Home » Business » Export-ImportChina to increase import of Indian goods, pomegranates and fish on list

भारत के अंगूर और अनार खाएगा चीन, भारत को खिलाएगा सेब और पनीर

व्यापार असंतुलन को ठीक करने के लिए पहल कर रहा है चीन

1 of

नई दिल्ली.

भारत और चीन के बीच व्यापार में चीन का पलड़ा हमेशा भारी रहा है। चीन से भारत में जितना माल आता रहा है, उतना भारत से चीन नहीं जाता है। ऐसे में व्यापार में आया असंतुलन ठीक करने के लिए चीन देश से ज्यादा सामान आयात करने के बारे में योजना बना रहा है। चीन भारत के अंगूर, अनार, सोयामील और मछली का आयात करेगा। इससे पहले भारतीय शक्कर और बासमती से हटकर चावल का निर्यात चीन को किया जाना तय किया जा चुका है। हालांकि चीन यह भी चाहता है कि भारत उससे दूध, डेयरी प्रोडक्ट, सेब और नाशपाती खरीदना फिर से शुरू कर दे।

 

बढ़ाना होगा आयात-निर्यात

हाल ही में चीनी उप मंत्री Hu Wei ने भारतीय मंत्रियों के साथ बैठक की थी। इस बैठक में भारत ने भिंडी, चीकू, दूध और बोवाइन मीट का निर्यात बढ़ाने की बात पर जोर दिया। वहीं दूसरी तरफ चीन ने दूध, डेयरी प्रोडक्ट, सेब और नाशपाती की खरीद को फिर से शुरू करने की बात कही। एक अधिकारी के मुताबिक चीन भारत के आम और सफेद सरसों को खरीदने का भी इच्छुक है। हालांकि भारत चाहता है कि शक्कर और अंगूर के निर्यात के लिए नॉन-टैरिफ बैरियर को खत्म किया जाए।

 

दोनों देशों के बीच व्यापार

2017-18 में भारत से चीन को किया गया निर्यात 2.33 लाख करोड़ रुपए का रहा जबकि भारत को होने वाले चीनी आयात की कीमत 5.38 लाख करोड़ रुपए रही। चीन इस ट्रेड डेफिसिट को खत्म करना चाहता है। 

 

आगे पढ़ें- भारतीय बागानों की निरीक्षण करेगा चीन

 

 

भारतीय बागानों की निरीक्षण करेगा चीन

देश से उत्पादों को आयात करने से पहले चीन देश के फलों के बागानों और फैक्ट्रियों का निरीक्षण करेगा। इस सप्ताह चीन अंगूर के बगीचों और अगले सप्ताह सोयाबीन की जांच करेगा। अनार के बागों और प्रोसेसिंग यूनिट्स का निरीक्षण 10 से 17 दिसंबर के बीच किया जाएगा।

 

आगे पढ़ेंपुरानी बातों को भूलकर बढ़ेंगे आगे

 

 

पुरानी बातों को भूलकर बढ़ेंगे आगे

दोनों देशों ने एक-दूसरे से किए जाने वाले अायातों में कटौती कर ली थी। 2008 में जब चीन के डेयरी उत्पादों में मेलामाइन (Melamine) पाया गया थातो भारत ने इनका आयात रोक दिया था। अब चीन भारत से casienate (मिल्क प्रोटीनखरीदने को तैयार हैलेकिन इसके बदले वह चाहता है कि भारत उससे डेयरी प्रोडक्ट खरीदे। दूसरी तरफ भारत में foot-and-mouth महामारी फैलने के बाद चीन ने भारत से बोवाइन मीट का आयात बंद कर दिया था। अब जब भारत को वर्ल्ड ऑर्गेनाइजेशन फॉर एनिमल हेल्थ की तरफ से क्लीयरेंस मिलने के बाद भी चीन अपनी तरफ से खुद निरीक्षण करके संतुष्ट होना चाहता है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट