विज्ञापन
Home » Business » TradeChinese 'Queen of Ivory' Jailed In Tanzania for 15 years For Trafficking Elephants Tusks

चीन की इस 'Queen' को विदेश में मिली 15 साल कैद की सजा, अपने हाई-प्रोफाइल स्टेटस के दम पर करती थी तस्करी

अफ्रीका में संभाले कई बड़े पद, फिर डोल गई नीयत

1 of

नई दिल्ली.

अफ्रीकी देश तंजानिया में चीन की एक महिला को 15 साल की सजा सुनाई गई है। Yang Feng Glan नाम की यह महिला Queen Of Ivory के नाम से मशहूर है। ऐसा इसलिए क्योंकि उसे Ivory यानी हाथी दांत की सबसे कुख्यात तस्कर माना जाता है। मंगलवार को तंजानिया कोर्ट ने 70 वर्षीय इस महिला काे 45.7 करोड़ रुपए के 860 हाथी दांतों की तस्करी करने के आरोप में यह सजा सुनाई। उसके साथ उसके दो साथियों को भी यही सजा मिली।

 

चार साल में की दो टन हाथी दांत की तस्करी

Yang ने 2000 से 2004 के बीच में तकरीबन 350 हाथियों के दांतों को अफ्रीका से एशिया भेजा। Yang को यह सजा सुनाए जाने के बाद चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि हम चीनी नागरिकों की गैरकानूनी हरकतों का बचाव नहीं करते हैं। हम तंजानिया अथॉरिटी की न्यायिक जांच और इस फैसले का समर्थन करते हैं। 

 

चार साल बाद सुनाई गई सजा

Yang को 28 सितंबर, 2015 को तंजानिया की राजधानी Dar es Salaam से गिरफ्तार किया गया था। इसके पहले एक साल तक पुलिस उसे ढूंढती रही। Yang पर इलजाम था कि वह चीन और तंजानिया के कई नामी-गिरामी लोगों से अपनी जान-पहचान का फायदा उठाकर चीन और पूर्वी अफ्रीका के बीच हाथी दांत की सप्लाई चेन चला रही थी। इसके जरिए वह दुनियाभर में हाथी दांत की तस्करी कर रही थी। तंजानिया जांचकर्ताओं के मुताबिक यह सजा तंजानिया में रह रहे किसी हाई-प्रोफाइल चीनी नागरिक को मिली सबसे कठोर सजाओं में से एक है।

1975 में Tanzania आई थी Yang

Yang वर्ष 1975 में एक चीनी कंपनी की ट्रांसलेटर बनकर तंजानिया आई थी। यह कंपनी Dar es Salaam के बंदरगाह को Zambia से जोड़ने के लिए रेलरोड का निर्माण कर रही थी। Yang यहां की भाषा स्वाहिली सीखने वाले चंद चीनी लोगों में से एक थी। अपनी गिरफ्तारी से पहले उसने Tanzania-China Africa Business Council के मुख्य सचिव का भी पद संभाला था। इन पदों पर रहते हुए अपने प्रभाव का गलत इस्तेमाल करते हुए उसने हाथी दांत की तस्करी शुरू की।

5 साल में 60 फीसद घट गई Tanzania में हाथियों की संख्या

हाथियों के शिकार के मामले में तंजानिया का नाम काफी खराब है। यहां बड़ी संख्या में हाथियों को मारा जाता है। कई संरक्षक समूहों ने इस मामले में तंजानिया की काफी आलोचना की है। तंजानिया सरकार के मुताबिक 2009 से 2014 के बीच इस देश में हाथियों की आबादी 60 फीसदी हो गई।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss