Home » Economy » BankingWilful Defaulters list

जल्द सामने आएंगे कई नीरव मोदी और मेहुल चौकसी, CIC की पूछताछ पर सरकार कर सकती है खुलासा

मामले में CIC का RBI गवर्नर और PMO को नोटिस

1 of

नई दिल्ली. नीरव मोदी, विजय माल्या, मेहुल चौकसी और विक्रम कोठारी जैसे कई बड़े बैंक डिफाल्टर्स का नाम सामने आ सकता है, जो अब तक बैंकों की आड़ में बचे हुए थे। दरअसल कई प्राइवेट बैंकों की ओर से विलफुल डिफाल्टर्स के नामों की लिस्ट जारी नहीं की गई थी, जिससे इनका नाम पब्लिक में नहीं आया है। लेकिन अब सेंट्रल इंफार्मेशन कमीशन (CIC) ने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के गवर्नर उर्जित पटेल और प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) को विलफुल डिफाल्डर्स के नाम का खुलासा करने पर नोटिस जारी किया है। चीफ इंफार्मेशन कमीशन ने राइट टू इंफार्मेशन एक्ट के तहत पूछा है कि आखिर क्यों अब तक डिफाल्टर्स की लिस्ट नहीं जारी की गई। आरबीआई को मामले में 26 नवंबर तक नोटिस का जवाब देना है। 

 

टॉप 10 डिफॉल्टर के पास कुल बकाया का आधे से ज्यादा अमाउंट

बता दें कि अब तक पब्लिक सेक्टर के केवल चार ही बैंकों ने ऐसे डिफाल्टर के नामों का खुलासा किया गया है। इसमें से 1814 ऐसे विलफुल डिफाल्टर्स हैं, जिनके पास बैंकों के कुल 41716 करोड़ रुपए फंसे हुए हैं। डेक्कन हेराल्ड की ओर से जारी की गई रिपोर्ट में कहा गया है कि लगभग प्रत्येक बैंक में डिफाल्टर हैं और इन बैक के टॉप 10 डिफॉल्टर के पास ही कुल बकाया का आधे से ज्यादा पैसा फंसा  हुआ है। 

 

आगे पढ़ें- प्रत्येक बैंक में हैं डिफाल्टर्स

 

 

पीएनबी सबसे का सबसे ज्यादा अमाउंट फंसा 

डिफाल्टरों के पास सबसे ज्यादा अमाउंट PNB का 23,469 करोड़ रुपए फंसा हुआ है। वहीं आईडीबीआई के 6490.60 करोड़ रुपए, बैंक ऑफ बड़ौदा के 6260.67 करोड़ रुपए फंसे हैं, जबकि  Syndicate Bank के 937 करोड़ रुपए डिफाल्डर्स के पास हैं। अगर सबसे ज्यादा विलफुल डिफाल्टर्स की बात करे, तो इसमें भी 1124 डिफाल्टर के साथ पीएनबी पहले स्थान पर है। इसके बाद 219 डिफाल्टर्स के साथ Syndicate Bank, 177 के साथ बैंक ऑफ बड़ौदा का नंबर आता है।

 

आगे पढ़ें- बड़े डिफाल्टर्स के बारे में  

 

ये हैं देश के सबसे बड़े डिफाल्टर्स 

पीएनबी का कुल 23500 करोड़ रुपए फंसा हुआ है। इसमें से मेहुल चौकसी के पास 30.6% .यानी 7187.7 करोड़ रुपए है। Rotomac के चीफ विक्रम कोठारी बैंक ऑफ बड़ौदा के सबसे बड़े डिफाल्टर हैं, जिन पर बैंक का 456.6 करोड़ रुपए बकाया है।  विजय माल्या पर 17 बैंकों का 8,191 करोड़ रुपए बकाया है। 11,400 हजार करोड़ का पीएनबी घोटाला देश का सबसे बड़ा बैंकिंग घोटाला है। इसका मुख्य आरोपी नीरव मोदी है। 30 सितंबर 2017 के आंकड़ों के मुताबिक प्राइवेट सेक्टर की बैंकों की ओर से 9000 अकाउंट होल्डर्स को 1.1 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा का लोन दिया गया है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट