Advertisement
Home » क्या आप जानते हैं » बैंकिंग » फैक्ट्सknow about integrating fact of 1000 and 60 rupees Coin

60 और 1000 रुपए के सिक्‍के भी हुए हैं जारी, जानिए इनसे जुड़े रोचक फैक्‍ट्स

सरकार इन सिक्‍कों को देश के महान सपूतों की याद में या कुछ विशेष अवसरों पर समय-समय पर जारी करती है।

1 of
 
नई दिल्‍ली। देश में 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्‍के खासे प्रचलन में हैं। हालांकि इनके अलावा ऐसे भी सिक्के हैं, जो बनाए तो गए हैं लेकिन ये मार्केट में नजर नहीं आते। ये सिक्के 60 से लेकर 1000 रुपए तक के हैं। दरअसल सरकार इन सिक्‍कों को देश के महान सपूतों की याद में या कुछ विशेष अवसरों पर समय-समय पर जारी करती है। उम्‍मीद है कि आरबीआई आने वाले समय में इन सिक्‍कों को मार्केट में जारी कर सकता है। आज हम आपको ऐसे ही सिक्कों और उनकी खासियतों के बारे में बता रहे हैं…..
 
 
1000 रुपए का सिक्का
 
मार्केट में अभी तक आपने 10 रुपए तक का ही सिक्‍का देखा होगा, लेकिन आरबीआई ने एक हजार रुपए का भी सिक्‍का बनाया है। भारत सरकार के टकसाल में ये सिक्के अच्‍छी खासी संख्‍या में ढाले जा रहे हैं। हालांकि, अभी ये सिक्‍के चंद हाथों में ही हैं खासकर संग्रह के शौकीन लोगों के पास। दरअसल एक हजार रुपए के इस स्‍मारक सिक्‍के को वर्ष 2010 में जारी किया गया था, जिसे तमिलनाडु के तंजावुर में वृहदीश्वर के नाम से विख्यात मंदिर के एक हजार साल पूरा होने पर बनाया गया था।
 
क्‍या है इसकी खासियत
 
1000 रुपए के इस सिक्‍के को 80 फीसदी चांदी, 20 फीसदी कॉपर के मिश्रण से तैयार किया गया है। सिक्‍के का वजन 35 ग्राम है। इस सिक्‍के के अगले भाग में अशोक स्‍तंभ और पिछले भाग में वृहदीश्‍वर शिव मंदिर का चित्र अंकित है। इस सिक्‍के को मुंबई टकसाल में ढाला गया है।
 
 
अगली स्‍लाइड में जानें- 150 रुपए के सिक्‍के के बारे में.....
 
 

Advertisement

 
150 रुपए का सिक्‍का
 
150 रुपए के विशेष स्‍मारक सिक्‍के को कई अवसरों पर जारी किया गया। यह सिक्‍का सबसे पहले भारतीय आयकर विभाग के 150 साल पूरा होने पर 2010 में जारी हुआ था, जो अर्थशास्‍त्री चाणक्‍य को समर्पित था। इसके अलावा इस सिक्‍के को गुरु रविन्द्र नाथ टैगोर और सीएजी के 150 साल पूरा होने के उपलक्ष्य में 2011 में जारी किया गया। वहीं, साल 2012 में मोती लाल नेहरू और मदन मोहन मालवीय की 150वीं वर्षगांठ पर जारी किया गया था। साथ ही साल 2013 में स्‍वामी विवेकानंद की 150वीं वर्षगांठ पर इस सिक्‍के को जारी किया गया था।
 
क्‍या है इसकी खासियत
 
23 मिलीमीटर व्यास वाले 150 रुपए के इस सिक्के में 50 फीसदी चांदी, 40 फीसदी तांबा, 5 फीसदी निकिल और 5 फीसदी जिंक मिक्स है। इस सिक्‍के का वजन भी 35 ग्राम है। यह सिक्‍का भी मार्केट में नहीं दिखता, लेकिन यह संग्रह करने के शौकीनों के पास जरूर नजर आता है। भारत सरकार की कोलकाता टकसाल ने 150 रुपए के इस सिक्‍के को ढाला है।
 
अगली स्‍लाइड में जानें- 125 रुपए के सिक्‍के के बारे में.....
 
 
 
125 रुपए का सिक्‍का
 
125 रुपए का सिक्‍का सबसे पहले जवाहर लाल नेहरू की 125वीं वर्षगांठ के अवसर पर साल 2014 में जारी किया गया था। इसके बाद इसे पूर्व राष्‍ट्रपति सर्वपल्ली राधाकृष्णन की 127वीं वर्षगांठ पर जारी किया गया था। इसके अलावा 6 दिसंबर, 2015 में बाबासाहेब आंबेडकर की 125वीं वर्षगांठ पर भी इस विशेष सिक्‍के को जारी किया गया।
 
क्‍या है इसकी खासियत
 
इस विशेष सिक्‍के का इस्‍तेमाल फाइनेंशियल ट्रांजेक्‍शन के लिए नहीं होगा और इसे खरीदा भी नहीं जा सकता है। इस सिक्‍के को आप सरकार द्वारा आयोजित कार्यक्रमों की गैलरीज में देख सकते हैं।
 
अगली स्‍लाइड में जानें- 100 रुपए के सिक्‍के के बारे में.....
 
 
 
100 रुपए का सिक्‍का
 
100 रुपए के विशेष स्‍मारक सिक्‍के को कई अवसरों पर जारी किया गया है। सबसे पहले साल 2010 में सी सुब्रमण्‍यम एवं मदर टेरेसा की 100वीं वर्षगांठ और 21वें कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स के अवसर पर पर इसको जारी किया गया था। इसके अलावा साल 2015 में अंतराष्‍ट्रीय योग दिवस के अवसर पर 100 रुपए के सिक्‍के को जारी किया गया था।
 
क्या है इसकी खासियत
 
100 रुपए का यह सिक्का 80 फीसदी चांदी, 20 फीसदी कॉपर के मिश्रण से तैयार किया गया है और इसका कुल वजन 35 ग्राम है। फिलहाल यह सिक्‍का स्‍मारक के तौर पर ही जारी हुआ है, लेकिन जल्द ही कुछ सिक्‍के मार्केट में भी नजर आ सकते हैं।
 
अगली स्‍लाइड में जानें- 75 रुपए के सिक्‍के के बारे में.....
 
 
75 रुपए का सिक्का
 
पहली बार साल 2010 में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) की प्‍लेटिनम जुबली के अवसर पर मुंबई मिंट में इस सिक्‍के की ढलाई की गई थी। इस सिक्‍के को रिजर्व बैंक के मिंट संग्रहालय में रखा गया है।हालांकि ऐसे दो सिक्‍के दिल्ली के एक कारोबारी के पास हैं, जो उन्होंने आरबीआई को चिट्ठी लिखकर मंगवाए थे।
 
क्या है इसकी खासियत
 
25 मिलीमीटर व्यास वाले 75 रुपए के इस सिक्के को 50 फीसदी चांदी एवं तांबे के इस्तेमाल से तैयार किया गया है। इस सिक्के का वजन 35 ग्राम है। इस सिक्‍के की ढलाई मुंबई मिंट में की गई है। यह सिक्‍का अभी चलन में नहीं है।
 
अगली स्‍लाइड में जानें- 60  रुपए के सिक्‍के के बारे में.....
 
 
 
60 रुपए का सिक्का
 
60 रुपए के इस सिक्‍के को साल 2012 में जारी किया गया था। यह सिक्‍का भारत सरकार के 60 वर्ष पूरे होने के अवसर पर जारी किया गया था। 60 रुपए के इस सिक्के की ढलाई कोलकाता मिंट में की गई थी। सरकार ने बतौर निशानी इस सिक्‍के को संग्रहालय में रखा हुआ है।
 
 
क्या है इसकी खासियत
 
इस विशेष सिक्‍के का वजन 30 से 35 ग्राम के बीच है। इस सिक्‍के को बनाने में चांदी, तांबे, जिंक और निकेल के मिश्रण का इस्तेमाल किया गया है।
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement