बिज़नेस न्यूज़ » Budget 2018 » TaxationAam Budget 2018: जब प्रधानमंत्री को पेश करना पड़ा बजट, लगा दिए नए टैक्‍स

Aam Budget 2018: जब प्रधानमंत्री को पेश करना पड़ा बजट, लगा दिए नए टैक्‍स

आजादी के बाद से अब तक तीन मौके ऐसे भी आए, जब देश के प्रधानमंत्री ने बजट पेश किया।

1 of

नई दिल्‍ली. देश का बजट आमतौर पर वित्‍त मंत्री ही पेश करते हैं। लेकिन, आजादी के बाद से अब तक तीन मौके ऐसे भी आए, जब देश के प्रधानमंत्री ने बजट पेश किया। इन प्रधानमंत्रियों में जवाहरलाल नेहरू, इंदिरा गांधी और राजीव गांधी का नाम शामिल है। 

Live Budget 2018 News - आम बजट 2018 से जुड़ी हर खबर​

 

क्‍या रही वजह 

प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने 1958-59 का बजट पेश किया था। इस समय उनके पास वित्‍त मंत्री का पोर्टफोलियो था। इंदिरा गांधी की बात करें तो 1970-71 में मोरारजी देसाई के इस्‍तीफे के बाद तत्‍कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने वित्‍त मंत्री का पोर्टफोलियो संभाला और 1970-71 का बजट पेश किया। इसी तरह, राजीव गांधी सरकार में तत्‍कालीन वित्‍त मंत्री वीपी सिंह के सरकार से बाहर होने के बाद राजीव गांधी ने वित्‍त मंत्री का पोर्टफोलियो संभाला और 1987-88 का बजट पेश किया। इस तरह, अपने नाना और मां के बाद देश का बजट पेश करने वाले राजीव गांधी तीसरे प्रधानमंत्री बने।

 

 

Get Latest Update on Budget 2018 in Hindi

 

आगे पढ़ें- कौन से टैक्‍स लाए तीनों पीएम 

 

नेहरू ने लगाया था गिफ्ट टैक्‍स

जवाहरलाल नेहरू ने 1958-59 के बजट में डायरेक्‍ट टैक्‍स के तहत पहली बार गिफ्ट पर टैक्‍स का प्रावधान पेश किया। इसे ‘गिफ्ट टैक्‍स’ कहा गया। इसके तहत 10 हजार रुपए से अधिक की संपत्ति के ट्रांसफर पर गिफ्ट टैक्‍स का प्रावधान किया गया। इसमें एक छूट यह भी थी कि पत्‍नी को 1 लाख रुपए तक के गिफ्ट देने पर टैक्‍स का प्रावधान नहीं था। गिफ्ट टैक्‍स का प्रस्‍ताव पेश करते हुए बजट भाषण में नेहरू ने कहा था, ‘गिफ्ट के जरिए अपने संबंधियों या परिजनों को संपत्तियों का ट्रांसफर न केवल एस्‍टेट ड्यूटी की चोरी करने बल्कि वेल्‍थ टैक्‍स, इनकम टैक्‍स और एक्‍पेंडिचर टैक्‍स बचाने का भी जरिया है।’

 

फैक्‍ट्स 

उस समय अमेरिका, कनाडा, जापान और ऑस्‍ट्रेलिया जैसे देशों में इस तरह के टैक्‍स का प्रावधान था। इनडायरेक्‍ट टैक्‍स के तहत जवाहरलाल नेहरू ने एक्‍साइज ड्यूटी में एक बड़ा बदलाव किया। इसके तहत सीमेंट पर एक्‍साइज ड्यूटी 20 रुपए से बढ़ाकर 24 रुपए प्रति टन की गई थी। नेहरू ने 1958-59 के लिए 763.16 करोड़ रुपए के रेवेन्‍यू और 796.01 करोड़ रुपए के खर्च का एस्टिमेट पेश किया। रेवेन्‍यू अकाउंट में 32.85 करोड़ रुपए का डेफिसिट था। वहीं डिफेंस खर्च के लिए 278.14 करोड़ रुपए का एस्टिमेट रखा गया, जबकि 517.87 करोड़ रुपए का प्रावधान सिविल खर्चों के लिए रखा गया।

 

यह भी पढ़ें- बजट 2018: 'मिस्‍टर क्‍लीन' के नाम से फेमस थे यह वित्‍त मंत्री, भर दिया था सरकार का खजाना

 

आगे पढ़ें- इंदिरा गांधी ने क्‍या किया 

इंदिरा ने सिगरेट पर ड्यूटी 3% से बढ़ाकर 22% की

1970-71 में मोरारजी देसाई के इस्‍तीफे के बाद तत्‍कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने बजट पेश किया। इंदिरा बजट पेश करने वाली देश की एकमात्र महिला प्रधानमंत्री और वित्‍त मंत्री हैं। इंदिरा गांधी ने इनडायरेक्‍ट टैक्‍स में एक बड़ा फैसला किया। इसके तहत सिगरेट पर ड्यूटी 3 फीसदी से बढ़ाकर सीधे 22 फीसदी कर दी गई। इंदिरा गांधी ने बजट भाषण में कहा था कि इससे सरकार को 13.50 करोड़ रुपए की अतिरिक्‍त इनकम होगी।

 

फैक्‍ट्स 

इंदिरा गांधी ने 28 फरवरी 1970 को बजट पेश किया था। बतौर वित्‍त मंत्री इंदिरा गांधी ने प्‍लान आउटले (केंद्र, राज्‍यों और केंद्र शासित प्रदेशों) के लिए 2,637 करोड़ रुपए का प्रस्‍ताव पेश किया। यह 1960-70 से करीब 400 करोड़ रुपए अधिक था। इंदिरा गांधी ने टैक्‍स से 3,867 करोड़ रुपए की आमदनी का अनुमान पेश किया। डायरेक्‍ट टैक्‍स में इंदिरा गांधी गिफ्ट टैक्‍स के लिए संपत्ति की वैल्‍यू की अधिकतम 10,000 रुपए की लिमिट घटाकर 5,000 रुपए कर दी। यानी, 5,000 रुपए से अधिक संपत्ति को गिफ्ट करने पर उसे टैक्‍स के दायरे में लाया गया। इंदिरा गांधी ने डायरेक्‍ट टैक्‍स में इनकम टैक्‍स छूट की लिमिट 40 हजार रुपए की।

 

आगे पढ़ें- राजीव गांधी ने क्‍या किया 

 

यह भी पढ़ें- बजट 2018: इतिहास में दर्ज हो गए ये बजट, देश को मिली नई दिशा

राजीव गांधी ने पहली बार लगाया कॉरपोरेट टैक्‍स

बतौर वित्‍त मंत्री राजीव गांधी ने 1987-88 के लिए आम बजट पेश किया। उन्‍होंने पहली बार कॉरपोरेट टैक्‍स का प्रस्‍ताव पेश किया। इसे आज मिनिमम अल्‍टरनेट टैक्‍स के रूप में जाना जाता है। इस मिनिमम कॉरपोरेट टैक्‍स के तहत कंपनी की तरफ से घोषित प्रॉफिट का 30 फीसदी टैक्‍स देने का प्रावधान किया गया। राजीव गांधी ने इससे 75 करोड़ रुपए अतिरिक्‍त रेवेन्‍यु हासिल होने का अनुमान लगाया।

 

फैक्‍ट्स 

राजीव गांधी ने विदेशी यात्रा के लिए भारत में जारी वाले फॉरेन एक्‍सचेंज पर 15 फीसदी की दर से टैक्‍स लगाने का प्रावधान किया। इससे सरकार ने 60 करोड़ रुपए की अतिरिक्‍त रेवेन्‍यू का अनुमान जताया था।
राजीव गांधी ने 24,622 करोड़ रुपए केंद्रीय आउटले (खर्च) प्‍लान पेश किया। इसमें से 14,923 करोड़ रुपए का प्‍लान बजटीय सपोर्ट के जरिए रखा गया। राजीव गांधी ने बतौर वित्‍त मंत्री ने डिफेंस के लिए 1987-88 में 12,512 करोड़ रुपए का प्रावधान किया। नॉन प्‍लान खर्च के लिए 39,233 करोड़ रुपए के आकलन पेश किया था। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट