बिज़नेस न्यूज़ » Business Mantraजंगली बीजों की खेती कर लाखों कमाएं, मोदी सरकार तैयार कर रही 10,000 करोड़ का बाजार

जंगली बीजों की खेती कर लाखों कमाएं, मोदी सरकार तैयार कर रही 10,000 करोड़ का बाजार

अभी हवाई जहाज उड़ाने के लिए भारत सालाना 30,000 करोड़ रु के फ्यूल का आयात करता है।

farming of forest seed can give earning opportunity

 

मनी भास्कर, नई दिल्ली

 

जंगली बीज (सीड) की खेती कर लाखों रुपए कमा सकते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुआई वाली सरकार आपको यह मौका देने जा रही है। सरकार इन बीजों से बायो-फ्यूल तैयार करेगी, जिससे हवाई जहाज उड़ेंगे। अभी हवाई जहाज उड़ाने के लिए भारत सालाना लगभग 30,000 करोड़ रुपए के फ्यूल का आयात करता है। सरकार आने वाले चार-पांच साल में इस आयात की राशि को लगभग 10,000 करोड़ रुपए कम करना चाहती है। इसकी भरपाई के लिए देश में बायो जेट फ्यूल बनाए जाएंगे।

 

कैसे होगी जंगली बीज से लाखों की कमाई

परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने बताया कि गैर खाद्य तेल वाले जंगली बीज से आसानी से बायो जेट फ्यूल का उत्पादन किया जा सकता है। देश के वैज्ञानिकों ने इसे तकनीकी रूप से साबित भी कर दिया है। इन बीजों में मुख्य रूप से रतनजोत, मोह, साह, टोली नामक जंगली बीज है जो उड़ीसा, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र व झारखंड जैसे इलाकों में भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। उन्होंने बताया कि जट्रोफा का उत्पादन देश में कम है, इसलिए फिलहाल उससे इस्तेमाल के लायक बायो जेट फ्यूल बनाना मुमकिन नहीं है।

 

क्या होगी कीमत

गडकरी ने बताया कि इन जंगली बीज को 10-12 रुपए प्रति किलोग्राम की दर से सरकार खरीदेगी। 3 किलोग्राम से एक लीटर फ्यूल का उत्पादन किया जा सकेगा। उन्होंने बताया कि अभी एयरलाइंस लगभग 70 रुपए प्रति लीटर की दर से फ्यूल की खरीददारी करती है। अगर हम इन कंपनियों को 52 रुपए प्रति लीटर देंगे तो कंपनियों को भी फायदा होगा और किसानों को भी।

गडकरी ने बताया कि सरकार आने वाले वर्षों में अपने आयात बिल को कम करना चाहती है। इसलिए सरकार चाहती है कि हवाई जहाज के फ्यूल के आयात बिल में 10,000 करोड़ तक कमी लाए जाए।

 

 

हवाई यात्रा भी हो जाएगी सस्ती

जंगली बीज से बायो जेट फ्यूल बनाने से हवाई यात्रा की लागत में 20 फीसदी से अधिक की गिरावट आ जाएगी। उन्होंने बताया सरकार जल्द ही इस प्रकार की नीति तैयार करने जा रही है, जिसे कैबिनेट के समक्ष रखा जाएगा।


 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट