Advertisement
Home » बजट 2018 » टैक्सेशनआम बजट 2018 : Such changes your income tax slab in 5 years

आम बजट 2018 : 5 साल में ऐसे बदला आपका इनकम टैक्‍स स्‍लैब

इनकम टैक्‍स स्‍लैब में हर साल कुछ न कुछ फरबदल होते ही रहते हैं।

1 of

नई दि‍ल्‍ली. गुरुवार को 2018-2019 का बजट आना है। ऐसे में हर नौकरी पेशा आदमी को इंतजार होता है कि‍ इनकम टैक्‍स पर सरकार क्‍या करेगी। इनकम टैक्‍स स्‍लैब में हर साल कुछ न कुछ फरबदल होते ही रहते हैं। ऐसे मेंं आज हम यहां बता रहे हैं कि‍ पिछले 5 साल में इनकम टैक्‍स स्लैब, अधिभार और कटौती की सीमाएं कैसे बदल गई हैं। 

 
2017-18  
 
50 लाख रुपये से अधिक की आय पर नया 10% अधिभार टैक्स लगाया गया है। वहीं, टैक्‍स रि‍बेट को 5000 रुपये से 2,500 रुपये कर दि‍या गया है। जो कि‍ सि‍र्फ 3.5 लाख रुपये तक की आय पर लागू होगी। इसके अलावा 12,500 रुपए की छूट सभी करदाताओं के लिए दी गई है और होम लोन पर टैक्‍स डि‍डक्‍शन 2 लाख रुपए है। 
 
 
आगे पढ़ें : पि‍छले सालों में कैसी थी टैक्‍स स्‍लैब 
 

2016-17
 
1 करोड़ रुपये से अधिक की आय पर सरचार्ज 15% बढ़ा दि‍या था। जबकि‍ 10 लाख से अधिक के लाभांश पर यह 10% था। 5 लाख रुपये तक की कमाई करने वालों की टैक्स छूट में 5000 रुपये का इजाफा कि‍या था।
2015-16 
 
1 करोड़ रुपये से अधिक की आमदनी पर अधिभार 12% कर दि‍या गया था। एनपीएस में 50,000 रुपये तक के निवेश से अतिरिक्त कटौती या गयाकर दी गई है। इसके अलावा मेडिकल बीमा डि‍डक्‍शन मेंं 25,000 रुपये का इजाफा कि‍या गया है।    
2014-15
 
मूल छूट को 2.5 लाख रुपये (सामान्य), 3 लाख (वरिष्ठ नागरिक) और 5 लाख रुपये (बहुत वरिष्ठ नागरिक) तक बढ़ाया गया। धारा 80 सी की सीमा को भी बढ़ाकर 1.5 लाख कर दि‍या गया है। होम लोन डि‍डक्‍शन की सीमा को 2 लाख रुपए कर दि‍या गया है। 
2013-14 
 
1 करोड़ रुपये से अधिक आय के लिए कर पर लगाए गए 10% अधिभार इन्फ्रा बॉन्ड के लिए धारा 80 सीसीएफ़ डि‍डक्‍शन को खत्‍म कर दि‍या है। 5 लाख रुपये तक की आय के लिए 2,000 रुपये का टैक्स छूट है। 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement