विज्ञापन
Home » Do You Know » Gold Silver » FactsKnow norms of gold auction by finance Cos

जानिए, कैसे नीलामी में ले सकते हैं सस्‍ता सोना, क्‍या है इसके नियम

सोने की कीमतों में आई बड़ी गिरावट की वजह से गोल्‍ड लोन देने वाली कंपनियों का डिफॉल्‍ट बढ़ गया है।

1 of
नई दिल्ली। सोने की कीमतों में आई गिरावट और गोल्‍ड लोन देने वाली कंपनियों द्वारा की जाने वाली नीलामी से सोना खरीदने का अच्‍छा मौका मिल रहा है। क्‍योंकि सोने की कीमतों में आई गिरावट की वजह से गोल्‍ड लोन देने वाली कंपनियों का डिफॉल्‍ट बढ़ गया है। इन कंपनियों से लोन लेकर कस्‍टमर इसे चुका नहीं पा रहे हैं। जिसकी वजह से इन कंपनियों को उनके पास रखे गए सोने के आभूषणों को नीलाम करना पड़ रहा है। ताकि वे दिए गए गोल्‍ड लोन की रिकवरी नीलामी के जरिए प्राप्‍त कर सकें।  
 
सोने की नीलामी आरबीआई नियमों के अनुसार
 
गोल्‍ड लोन देने वाली एक कंपनी के अधिकारी ने बताया कि सोने के आभूषणों की जो नीलामी की जाती है वह आरबीआई के नियमों के अनुसार होती है। जबकि इस नीलामी में आरबीआई का एक पर्यवेक्षक भी मौजूद होता है। अधिकारी ने बताया कि उनकी यह कोशिश होती है कि विज्ञापन के जरिए डिफॉल्ट करने वाले ग्राहकों को सतर्क किया जाए। अगर वह अपनी ज्वैलरी वापस नहीं लेते हैं तो उसकी नीलामी कर दी जाएगी। इसका कुछ प्रभाव ग्राहकों पर पड़ता है लेकिन इसके बाद भी अगर ग्राहक नहीं आता है तो फिर नीलाम करने का ही विकल्प बचता है।
 
आगे की स्लाइड में पढ़िए कैसे होता है सोने की नीलामी.........
 

सोने की नीलामी के पहले कंपनियां देती है नोटिस
 
दरअसल नीलामी के लिए रखी गई सोने के आभूषण उन ग्राहकों की होती है। जिन्‍होंने अपने कर्ज नहीं चुकाए हैं। जिसको नीलाम करके कंपनी कर्ज की वसूली करती है। जब कोई ग्राहक 12 महीने से अपनी ईएमआई नहीं चुकाता है तो कंपनियां उसे नोटिस भेजती है। उसके बाद भी अगर कोई ग्राहक कर्ज नही चुकाता है तो आरबीआई नियमों के मुताबिक कार्रवाई की जाती है।  
 
गोल्‍ड ट्रेडर के लिए नीलामी एक बेहतर मौका
 
गोल्ड कारोबार में भाग लेने वाले ट्रेडर के लिए भी यह नीलामी एक मौका है। वह गोल्ड ज्वेलरी को कम कीमत में खरीद सकते हैं। देश की प्रमुख गोल्ड लोन देने वाली कंपनियां समय-समय पर इस तरह की नीलामी करती रहती है। नीलामी में भाग लेने के लिए बोली लगाने वाले को कम से कम 25 हजार रुपए या फिर तय किए गए रिजर्व प्राइस से 2 फीसदी कम का डिमांड ड्रॉफ्ट कंपनी के नाम देना होता है। यह ड्रॉफ्ट कंपनी के नाम से नीलामी के एक दिन पहले तक देना होता है। जिसे नीलमी में असफल होने वाले आवेदक को रिटर्न कर दिया जाता है।
 
नीलामी में भाग लेने के लिए पैन कार्ड जरूरी
 
गोल्‍ड की नीलामी में भाग लेने के लिए ग्राहक के पास पैन कार्ड और आईडी कार्ड होना जरूरी है। इसके बाद ही वह नीलामी प्रक्रिया में हिस्‍सा ले सकता है और बोली लगा सकेगा। ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि कोई खरीदार ब्लैक मनी का इस्तेमाल नहीं कर सके।
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss