विज्ञापन
Home » Budget 2019Budget 2019: Announcements for Middle class

बजट 2019: मिडिल क्लास को खुश करने के लिए बजट में सरकार ने दी ये सौगात

अंतरिम बजट 2019 में वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने मिडिल क्लास को कई तोहफे दिए

Budget 2019: Announcements for Middle class

Budget 2019: अंतरिम बजट 2019 में वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने मिडिल क्लास को कई तोहफे दिए। इसमें सबसे बड़ा तोहफा है 5 लाख की आय पर टैक्स से छूट। 

नई दिल्ली.

अंतरिम बजट 2019 में वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने मिडिल क्लास को कई तोहफे दिए। इसमें सबसे बड़ा तोहफा है 5 लाख की आय पर टैक्स से छूट। नौकरीपेशा लोगों के लिए इस छूट की घोषणा करते हुए वित्‍त मंत्री ने कहा कि इसके परिणामस्‍वरूप जिन लोगों की कुल आमदनी 6.50 लाख रुपए तक है अगर वे भविष्‍य निधि, विशेष बचतों, बीमा आदि में निवेश कर लेते हैं, ताे उन्‍हें भी किसी प्रकार के आयकर के भुगतान की जरूरत नहीं पड़ेगी।

 

3 करोड़ टैक्सपेयर्स को मिलेगा लाभ

इसके साथ ही उन्होंने ऐलान किया कि दो लाख रुपए तक के आवास ऋण के ब्‍याज, शिक्षा ऋण पर ब्‍याज, राष्‍ट्रीय पेंशन योजना में योगदान, चिकित्‍सा बीमा, वरिष्‍ठ नागरिकों की चिकित्‍सा पर होने वाले खर्च जैसी अतिरिक्‍त कटौतियों के साथ अधिक आय वाले व्‍यक्तियों को भी कोई कर नहीं देना होगा। इससे स्‍व-नियोजित, लघु व्‍यवसाय, लघु व्‍यापारियों, वेतनभोगियों, पेंशनरों और वरिष्‍ठ नागरिकों सहित मध्‍यम वर्ग के करीब 3 करोड़ करदाताओं को टैक्स में 18,500 करोड़ रुपए का लाभ मिलेगा।

 

मानक कटौती में वृद्धि

वित्‍त मंत्री ने कहा कि वेतनभोगियों के लिए, मानक कटौती को वर्तमान 40,000 रुपए से बढ़ाकर 50,000 रुपए किया जा रहा है। उन्‍होंने कहा कि इससे 3 करोड़ वेतनभोगियों और पेंशनधारकों को 4,700 करोड़ रुपए का अतिरिक्‍त कर का लाभ मिलेगा।

 

टीडीएस सीमा में वृद्धि

बैंक/डाकघर में जमा राशि पर मिलने वाले ब्‍याज पर टीडीएस सीमा को 10,000 रुपए से बढ़ाकर 40,000 रुपए कराने का प्रस्‍ताव किया गया है। पीयूष गोयल ने कहा कि इससे छोटे बचतकर्ताओं और गैर-कामकाजी लोगों को लाभ मिलेगा। उन्‍होंने कहा कि छोटे करदाताओं को राहत देने के लिए किराये पर कर कटौती के लिए टीडीएस सीमा को 1,80,000 रुपए से बढ़ाकर 2,40,000 रुपए तक करने का प्रस्‍ताव है।

 

आवासीय घरों को अधिक राहत

वित्‍त मंत्री ने कहा कि अपने कब्‍जे वाले दूसरे मकान के अनुमानित किराये पर लगने वाले आयकर के शुल्‍क में छूट का प्रस्‍ताव किया गया है। उन्‍होंने कहा कि वर्तमान में यदि एक व्‍यक्ति के पास एक से अधिक अपने घर हैं तो उसे अनुमानित किराये पर आयकर का भुगतान करना होता है। पीयूष गोयल ने अपनी नौकरियों, बच्‍चों की शिक्षा और माता-पिता की देखभाल के लिए दो स्‍थानों पर परिवार रखने के कारण मध्‍यम वर्गीय परिवारों को होने वाली कठिनाइयों को देखते हुए इस राहत की घोषणा की।

 

रीयल एस्‍टेट को भी राहत 

वित्‍त मंत्री ने 2 करोड़ रूपये तक के पूंजीगत लाभों को प्राप्‍त करने वाले एक करदाता के एक आवासीय घर से दूसरे आवासीय घर में निवेश के लिए आयकर अधिनियम की धारा 54 के अंतर्गत पूंजीगत लाभों में वृद्धि का प्रस्‍ताव किया है। हालांकि इस लाभ को जीवन में एक बार ही प्राप्‍त किया जा सकता है। सस्‍ते आवास के अंतर्गत और अधिक आवास उपलब्‍ध उपलब्‍ध कराने के लिए आयकर अधिनियम की धारा 80-आईबीए के अंतर्गत लाभों को एक और वर्ष के लिए विस्‍तारित किया जा रहा है, अर्थात यह 31 मार्च 2020 तक स्‍वीकृत आवासीय परियोजना पर लागू होगा। रीयल एस्‍टेट पर विशेष ध्‍यान देते हुए वित्‍त मंत्री ने बिना बिके हुए घरों/फ्लेटों के अनुमानित किराये पर कर-शुल्‍क से छूट की अवधि को परियोजना पूर्ण होने के वर्ष के अंतिम समय के एक वर्ष से बढ़ाकर दो वर्ष तक करने का प्रस्‍ताव किया है।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss