विज्ञापन
Home » Business MantraMedicinal Plant : How can start sahjan Farming

इस प्लांट को लगा कर कमा सकते हैं 50 हजार मंथली, 300 रोगों से लड़ने में है सक्षम 

आप भी कर सकते हैं यह काम, जानें कितना आएगा खर्च

1 of


नई दिल्ली. अगर आपके पास एक जमीन है तो फि‍र आप बिना नौकरी किए इससे अच्‍छी खासी कमाई कर सकते हैं। इतनी जमीन में आप सहजन की खेती ( Sahjan farming ) कर 6 लाख सालाना यानी 50 हजार रुपए मंथली तक कमा सकते हैं। सहजन को अंग्रेजी में ड्रमस्टिक (Drumstick) भी कहा जाता है। इसका वैज्ञानि‍क नाम मोरिंगा ओलीफेरा है। इसकी खेती में पानी की बहुत जरूरत नहीं होती और रख-रखाव भी कम करना पड़ता है। सहजन की खेती काफी आसान पड़ती है और आप बड़े पैमाने नहीं करना चाहते तो अपनी सामान्‍य फसल के साथ भी इसकी खेती कर सकते हैं।


 

सहजन का हर हिस्से का होता है यूज

सहजन का करीब-करीब हर हि‍स्‍सा खाने लायक होता है। इसकी पत्‍तियों को भी आप सलाद के तौर पर खा सकते हैं। सहजन के पत्‍ते, फूल और फल सभी काफी पोषक होते हैं। इसमें औषधीय गुण भी होते हैं। इसके बीज से तेल भी नि‍कलता है। दावा किया जाता है कि सहजन के इस्तेमाल से 300 से अधिक रोगों से बचा जा सकता है। सहजन में 92 विटामिन, 46 एंटी ऑक्सीडेंट, 36 पेन किलर और 18 तरह के एमिनो एसिड पाए जाते हैं। 
 

सहजन की खेती

यह गर्म इलाकों में आसानी से फल फूल जाता है। इसको ज्‍यादा पानी की भी जरूरत नहीं होती। सर्द इलाकों में इसकी खेती बहुत प्रॉफि‍टेबल नहीं हो पाती, क्‍योंकि इसका फूल खि‍लने के लि‍ए 25 से 30 डिग्री तापमान की जरूरत होती है। यह सूखी बलुई या चिकनी बलुई मिट्टी में अच्छी तरह बढ़ता है। पहले साल के बाद साल में दो बार उत्‍पादन होता है और आम तौर पर एक पेड़ 10 साल तक अच्‍छा उत्‍पादन करता है। इसकी प्रमुख कि‍स्‍में हैं - कोयम्बटूर 2, रोहित 1, पी.के.एम 1 और पी.के.एम 2

 

 

कितनी हो सकती है कमाई

एक एकड़ में करीब 1,500 पौधे लग सकते हैं। सहजन के पेड़ मोटे तौर पर 12 महीने में उत्‍पादन देना शुरू कर देते हैं। पेड़ अगर अच्‍छी तरह से बढ़ते हैं तो 8 महीने में ही तैयार हो जाते हैं। कुल उत्‍पादन 3000 कि‍लो तक हो जाता है। सहजन का फुटकर रेट आमतौर पर 40 से 50 रुपए प्रति किलो रहता है। थोक में इसका रेट 25 रुपए के आसपास होता है। इस तरह से साल में 7.5 लाख रुपए का उत्‍पादन हो सकता है। अगर इसमें से लागत निकाल दें तो 6 लाख रुपए तक का फायदा हो सकता है। 
 

सरकार ने लगाए पौधे 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर खादी विलेज इंडस्ट्री कमीशन (KVIC) द्वारा शुरू किए गए हनी मिशन के पूरक के तौर पर वाराणसी में 10,000 सहजन पौधे लगाए गए। यह पौधे वाराणसी जिले के गांधी आश्रम सेवापुरी से कस्तूरबा गर्ल्स इंटर कॉलेज तक सड़क के दोनों किनारों लगाए गए। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन