Home » Business » TradeBeware of adulterated milk and other dairy products this diwali

दिवाली के दौरान जहर बन जाते हैं खोया, पनीर, दूध एवं दही, सरकारी एजेंसी की चेतावनी

FSSAI ने सभी राज्य सरकारों को छापेमारी अभियान चलाने के लिए कहा

1 of

नई दिल्ली। दिवाली से पहले बाजार में दूध, दही, खोया, पनीर और घी की मांग बढ़ जाती है। लेकिन आप नहीं जानते होंगे कि ये सारे दुग्ध उत्पाद दिवाली से पहले कई बार जहर बन जाते हैं। देश की फूड रेगुलेटरी एजेंसी फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया ( FSSAI) के मुताबिक ये उत्पाद त्यौहार से कई दिनों पहले ही तैयार कर लिए जाते हैं, इसलिए इनमें फंग्स और बैक्टीरिया पनप जाते हैं। ऐसे में, ये सेहत के लिए गंभीर रूप से खतरनाक हो सकते हैं। इसी वजह से FSSAI ने सभी राज्य सरकारों से कहा हैं कि वे दिवाली के दौरान अपने राज्यों में छापेमारी अभियान चलाकर दूध व उससे बने उत्पादों की सेफ्टी व क्वालिटी सुनिश्चत करें।

 

लाेगों को नहीं रहा खोया पनीर की क्वालिटी पर भरोसा

FSSAI के रेगुलेटरी कॉम्पलायंस डिविजन के ज्वाइंट डायरेक्टर दया शंकर के मुताबिक दूध और दूध से उत्पादों सें लाेगों का भरोसा कम होता जा रहा है।  हाल ही में एफएसएसएआई की रिपोर्ट में इसका खुलासा किया गया है। दीपावली के दौरान ऐसे तमाम मामले सामने आते हैं कि दुकानदार मिलावटी खोया, पनीर और अन्य दुग्ध उत्पाद बेचते हैं। त्यौहारों के मौसम में मिलावट ज्यादा की जाती है क्योंकि डिमांड बढ़ जाती है। ऐसे में सभी राज्य सरकारों को त्यौहार से पहले छापेमारी अभियान चलाना होगा।

 

खतरनाक चीजों की होती है मिलावट

हाल ही में आई एक रिपाेर्ट के मुताबिक देश के कुल दूध और दुग्ध उत्पादों में से 68 फीसदी FSSAI के मानकों पर खरे नहीं उतरे थे। इन उत्पादों में डिटर्जेंट, व्हाइट पेंट, कॉस्टिक सोडा और रिफाइंड तेल मिलाया जाता है। इसके अलावा यूरिया, स्टार्च, ग्लूकोज और फॉर्मेलिन भी दूध में मिलाया जाता है क्याेंकि इससे दूध गाढ़ा होता है।

 

आगे भी पढ़ें- नहीं किया जाता सही स्टोरेज

 

 

नहीं किया जाता सही स्टोरेज

मिलावट के अलावा बैक्टीरियल इंफेक्शन के चलते भी दूध से बने प्रोडक्ट लोगों की सेहत को नुकसान पहुंचाते हैं। इन प्रोडक्ट्स की लाइफ वैसे भी कम होती है। उसपर भी कई दुकानों में त्यौहार से महीनों पहले से इन्हें बनाने का काम शुरू हो जाता है। फिर इन्हें साफ-सुथरी जगह पर स्टोर नहीं किया जाता। इससे इनमें फंगस लग जाता है।

 

आगे भी पढ़ें- स्टीकर्स पर भी सख्त हुआ FSSAI

 

 

स्टीकर्स पर भी सख्त हुआ FSSAI

FSSAI ने फलों व सब्जियों की बिक्री करने वाले ट्रेडर्स के लिए एक गाइडेंस नोट जारी किया है। इसमें एजेंसी ने कहा है कि फलों व सब्जियों पर स्टीकर न चिपकाएं। इन स्टीकरों पर लगी गाेंद में कई प्रकार के केमीकल होते हैंजो सेहत को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

 

 

 

 

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट