Home » Business » TradeRussian diamonds will shine in Indian markets

रशियन हीरों से सजेगा भारत का जौहरी बाजार, हो सकता है समझौता

रूस के पास बड़ा भंडार, तो भारत है हीरों का कटिंग और पॉलिशिंग हब

1 of

 

ई दिल्ली। जल्द ही भारत के जौहरी बाजार में रशियन हीरे अपने चमक बिखेरेंगे। शुक्रवार को इंडिया-रशिया बिजनेस समिट में वाणिज्य व उद्योग मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा कि दोनों देशों की सरकारों एेसा समझौता करना चाहिए जिसके तहत भारत अपने भुगतान संतुलन को नुकसान पहुंचाए बिना रशियन हीरों का आयात कर सके। उन्होंने कहा कि रूस के पास हीरों का बड़ा भंडार है और भारत को हीरों की कटिंग और पॉलिशिंग के लिए हब के रूप में जाना जाता है।

 

 

 

दोनों देशों को होगा फायदा

उन्होंने कहा कि अगर ऐसा काेई समझौता हो पाता है तो रूस द्वारा भारत को होने वाला निर्यात बढ़ जाएगा। भारत इन हीरों का आयात करेगा, इन्हें तराशेगा और फिर निर्यात करेगा, जिससे दोनाें देशों को फायदा होगा।

 

आगे पढ़ें, भारत-रूस के बीच होता है इतने अरब का कारोबार

 

भारत-रूस के बीच 7.5 अरब डॉलर का कारोबार

वित्तीय वर्ष 2015-16 में दोनों देशों के बीच 6.2 अरब डॉलर का द्विपक्षीय व्यापार हुआ था, जो 2016-17 में बढ़कर 7.5 अरब डाॅलर हो गया। हालांकि व्यापार संतुलन रूस की तरफ झुका हुआ है।


 

असली हीरों का सबसे बड़ा निर्माता है रूस

रूस में हर साल 3 अरब डॉलर मूल्य के बिना तराशे हीरों और 1.2 अरब डॉलर के तराशे हुए हीरों का निर्माण होता है। यहां की कंपनी अलरोसा (ALROSA) डायमंड मायनिंग के क्षेत्र में दुनिया की दिग्ग्ज कंपनी मानी जाती है। दुनिया के कुल डायमंड उत्पादन का 30 प्रतिशत यही उत्पादित करती है। यह कंपनी 2019 या 2020 तक भारत में डायमंड का नया ब्रांड लाॅन्च करने जा रही है। कृत्रिम यानी सिंथेटिक हीरों के निर्माण में भी रूस आगे है। हीरों को तराशने के लिए जो तकनीक रूस में इस्तेमाल की जाती है वह बहुत महंगी हाेती है, इसलिए रशियन कट वाले हीरों का दाम काफी ज्यादा होता है।

 

आगे पढ़ें, कितना बड़ा है भारत का हीरा उद्योग

 

भारत का हीरा उद्योग

-देश का हीरा निर्यात दुनिया में दूसरे नंबर पर आता है। वित्तीय वर्ष 2017 में भारत ने 18.1 अरब डॉलर के हीरे निर्यात किए। यह कुल वैश्विक डायमंड एक्सपोर्ट का 15.3 प्रतिशत था।

-2017-18 में तराशे और पॉलिश किए गए हीरों का एक्सपोर्ट 4.17 प्रतिशत बढ़कर 23.74 अरब डॉलर हो गया।

-पिछले साल देश में बिना तराशे हीरों का आयात 24.5 प्रतिशत बढ़कर 14.98 करोड़ कैरेट हो गया। तराशे और पॉलिश किए हीरों के कैरेट मूल्य में 28.3 प्रतिशत वृद्धि हुई।

-पॉलिश किए गए हीरों का नियार्त भारत से अमेरिका, बेल्जियम, इजरायल और हांगकांग किया जाता है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट