तक भी जल्द पहुंच जाएंगे। 

कनॉट प्लेस का एक मशहूर रेस्टोरेंट में ट्रांजेक्शन किए गए थे


दिल्ली के डीजीपी मधुर वर्मा के अनुसार, 14 फरवरी को कनॉट प्लेस के एचडीएफसी बैंक की ओर से थाने में विवादित ट्रांजेक्शन को  लेकर शिकायत दर्ज कराई गई थी। शिकायत में बताया गया था कि लोगों के क्रेडिट और डेबिट कार्ड से उनके अकाउंट से पैसे निकाले गए है। जबकि घटना के समय कार्ड लोगों के पास ही थे। पुलिस को पता लचा कि जितने भी ग्राहकों के कार्डों का गलत इस्तेमाल किया गया था उनके जरिए कनॉट प्लेस का एक मशहूर रेस्टोरेंट में ट्रांजेक्शन किए गए थे। जांच में पुलिस को पता चला कि रेस्टोरेंट में काम करने वाले आरोपी पंकज कुमार ने ही उन सभी ग्राहकों को हैंडल किया था। 

पुलिस ने रेस्टोरेंट में ट्रैप लगाकर पंकज को पकड़ा


पंकज को पकड़ने के लिए पुलिस ने रेस्टोरेंट में ट्रैप लगाकर उसकी गतिविधियों पर नजर रखनी शुरू की और सबूत मिलते ही उसे गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में पंकज ने बताया कि कनॉट प्लेस में उसकी मुलाकात राहुल नाम के एक शख्स से हुई थी, जिसने उसे स्क्रीमर का इस्तेमाल करना सिखाया था। वह कार्ड के आखिरी 4 डिजिट, पिन और बैंक के नाम को नोट कर लेता था। फिर उस स्क्रीमर को राहुल के हवाले कर देता था, जिसमें कार्ड और उससे जुड़ी दूसरी सभी जरूरी डीटेल्स हुआ करती थी। बाद में उसी कार्ड की डीटेल्स के जरिए वह पैसे निकाल लेते थे। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन