विज्ञापन
Home » Economy » BankingBank of Baroda increase minimum quarterly average balance in Baroda Advantage Savings Account 

बैंक ऑफ बड़ौदा का अपने ग्राहकों को बड़ा झटका, बचत खाते में मिनिमम बैलेंस रखने की सीमा बढ़ाई

1 फरवरी 2019 से लागू होगा नया नियम

1 of

नई दिल्ली। देश के सरकारी बैंकों में से एक बैंक ऑफ बड़ौदा ने अपने ग्राहकों को बड़ा झटका दिया है। बैंक ने बचत खाते में तिमाही आधार पर मिनिमम एवरेज बैलेंस रखने की सीमा को बढ़ा दिया है। इस सीमा में दोगुने की बढ़ोतरी की गई है। इस संबंध में बैंक एसएमएस भेजकर अपने ग्राहकों को जानकारी दे रहा है। बैंक की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार यह नया नियम 1 फरवरी 2019 से लागू होगा। 

 

अब इतने रुपए रखने होंगे
बैंक ऑफ बड़ौदा की ओर से ग्राहकों को दी जा रही जानकारी के अनुसार, शहरी ग्राहकों को अब अपने बचत खाते में तिमाही आधार पर 2000 रुपए रखने होंगे। अभी तक ग्राहकों के लिए यह सीमा एक हजार रुपए थी। अर्द्धशहरी क्षेत्रों में इस सीमा को 500 रुपए से बढ़ाकर 1000 रुपए कर दिया गया है। जबकि, ग्रामीण क्षेत्र के उपभोक्ताओं के लिए कोई सीमा नहीं है। बैंक ऑफ बड़ौदा ने ट्वीट करके कहा है कि बड़ौदा एडवांटेज बचत खाते में 1 फरवरी 2019 से मिनिमम बैलेंस सीमा में बदलाव हो जाएगा। 

बैलेंस मैंटेन नहीं करने पर लगेगा इतना जुर्माना


बैंक ऑफ बड़ौदा बचत खाते में मिनिमम बैलेंस मैंटेन नहीं करने पर अपने ग्राहकों से जुर्माना राशि वसूलता है। यह जुर्माना राशि शहरी ग्राहकों के लिए 200 रुपए और अर्द्धशहरी क्षेत्र के ग्राहकों के लिए 100 रुपए है। यदि कोई ग्राहक अपने खाते में मिनिमम बैलेंस मैंटेन नहीं करता है तो यह राशि उनसे वसूली जाएगी।

बैंक ऑफ बड़ौदा में हो चुका है दो बैंकों का विलय


हाल ही में केंद्र सरकार ने बैंकों ऑफ बड़ौदा में विजया बैंक और देना बैंक का विलय कर दिया है। यह विलय 1 अप्रैल 2019 से लागू होगा। इस विलय के बाद बैंक ऑफ बड़ौदा देश का दूसरा सबसे बड़ा सरकारी बैंक बन जाएगा। भारतीय स्टेट बैंक देश का सबसे बड़ा सरकारी बैंक है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss