Home » Budget 2018 » Taxationइंडिया यूनियन बजट 2018 - सबसे ज्‍यादा बार बजट पेश करने वाले वित्‍त मंत्री -India Union Budget 2018: Indian finance m

बजट 2018: इस वित्‍त मंत्री ने सबसे ज्‍यादा बार पेश किया बजट, फैक्ट्रियों में आज भी चलता है इनका बनाया कानून

आजादी के बाद देश में कई ऐसे वित्‍त मंत्री हुए, जिन्‍होंने बजट के जरिए कई बड़े रिफॉर्म्‍स किए

1 of

नई दिल्‍ली. देश की इकोनॉमी को चलाने की जिम्‍मेदारी वित्त मंत्री के हाथ में होती है। वित्त मंत्री बजट के रूप में पूरे साल के लिए सरकार की कमाई और खर्चे का लेखा-जोखा संसद के जरिए देश के सामने रखते हैं। आजादी के बाद देश में कई ऐसे वित्‍त मंत्री हुए, जिन्‍होंने बजट के जरिए कई बड़े रिफॉर्म्‍स किए, जो आम आदमी के साथ-साथ इंडस्‍ट्री के लिए भी फायदेमंद साबित हुए। इन वित्‍त मंत्रियों में मोरारजी देसाई का नाम भी शामिल है। 

यह भी पढ़ें- बजट 2018: इतिहास में दर्ज हो गए ये बजट, देश को मिली नई दिशा

 

देसाई के नाम सबसे ज्‍यादा बार बजट पेश करने का भी रिकॉर्ड है। उन्‍होंने 10 बार देश का बजट पेश किया है। मोरारजी देसाई ने आठ सालाना बजट और दो इंटरिम बजट पेश किए। वित्‍त मंत्री के तौर पर अपनी पहली पारी में उन्‍होंने पांच रेग्‍युलर बजट 1959-60 से 1963-64 और एक इंटरिम बजट 1962-63 पेश किया। 
 

Live Budget 2018 News - आम बजट 2018 से जुड़ी हर खबर


वित्‍त मंत्री की अपनी दूसरी पारी में उन्‍होंने 1967-68 से 1969-70 के रेग्‍युलर बजट और एक इंटरिम बजट 1967-68 पेश किया था। इन चारों इंटरिम बजट के दौरान मोरारजी देसाई वित्‍त मंत्री के साथ-साथ इंदिरा गांधी की कैबिनेट में डिप्‍टी प्राइम मिनिस्‍टर भी थे।

 

आगे पढ़ें- देसाई के 29 फरवरी 1968 के बजट ने बदली इंडस्‍ट्री की तस्‍वीर

 

Get Latest Update on - Union Budget 2018 in Hindi

देसाई के बजट ने बदली देश की तस्‍वीर

मोरारजी रणछोड़जी देसाई ने वित्‍त मंत्री की अपनी दूसरी पारी में 29 फरवरी 1968 को बजट पेश किया। इस बजट में उन्‍होंने इंडस्‍ट्री के लिए सबसे अहम फैसला मैन्‍युफैक्‍चरिंग यूनिट्स यानी फैक्‍ट्री गेट पर एक्‍साइज डिपार्टमेंट द्वारा असेसमेंट कराने और स्टांप की अनिवार्यता खत्म करने का लिया। बजट में उन्‍होंने एलान किया कि मैन्‍युफैक्‍चररर्स के लिए सेल्‍फ-असेसमेंट का सिस्टम तैयार किया गया है। एक्‍साइज ड्यूटी के लिए सेल्‍फ-असेसमेंट का यही सिस्टम अब भी जारी है। देसाई के इस एलान से मैन्‍युफैक्‍चरर्स को हौसला मिला, जो आगे चल कर भारत के विकास के लिए अच्छा कदम साबित हुआ।
 
आगे पढ़ें- अपने जन्‍मदिन पर भी पेश किया बजट

जन्‍मदिन पर दो बार पेश किया बजट 

मोरारजी देसाई ने अपने जन्मदिन (29 फरवरी) के दिन दो बार बजट पेश किया। पहली बार 1964 को और दूसरी बार 1968 को। जन्‍मदिन पर बजट पेश करने की वजह से उनके बजट को बर्थडे बजट भी कहते हैं। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट