विज्ञापन
Home » Budget 2019Budget 2019 : Expectations of real estate sector

Budget 2019 : घर खरीदना हो सकता है सस्ता, अगर वित्त मंत्री कर दें यह घोषणा 

Election Budget 2019: बजट से रियल एस्टेट सेक्टर को हैं ये उम्मीदें 

Budget 2019 : Expectations of real estate sector

Budget expectations of real estate sector 

नोटबंदी और GST की वजह से रियल एस्टेट सेक्टर अब तक उबरा नहीं है। हालांकि सरकार ने कई कदम उठाए हैं, बावजूद इसके लोगों के लिए घर खरीदना सस्ता साबित नहीं हो रहा है। रियल एस्टेट सेक्टर की डिमांड है कि बजट में कुछ आवश्यक घोषणाएं करके सरकार ने न केवल रियल एस्टेट सेक्टर को राहत दे सकती है, बल्कि लोगों के लिए घर खरीदना भी सस्ता साबित हो सकता है। 

नई दिल्ली. नोटबंदी और जीएसटी की वजह से रियल एस्टेट सेक्टर अब तक उबरा नहीं है। हालांकि सरकार ने कई कदम उठाए हैं, बावजूद इसके लोगों के लिए घर खरीदना सस्ता साबित नहीं हो रहा है। रियल एस्टेट सेक्टर की डिमांड है कि बजट में कुछ आवश्यक घोषणाएं करके सरकार ने न केवल रियल एस्टेट सेक्टर को राहत दे सकती है, बल्कि लोगों के लिए घर खरीदना भी सस्ता साबित हो सकता है। 

 

जीएसटी सहित ये घोषणाएं करें सरकार 
रियल एस्टेट डेवलपर कंपनी रियलस्टिक रियलेटर्स के चेयरमैन हरिंद्र सिंह ने कहा कि बजट में कुछ घोषणाएं करने से वित्त मंत्री पीयूष गोयल रियल एस्टेट सेक्टर को राहत प्रदान कर सकते हैं। जैसे कि - जीएसटी में सुधार/ कटौती करते हुए इसकी दर को 12 प्रतिशत से घटाकर 6 प्रतिशत किया जाना चाहिए। स्टैम्प ड्यूटी को भी जीएसटी के दायरे में लाया जाना चाहिए। ब्याज कटौती की सीमा को 2 लाख से बढ़ाकर 3 लाख या उससे अधिक किया जाए। 

 

इंफ्रा सेक्टर का दर्जा दिया जाए 
उन्होंने कहा कि रियल एस्टेट को इंफ्रास्ट्रक्चर सेक्टर का दर्जा देने की मांग सबसे बड़ी मांग है और ये इस पूरे सेक्टर की हालत को बदल सकती है, क्योंकि इससे कम दरों पर फंड्स प्राप्त करने में मदद मिलेगी और सेक्टर के प्रत्येक हिस्से को लाभ होगा। किराए से होने वाली आय का इनपुट, निर्माण की लागत पर इनपुट टैक्स क्रेडिट के तौर पर एडजस्ट किया जाए। इंडस्ट्री पूरी उत्सुकता से सरकार द्वारा ध्यान दिए जाने की उम्मीद लगाए है ताकि ये अपना असित्तव बनाए रख सके और आगे बढ़ने के लिए प्रेरणा प्राप्त कर सके।
 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन