Home »Do You Know »Economy »Facts» Goods And Services Tax Better For Markets And Economy

जानिए क्या है जीएसटी, कैसे इकोनॉमी के लिए है फायदेमंद

 
नई दिल्‍ली। इन दिनों गुड्स और सर्विस टैक्‍स (जीएसटी) बिल सुर्खियों में है। मोदी सरकार की कोशिश इसे 1 अप्रैल 2016 से लागू कराने की है। इस बीच चीफ इकोनॉमिक एडवाइजर अरविंद सुब्रमण्‍यम की अगुवाई वाली जीएसटी कमेटी ने अपनी रिपोर्ट भी सौंप दी है। जीएसटी को आजादी के बाद के सबसे बड़े इनडायरेक्‍ट टैक्‍स रिफॉर्म के तौर पर देखा जा रहा है।
 
जीएसटी अगर तय समय पर लागू हो जाता है तो इससे आम आदमी से लेकर स्‍टॉक मार्केट और इकोनॉमी तक में एक बहुत बड़ा बदलाव आने की उम्‍मीद की जा रही है। एक्‍सपर्ट्स का मानना है कि जीएसटी लागू होने से जीडीपी में एक से दो फीसदी की तेजी आ सकती है। मनीभास्कर आपको जीएसटी के बारे में और इसके लागू होने से इकोनॉमी को होने वाले फायदों के बारे में बता रहा है...
 
क्‍या है जीएसटी
 
सरल शब्‍दों में हम कहें तो जीएसटी एक सेंट्रलाइज (केंद्रीकृत) टैक्‍स है। दरअसल अभी कंपनी और कारोबारी बड़े पैमाने पर इनडायरेक्‍ट टैक्‍स चुकाते हैं, जिसमें वैट, सर्विस टैक्‍स, इंटरटेनमेंट टैक्‍स, चुंगी और लग्‍जरी टैक्‍स आदि शामिल होते हैं। उसकी जगह अब जीएसटी के तौर पर एक टैक्‍स देना होगा। इससे पूरा देश एक बाजार बन जाएगा। जीएसटी के लागू होने के बाद इन सभी टैक्‍सों का अस्‍तित्‍व खत्‍म हो जाएगा। जीएसटी की मॉनीटरिंग केंद्र सरकार करेगी।, जीएसटी ऐसे टैक्‍स है जिसे मैन्‍यूफैक्चिरिंग स्‍तर पर नहीं लगाकर उपयोग के समय लगाया जाएगा। फिलहाल गुड्स और सर्विसेज के लिए देशभर में अलग-अलग टैक्‍स चुकाना पड़ता है।
 
अगली स्‍लाइड में पढ़िए-जीएसटी कैसे मार्केट, कारोबारी और इकोनॉमी के लिए है फायदेमंद.... 

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY