Home » Business Mantrabusiness opportunity in seed seed trays manufacturing

15 हजार की नौकरी छोड़ शुरू किया कारोबार, 4 साल में खड़ी हुई 1.25 करोड़ की सीड ट्रे कंपनी

कभी 15 हजार की नौकरी करने वाले अजिंक्य आज हर महीने 2 लाख रु से ज्यादा की इनकम कर रहे हैं।

1 of

 

नई दिल्ली. खेती-बाड़ी से जुड़कर कमाई करने के अनेक विकल्प मौजूद हैं। बस जरूरत है अवसर पहचानने और उस पर अमल करने की। किसानों को बेहतर उपज के लिए अच्छेे बीज की जरूरतों को देखते हुए महाराष्ट्र के पुणे के रहने वाले अजिंक्य अशोकराव पिसल को इस क्षेत्र में एक अवसर दिखा और उन्होंने सीड ट्रे बनाने का बिजनेस शुरू किया। उनके बिजनेस की सफलता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि महज चार साल में ही उन्होंने 1.25 करोड़ रुपए की कंपनी खड़ी कर दी। कभी 15 हजार की नौकरी करने वाले अजिंक्य आज हर महीने 2 लाख रुपए से ज्यादा की इनकम कर रहे हैं।


15 हजार की नौकरी छोड़ी

अजिंक्य ने मनीभास्कर को बताया कि हॉर्टिकल्चर में MSc करने के बाद उन्होंने बेंगलुरू की एक कंपनी में किया, जो सीड ट्रे मैन्युफैक्चर करती थी। इस दौरान उन्होंने सीड्स ट्रे मैन्युफैक्चरिंग के बारे में सीखने के साथ उसमें कोको-पिट भरने, ट्रांसप्लांटिंग और गार्डनिंग के बारे में जाना। इस ट्रे को दोबारा यूज किया जा सकता है। यहां से आइडिया मिलने के बाद उन्होंने नौकरी छोड़ दी। नौकरी के दौरान उनको 15,000 रुपए सैलरी मिलती थी। नौकरी छोड़ने के बाद सरकार द्वारा चलाए जा रहे प्रोग्राम एग्री क्लिनिक एंड एग्री बिजनेस सेंटर्स में दो महीने की ट्रेनिंग ली। ट्रेनिंग पूरी होने के बाद जेपी नेचर केअर की नींव रखी।

 

क्या है सीड ट्रे की खासियत

सीड ट्रे की खासियत यह है कि इसमें पौधे की अच्छी ग्रोथ होती है। सीड ट्रे में बीज को प्लांट करने के बाद पौधे जल्दी विकसित होते हैं और फिर इसे खेतों में ट्रांसप्लांट करना आसान होता है। तेज धूप या बारिश में बीज के नष्ट होने खतरा नहीं होता है। सीड ट्रे में तैयार हुए पौधे की जड़ मजबूत होती है और उपज बेहतर होती है।

 

आगे पढ़ें 

 

यह भी पढ़ें, 70 हजार की नौकरी छोड़ शुरू किया बिजनेस, 2 साल में बन गया करोड़पति, 4 लाख में दे रहे हैं फ्रेंचाइजी

 

30 लाख रुपए में शुरू हुआ कारोबार

 

अजिंक्य ने बताया कि सीड ट्रे मैन्युफैक्चरिंग यूनिट लगाने में 30 लाख रुपए का निवेश लगा। उन्होंने 15 लाख रुपए बैंक ऑफ महाराष्ट्र से लोन लिया। जिस पर उन्होंने नाबार्ड से 36 फीसदी सब्सिडी मिली। बाकी की रकम उन्होंने खुद से निवेश की, जो  करीब 12 से 13 लाख रुपए थी। 

 

 

4 साल में खड़ा किया 1.25 करोड़ का कारोबार

 

लोगों में जागरूकता बढ़ने से उनके बिजनेस को सफलता मिली है। उनकी कंपनी दो तरह की सीड ट्रे का निर्माण करती है, जिसे दोबारा उपयोग किया जा सकता है। उन्होंने 2014 में सीड ट्रे बनाने की यूनिट लगाई थी, जिसका सालाना टर्नओवर आज 1.25 करोड़ रुपए हो गया है।

 

आगे पढ़ें

 

हर महीने हो रही 2 लाख की इनकम

अजिंक्य के मुताबिक, कंपनी के सालाना टर्नओवर पर उनको 20 फीसदी का प्रॉफिट मिल जाता है। यानी 1.25 करोड़ रुपए के सालाना टर्नओवर पर सालाना 25 लाख रुपए मुनाफा अर्जित कर रहे हैं। इस हिसाब उनकी मंथली कमाई 2 लाख रुपए से ज्यादा है।

 

 

विदेश में कर रहे हैं एक्सपोर्ट

जेपी नेचर केअर देश में महाराष्ट्र के अलावा मध्य प्रदेश, गुजरात, छत्तीसगढ़ और बेंगलुरू में सीड ट्रे का बिजनेस कर रहे हैं। वहीं केन्या, जमैका और साउथ अफ्रीका में सीड ट्रे का एक्सपोर्ट करते हैं।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट