Home » Business Mantrasuccess story of founder of king kesaria

किसानों को बिचौलियों से बचाने के लिए शुरू किया अपना वेंचर, 30 लाख सालाना कर रहे कमाई

किसानों को केसर का सही दाम दिलाते हैं सचिन

success story of founder of king kesaria


नई दिल्‍ली। कृषि क्षेत्र में सुधार के लिए जरूरी कानून बनाने और किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी की अगुवाई में केंद्र सरकार लगातार प्रयास कर रही है। लेकिन इसके बावजूद बिचौलियों का प्रभाव कम नहीं हो रहा है। यही वजह है कि तमाम प्रयासों के बावजूद किसानों को उनके हिस्‍से का लाभ नहीं मिल पा रहा है। लेकिन एक शख्‍स ऐसा भी है जो अपने वेंचर के जरिए किसानों के दर्द को सुन रहा है और उनके हिस्‍से का लाभ दे रहा है। इस शख्‍स का नाम,  सचिन देव वशिष्ठ  है। हरियाणा के अंबाला के रहने वाले सचिन के पहल से न सिर्फ किसानों को फायदा पहुंच रहा है बल्कि उन्‍हें भी लाखों में कमाई हो रही है। तो आइए जानते हैं सचिन देव वशिष्ठ की सफलता की कहानी।   

 

ऐसे की शुरुआत 
दरअसल, सचिन देव वशिष्ठ केसर का कारोबार करते हैं। वह केसर उगाने वाले किसानों और कस्‍टमर्स के बीच 'किंग केसरिया' एक पूल का काम कर रहे हैं। मनीभास्‍कर को दिए इंटरव्‍यू में सचिन ने बताया, मूल रूप से जम्‍मू - कश्‍मीर के किसानों को ध्‍यान में रखकर मैंने इस कारोबार की शुरुआत की। सचिन कहते हैं कि हमने पाया कि केसर की खेती करने वाले किसानों को अपने ही देश में उचित दाम नहीं मिल पाता है। बल्कि किसानों की मेहनत को बिचौलियों के जरिए सउदी अरब के शेखों को उंचे दामों पर पहुंचा दिया जाता है। ऐसे में हमारे लिए किसानों से डायरेक्‍ट संपर्क  जरुरी था। 

 

एनजीओ की मिली मदद


सचिन आगे बताते हैं कि उन्‍हें इस काम में एनजीओ की मदद मिली। इस एनजीओ के जरिए केसर उगाने वाले किसानों से संपर्क हुआ। मैंने उनके लिए फूड स्‍पालयर का काम किया।  सचिन बताते हैं कि देखते ही देखते हमारा आइडिया हिट हो गया और हेल्‍थ को लेकर अवेयर रहने वाले देश- विदेश से लोगों ने हमें ऑर्डर देना शुरू कर दिया। 

 


1 ग्राम के पाउच से की शुरुआत 


सचिन बताते हैं कि किंग केसरिया ने मार्केट में कारोबार की शुरुआत छोटी पैकिंग उतार कर की। उन्‍होंने कहा कि 1 ग्राम केसर को​छोटे जिप पाउच में डालकर हमने लोगों को डिलिवरी करना शुरू किया। बाद में सचिन ने पार्ट टाइम जॉब शुरू कर की और पैसे जुटाकर ई— कॉमर्स वेबसाइट kingkesariya.co.in लांच किया। सचिन कहते हैं कि‍ हमें किसानों और कस्‍टमर्स का भरोसा जितना था। जिसमें काफी हद तक कामयाब हुए हैं।  


30 लाख की सालाना कमाई   


सचिन का कहना है कि उनके वेंचर का 30 लाख रुपए का सालाना कमाई  है। उन्‍होंने बताया कि हमारे कस्‍टमर देश के अलावा विदेशों में भी हैं। यही नहीं, ब्रिटेन के एक जर्नल ने किंग केसरिया को दुनिया की टॉप 3 एग्री ई- कॉमर्स वेबसाट की सूची में रखा है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट