विज्ञापन
Home » Business Mantrawhat is benefit of Amazon e commerce platform

विदेशों में भी amazon से सामान बेचना होगा आसान, ट्रेनिंग के साथ मिलेगा पूरा सपोर्ट

amazon और Fisme के बीच हुआ समझौता

what is benefit of Amazon e commerce platform

अब छोटे कारोबारी देश ही नहीं, बल्कि विदेशों में भी ऑनलाइन पोर्टल amazon के माध्यम से अपना सामान बेच सकेंगे। इसके लिए छोटे कारोबारियों के प्रमुख संगठन फेडरेशन ऑफ़ इंडियन माइक्रो ऐंड स्माल ऐंड मीडियम एंटरप्राइजेज (Fisme) और amazon इंडिया के बीच एक समझौता किया गया। इसका मकसद देश के सूक्ष्म, लघु और मंझोले उद्योगों (एमएसएमई) को सशक्त बनाया जाएगा, ताकि वे ई-कॉमर्स के क्षेत्र में उपलब्ध विकास के अवसरों का लाभ उठा सकें। 

 

क्या करेगा amazon 
इस समझौते के अनुसार Amazon.in पूरे देश में Fisme के साथ विभिन्न कार्यक्रम और कार्यशालाओं का संचालन करेगा. यह कार्यक्रम भारत में एमएसएमई को ई-कॉमर्स मार्केटप्‍लेस समाधानों का लाभ उठाकर अपने उत्‍पाद देश एवं विदेश के लाखों ग्राहकों को बेचने में सक्षम बनायेंगे। ऐसे आयोजनों के माध्यम से Amazon.in और एफआईएसएमई का लक्ष्‍य देश के भीतर ऑनलाइन बिक्री के साथ-साथ बी2सी निर्यातों की बारीकियों पर एमएसएमईज को शिक्षित करना  है, ताकि वे विभिन्‍न अंतर्राष्‍ट्रीय लोकेशनों पर अपना सामान बेच सकें। 


नई दिल्ली. अब छोटे कारोबारी देश ही नहीं, बल्कि विदेशों में भी ऑनलाइन पोर्टल amazon के माध्यम से अपना सामान बेच सकेंगे। इसके लिए छोटे कारोबारियों के प्रमुख संगठन फेडरेशन ऑफ़ इंडियन माइक्रो ऐंड स्माल ऐंड मीडियम एंटरप्राइजेज (Fisme) और amazon इंडिया के बीच एक समझौता किया गया। इसका मकसद देश के सूक्ष्म, लघु और मंझोले उद्योगों (एमएसएमई) को सशक्त बनाया जाएगा, ताकि वे ई-कॉमर्स के क्षेत्र में उपलब्ध विकास के अवसरों का लाभ उठा सकें। 

 

क्या करेगा amazon 
इस समझौते के अनुसार Amazon.in पूरे देश में Fisme के साथ विभिन्न कार्यक्रम और कार्यशालाओं का संचालन करेगा. यह कार्यक्रम भारत में एमएसएमई को ई-कॉमर्स मार्केटप्‍लेस समाधानों का लाभ उठाकर अपने उत्‍पाद देश एवं विदेश के लाखों ग्राहकों को बेचने में सक्षम बनायेंगे। ऐसे आयोजनों के माध्यम से Amazon.in और एफआईएसएमई का लक्ष्‍य देश के भीतर ऑनलाइन बिक्री के साथ-साथ बी2सी निर्यातों की बारीकियों पर एमएसएमईज को शिक्षित करना  है, ताकि वे विभिन्‍न अंतर्राष्‍ट्रीय लोकेशनों पर अपना सामान बेच सकें। 

 

यह भी मिलेगा सपोर्ट 
इसके बाद अमेजन द्वारा एक्सपर्ट्स के माध्यम से एमएसएमई लॉजिस्टिक्स, कैटलॉगिंग, इमेजिंग, टैक्सेशन के विषय में गहरी जानकारी दी जाएगी। साथ ही, ये विशेषज्ञ उन्हें ई-कॉमर्स मार्केटप्‍लेस मार्ग के जरिये बिक्री करने की सम्पूर्ण प्रक्रिया के बारे में भी बताएंगे। इसके अलावा, कारोबारियों  को डिजिटल व्यावसायिक अवसरों के अलावा ब्रांड निर्माण, लिस्टिंग, एडवरटाइजिंग आदि की भी ट्रेनिंग दी जाएगी। 

 

अमेजन से होगा फायदा 
Fisme के महासचिव अनिल भारद्वाज ने कहा कि, “भारत में एमएसएमई इकोसिस्टम को मजबूत बनाने और भारतीय अर्थव्यवस्था की विकास यात्रा में उन्हें शामिल करने की दिशा में Amazon.in और Fisme की समान विचारधारा है। अमेज़न इंडिया के साथ साझेदारी से हमें छोटे कारोबारियों के विकास करने का अवसर मिलेगा। इस साझेदारी के सहारे हम अपने सदस्यों और सहयोगी संगठनों को सशक्त करना चाहते हैं। हमारा मानना है कि Amazon.in के साथ हमारी साझेदारी से उद्यमशीलता को बढ़ावा मिलेगा और एक प्रतिस्पर्धी माहौल तैयार करने में आसानी होगी. इस तरह भारत और विदेशों में बाज़ार तक भारतीय कारोबारियों की पहुँच बढ़ेगी.

 

बिजनेस मॉडल तैयार होगा 
अमेज़न इंडिया के निदेशक एवं महाप्रबंधक (सेलर सर्विसेज) गोपाल पिल्लै ने कहा कि असल में, Amazon.in के संकलन के बड़े हिस्से के खरीदार ये लघु और मंझोले सेलर ही हैं। उनकी वृद्धि और अधिक करने के लिए Fisme के साथ साझेदारी करके हमें बेहद खुशी हो रही है। इस साझेदारी के माध्यम से हम इनोवेटिव बिजनेस मॉडल्स तैयार करने के लिए Fisme के सदस्यों के करीबी संपर्क में काम करेंगे। इससे विभिन्न एमएसएमई को ई-कॉमर्स सेक्टर में अवसरों का लाभ उठाते हुए अपने विकास की गति तेज करने में मदद मिलेगी और भारतीय अर्थव्यवस्था पर इसका सकारात्मक प्रभाव होगा। इसके अलावा, विभिन्न एमएसएमई द्वारा बेचे गए विशिष्ट उत्पादों से हमारे ग्राहकों को भी अधिक सिलेक्शन उपलब्ध होंगे। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन