बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Banking10 प्वाइंट्स में समझें इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक से जुड़ी A to Z बातें, कहां जमा होगा पैसा, कितना मिलेगा ब्याज

10 प्वाइंट्स में समझें इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक से जुड़ी A to Z बातें, कहां जमा होगा पैसा, कितना मिलेगा ब्याज

सिर्फ आपके दरवाजे पर बैंकिंग सुविधा ही नहीं देगा IPPB, मिलेंगे कई और ऑप्शन

1 of

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से नई दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में उद्घाटन के साथ ही  इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (IPPB) की सेवाएं आधिकारिक रूप से शुरू हो गई हैं। माना जा रहा है कि इसके जरिए ग्रामीण इलाकों में बैंकिग सुविधाओं को आसानी से पहुंचाने में सफल होगी। इस बैंक के बारे में अब तक जो बातें सामने आई हैं, उसके मुताबिक, कई मायनों में यह देख का अनोखा बैंक होगा। आइए जानते हैं बैंक से जुड़ी ऐसी ही 10 बातों के बारे में। आखिर आम आदमी इस बैंक में पैसा कैसे जमा कर पाएगा और उसे कितना ब्याज मिलेगा..... 

नंबर-1:  इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक 3 तरह के सेविंग अकाउंट खोलने की सुविधा देगा। रेगुलर सेविंग अकाउंट, डिजिटल सेविंग अकाउंट और बेसिक सेविंग अकाउंट। ये अकाउंट जीरो बैलेंस पर खोले जा सकते हैं।  इन सभी के लिए सालाना ब्‍याज दर 4 फीसदी रहेगी।

 

नंबर-2: व्यक्ति और छोटे कारोबार पेमेंट बैंक में अपना खाता खोल सकते हैं। IPPB में  अधिकतम 1 लाख रुपए जमा करने की सीमा है।  पोस्ट मैन के जरिए भी अकाउंट खोला जा सकता है।  

 

नंबर-3:   IPPB की शुरुआत देश भर में इसकी 650 शाखाओं और 3250 डाकघरों के सेवा केंद्रों के साथ की  जाएगी। साल के अंत तक देश के 1.55 लाख डाकघरों में यह सेवा शुरू हो जाएगी। 

 

नंबर-4: IPPB देश का संभवत: पहला बैंक होगा जो इतने बड़े पैमाने पर लोगों को घर पर ही बैंकिंग (डोर स्टेप बैंकिंग) की सुविधा देगा।  IPPB के 3 लाख डाक सेवक पीओएस मशीनों के जरिए ये सुविधा देंगे। 

 
 

आगे पढे़ं- बैंक से जुड़ी कुछ और बातों के बारे में...... 

 

 

नंबर-5:  इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (IPPB)भारतीय रिजर्व बैंक (RBI)ने की ओर से पेमेंट बैंक का लाइसेंस हासिल करने वाला तीसरा बैंक है। इससे पहले एयरटेल और पेटीएम को भी पेमेंट बैंक का लाइसेंस मिल चुका है। 

 

नंबर-6: IPPB की सर्विसेज के तहत सेविंग्‍स अकाउंट, करंट अकाउंट, डॉमेस्टिक रेमिटेंस सर्विसेज, डिजिटल पेमेंट, थर्ड पार्टी इंश्‍योरेंस, म्‍युचुअल फंड आदि शामिल हैं। इसके अलावा सरकार पेमेंट्स बैंक का इस्‍तेमाल नरेगा का वेतन, सब्सिडी, पेंशन आदि बांटने में भी करेगी। 

 

नंबर-7 : IPPB को 17 करोड़ पोस्टल सेविंग्स बैंक खातों को अपने साथ जोड़ने की अनुमति दी गई है। आईपीपीबी के काम शुरू करने के बाद ग्रामीण इलाकों में लोगों को डिजिटल बैंकिंग और वित्तीय सेवाओं की सुविधा मिलने लगेगी। वह किसी भी बैंक खाते में धन हस्तांतरित कर सकेंगे। यह काम वह मोबाइल एप अथवा डाकघर में जाकर कर सकेंगे। 

 

आगे पढे़ं- बैंक से जुड़ी कुछ और बातों के बारे में...... 

 

 

नंबर-8 : IPPB मोबाइल एप भी लॉन्च करेगा। इस एप से बैंकिंग सेवाओं के साथ ही फोन बिल, DTH,गैस कनेक्शन, बिजली बिल जैसी यूटिलिटी के लिए पेमेंट किया जा सकेगा।  

 

नंबर-9 :  IPPB के ग्राहक अपने खाते से 100 से अधिक संस्थाओं (बिलर्स) को पेमेंट कर सकेंगे। चूंकि,  IPPB खाते में 1 लाख रुपए तक ही रखा जा सकता है, इसलिए इन खातों से पीएसबी अकाउंट के लिंक होने के बाद ग्राहक पीएसबी से आईपीपीबी और आईपीपीबी से पीएसबी खातों में पैसा ट्रांसफर कर सकेंगे। 1 लाख रुपए से ज्यादा रकम पीएसबी अकाउंट में रखी जा सकती।  

 

नंबर-10 :  IPPB अकाउंट से जुड़े सभी बिलर्स भारत बिल पेमेंट सिस्टम के जरिए भुगतान कर सकेंगे। यह सुविधा बैंक की लॉन्चिंग के साथ ही शुरू हो चुकी है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट