विज्ञापन
Home » Business Mantraat 15000 rs cost you can start sanitary napkin business

15 हजार रु में शुरू हो जाएगा यह बिजनेस, सालाना 1.10 लाख रु होगी कमाई

सेनेटरी नैपकिन बिजनेस के लिए 90 फीसदी लोन की सुविधा दे रही सरकार

1 of


नई दिल्ली. sanitary napkin business: अगर आप बिजनेस करना चाहते हैं और फंड बड़ी समस्या है तो आपके लिए सेनेटरी नैपकिन बिजनेस का एक अच्छा ऑप्शन है। इस बिजनेस के लिए सरकार मुद्रा स्कीम (mudra scheme) माध्यम से लागत का 90 फीसदी तक लोन भी दे रही है। आप मात्र 15 हजार रुपए लगाकर सेनेटरी नैपकिन यूनिट लगा सकते हैं, जिससे आप पहले साल में 1.10 लाख रुपए तक कमा सकते हैं। वहीं अगले साल से आपका प्रॉफिट 2 लाख रुपए तक हो सकता है। सरकार सेनेटरी नैपकिन से जीएसटी भी समाप्त कर चुकी है, जिससे अब आपका प्रॉफिट और बढ़ सकता है।
 

इस साइज के कमरे में लगा सकते हैं यूनिट

Small business: मुद्रा स्कीूम (mudra scheme) के तहत जिन प्रोजेक्ट्स  को लोन दिया जा सकता है, उनके लिए सरकार की ओर से कुछ प्रोजेक्ट्सू रिपोर्ट तैयार की गई हैं। इसके लिए बकायदा स्ट्डी के बाद मुद्रा की वेबसाइट पर ये रिपोर्ट अपलोड की गई हैं। इनमें से एक है सेनेटरी नैपकिन बिजनेस। रिपोर्ट में रोजाना 1440 नेपकिन बनाने की यूनिट के बारे में बताया गया है, आठ नैपकिन एक पैकेट में पैक किए जाएं तो रोजाना 180 पैकेट का प्रोडक्श न किया जा सकता है। इस रिपोर्ट के मुताबिक, अगर आप सेनेटरी नैपकिन का छोटा सा बिजनेस शुरू करना चाहते हैं तो आप केवल 16X16 फुट के कमरे में यह यूनिट लगा सकते हैं।

 

प्रोजेक्ट पर आएगी कितनी लागत

Small business: यह प्रोजेक्टी रिपोर्ट बताती है कि अगर आप 180 पैकेट रोजाना प्रोडक्श न के लिए यूनिट लगाते हैं आपका प्रोजेक्ट  1.45 लाख रुपए में शुरू हो जाएगा। इसके लिए आपको 90 फीसदी यानी 1.30 लाख रुपए का मुद्रा लोन मिल जाएगा तो आपको अपनी ओर से 15 हजार रुपए ही लगाने होंगे। लेनी होगी कौन सी मशीन...

 

 

लेनी होगी कौन सी मशीन

Small business: रिपोर्ट के मुताबिक, आपको डिफाइबरेशन मशीन, कोर मॉर्निंग मशीन, सॉफ्ट टच सीलिंग मशीन, नैपकिन कोर डाइ, यूवी ट्रीट यूनिट लेनी होगी और इनके इंस्टॉलेशन के साथ आपको ये मशीनें लगभग 70 हजार रुपए में मिल जाएंगी।

 

रॉ मैटेरियल

आपको वुड पल्प, टॉप लेयर, बैक लेयर, रिलीज पेपर, गम, पैकिंग कवर रॉ-मैटेरियल के तौर पर लेना होगा। रिपोर्ट में कहा गया है कि एक माह का रॉ-मैटेरियल लगभग 36 हजार रुपए में आ जाएगा। कितनी आएगी प्रोडक्शन कॉस्ट....

 

 
कितनी आएगी प्रोडक्शन कॉस्ट 

रिपोर्ट में बताया गया है कि साल भर में 300 दिन काम किया गया तो 54000 पैकेट का प्रोडक्श न होगा, जिसकी कॉस्ट  इस प्रकार होगी।

रॉ-मैटेरियल : 4.32 लाख
सैलरी : 84 हजार
प्रशासनिक खर्च : 27000
डेप्रिशिएसन : 8000
इंश्योशरेंस : 800
रिपेयर मेंटनेंस : 4000
इंटरेस्टे ऑन कैपिटल : 18000
सेलिंग खर्च : 16200
कुल लगभग : 5.90 लाख 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन