• Home
  • Money knowledge
  • Know about the term used in your phone what would be the clock speed wide angle and ultra wide

जानिए आपके फोन में इस्तेमाल होने वाले टर्म के बारे में, आखिर क्या होता क्लॉक स्पीड, वाइड एंगल और अल्ट्रा वाइड  

Moneybhaskar.com

Mar 19,2020 01:18:00 PM IST

नई दिल्ली. फोन इस्तेमाल करते हुए उससे जुड़े कई टर्म आपसे टकरा जाते हैं। ऐसे में हम आपके लिए आज फोन से जुड़े कुछ टर्म के बारे में बता रहे हैं, आखिर यह क्या होते हैं, और इनका कैसे इस्तेमाल करते हैं।

क्या होता है क्लॉक स्पीड

क्लॉक स्पीड या प्रोसेसर की स्पीड वह होती है जो माइक्रोप्रोसेसर के नंबर ऑफ इंस्ट्रक्शन या हर वाइब्रेशन को पर सेकंड हुए परफॉर्म को बताती है उसे क्लॉक स्पीड कहा गया है। क्लॉक स्पीड का मतलब सीपीयू पर सेकंड कितने क्लॉक साइकिल में इंस्ट्रक्शन को परफॉर्म कर सकता है। सीपीयू के अंदर क्लॉक स्पीड जितनी तेजी से चलेगी उतना ही फास्ट इंस्ट्रक्शन को रीड कर पाएगा। फर्स्ट जेनरेशन कंप्यूटर के क्लॉक स्पीड को हर्ट्ज़ या किलोहर्टज में मापा गया था। 1970 और 1980 के दौरान मेगा हर्ट्ज में मापा गया, उसके बाद से ही 21 सेंचुरी में जितने भी क्लॉक स्पीड मापे जाते हैं वह हर्ट्ज़ या गीगाहर्टज में मापे जाते हैं। वीडियो कार्ड और उसे बनाने वाली कंपनियां एक हाई क्लॉक स्पीड करने वाले क्लॉक स्पीड को सिलेक्ट करते हैं और उसके बाद हर क्लॉक स्पीड के अनुसार प्रोसेसर की प्राइस फिक्स करते हैं।


क्लॉक स्पीड को मेगाहर्टज या गीगा हर्ट्ज में मापा जाता है। 1 मेगा हर्ट्ज यानी 1 मिलियन साइकिल प्रति सेकेंड प्रोसेस करता है या 1 गीगाहर्ट्ज यानी 1 हजार मिलियन साइकिल पर सेकेंड प्रोसेस करता है। क्लॉक स्पीड की स्पीड प्रोसेसर के साथ साथ कंप्यूटर के दूसरे पार्ट्स जैसे हार्ड ड्राइव मदरबोर्ड, रैम, रोम आदि पर भी डिपेंड करता है और यह अन्य पार्ट्स क्लॉक स्पीड की परफॉर्मेंस को बढ़ाने मदद करता है। एक सीपीयू की क्लॉक स्पीड उसके परफॉर्मेंस को डिसाइड करती है क्योंकि क्लॉक स्पीड ही सीपीयू के डाटा को पर सेकंड प्रोसैस्ड करता है।

वाइड एंगल

जैसा की नाम से ही साफ है वाइड एंगल लेंस आपको बहुत ही ज्यादा बड़ी फील्ड ऑफ व्यू यानी देखने की जगह देते हैं। सीधा कहें, फोटो में ज्यादो पोर्शन को कैप्चर किया जा सकेगा। इनका इस्तेमाल ज्यादातर लैंडस्केप फोटोग्राफी में होता है। लेकिन आजकल वेडिंग फोटोग्राफी में भी है कुछ क्रिएटिव फोटो खींचने के लिए वाइट लेंस का इस्तेमाल होता है | यह लेंस काफी अफॉर्डेबल होते हैं। लेकिन इस लेंस के साथ में यह दिक्कत है यह वाइड होने के साथ–साथ आपकी फोटो में डिस्टॉर्शन भी लाता है। डिस्टॉर्शन का अर्थ है आपकी फोटो सामान्य से थोड़ी अलग दिखती है।

अल्ट्रा वाइड एंगल

वाइड एंगल के विस्तार को ही अल्ट्रा वाइड एंगल कहते हैं। ट्रिपल या क्वॉड कैमरा सेटऑप के एक लेंस एक अल्ट्रा-वाइड एंगल का होता है जब इसकी फोकल लंबाई सेंसर के छोटे हिस्से से कम होती है। आखिरकार, यह एक छवि सेंसर है जो किसी दिए गए लेंस की फोकल लंबाई पर फील्ड-ऑफ-व्यू तय करता है। इसका मतलब है कि एक लेंस "अल्ट्रा-वाइड" हो सकता है जब एक कैमरे के साथ उपयोग किया जाता है और बस एक "वाइड-एंगल" होता है जब प्रत्येक कैमरे में सेंसर के आकार के आधार पर एक ही लेंस दूसरे कैमरे से जुड़ा होता है।

X

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.