बिज़नेस न्यूज़ » Business MantraICICI बैंक से 1 करोड़ तक का लोन लेना हुआ आसान, दिखाना होगा बस GST रिटर्न

ICICI बैंक से 1 करोड़ तक का लोन लेना हुआ आसान, दिखाना होगा बस GST रिटर्न

बैंक ने शुरू की जीएसटी बिजनेस लोन स्कीम, छोटे कारोबारी उठा सकते हैं फायदा

1 of


नई दिल्ली. ICICI बैंक ने एक नई वर्किंग कैपिटल फैसिलिटी शुरू करने का एलान किया है। इस सुविधा के तहत छोटे कारोबारी (एमएसएमई) अपने जीएसटी रिटर्न में दर्ज कारोबार के आधार पर ओवरड्राफ्ट (ओडी) प्राप्त कर सकते हैं। ‘जीएसटी बिजनेस लोन‘ नामक यह सुविधा किसी भी एमएसएमई के लिए उपलब्ध है, और ऐसे उद्यमी जो आईसीआईसीआई बैंक के ग्राहक नहीं हैं, वे भी इस योजना का लाभ उठा सकते हैं। योजना के तहत 1 करोड़ रुपये तक का ऋण हासिल किया जा सकता है।

 

नहीं दिखानी होगी बैलेंस शीट 
यह सुविधा त्वरित ओवरड्राफ्ट का लाभ उठाने की बेहतर सुविधा प्रदान करती है, क्योंकि इसके अंतर्गत पिछले वर्षों की बैलेंस शीट सहित विभिन्न वित्तीय दस्तावेजों की आवश्यकता नहीं होती। इसमें एमएसएमई के लिए कामकाजी पूंजी सीमा की पात्रता का आकलन करने के लिए उनके जीएसटी रिटर्न का ही उपयोग किया जाता है और इस तरह प्रक्रिया को सरल बनाते हुए दो कार्य दिवसों के भीतर ओडी की मंजूरी प्रदान कर दी जाती है। अभी ऋण मंजूर करने की पारंपरिक प्रक्रिया के तहत कई दस्तावेजों की आवश्यकता होती है और फिर इन दस्तावेजों की जांच में आम तौर पर कई दिन लग जाते हैं। 

 

 

क्यों दिया जा रहा है लोन 
जीएसटी बिजनेस लोन सुविधा की लॉन्चिंग के अवसर पर ICICI बैंक के एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर अनूप बागची ने कहा कि जीएसटी मार्केट को मजबूती प्रदान करेगा और इससे व्यापार करने में आसानी होगी। इससे प्रोडक्टिविटी बढ़ेगी और इकोनॉमी मजबूत होगी। इसलिए हमने यह निर्णय लिया है, जो कारोबारी अपने कारोबार को चलाने के लिए वर्किंग कैपिटल की जरूरत है, उन्हें जीएसटी रिटर्न के आधार पर 1 करोड़ रुपए का ओवरड्राफ्ट की सुविधा दी जाए। 

 

 

1 करोड़ कारोबारी हो चुके हैं रजिस्टर्ड 
बागची ने कहा कि जीएसटीएन नेटवर्क में रजिस्टर्ड एक करोड़ से अधिक एमएसएमई इस सुविधा का लाभ उठा सकते हैं। उनके यह सुविधा कुल मिलाकर उनके कारोबारी विस्तार के लिए एक व्यापक और नया मार्ग खोल देगी। यह नया ऑफर इनोवेशन के डेवलपमेंट में हमारे प्रयास के तहत छोटे कारोबारियों के लिए पथप्रदर्शक साबित होगा, जिससे वे कारोबार संबंधी अपनी आवश्यकताओं को आसानी से पूरा कर पाएंगे।

 

 

यह प्रॉपर्टी रखनी होगी बंधक 
एमएसएमई द्वारा ‘जीएसटी बिजनेस लोन‘ सुविधा का लाभ आवासीय, वाणिज्यिक या औद्योगिक संपत्ति को बंधक रखते हुए उठाया जा सकता है।

 

आगे पढ़ें : स्कीम की प्रमुख विशेषताएं 

प्रमुख विशेषताएंः-
- ओवरड्राफ्ट राशिः 10 लाख रुपये - 1 करोड़ रुपये
- खासियत : ग्राहकों को पिछले 6 महीनों की जीएसटी रिटर्न जमा करने की आवश्यकता है। वित्तीय विवरण जमा करने की कोई आवश्यकता नहीं है। जीएसटी रिटर्न में रिपोर्ट किए गए कारोबार के 20 प्रतिशत तक ओडी को मंजूरी दी जाएगी।
- तुरंत मंजूरीः इस सुविधा के तहत, एमएसएमई को दो कार्य दिवसों के भीतर अपने ओवरड्राफ्ट की मंजूरी मिलती है।
: कोलेटरल आधारित ओवरड्राफ्ट : एमएसएमई आवासीय/वाणिज्यिक/औद्योगिक संपत्ति को समर्थक प्रतिभूति के रूप में दे सकता है।
: जीएसटी बिजनेस लोन का सालाना आधार पर रिन्यूअल कराया जा सकता है, यह ओडी सुविधा वाले ग्राहक के पिछले भुगतान के रिकॉर्ड के आधार पर होगा।

 

आगे पढ़ें : कैसे करें अप्लाई 

कैसे करें अप्लाई 

‘जीएसटी बिजनेस लोन‘ के आवेदन के लिए ग्राहक आईसीआईसीआई बैंक की किसी भी शाखा से संपर्क कर सकता है या 5676766 पर GSTOD एसएमएस भेजा जा सकता है अथवा आईसीआईसीआई बैंक की वेबसाइट के माध्यम से आवेदन किया जा सकता है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट