बिज़नेस न्यूज़ » Budget 2018 » Taxationआम बजट 2018: इम्‍प्‍लॉइज को मिल सकती है 20 लाख की टैक्स फ्री ग्रेच्युटी, बजट सेशन 2018 में बिल पास होने की उम्मीद

आम बजट 2018: इम्‍प्‍लॉइज को मिल सकती है 20 लाख की टैक्स फ्री ग्रेच्युटी, बजट सेशन 2018 में बिल पास होने की उम्मीद

पेमेंट ऑफ ग्रेच्युटी अमेंडमेंट बिल 2017 आने वाले बजट सेशन में पास किया जा सकता है।

1 of

नई दिल्ली. पेमेंट ऑफ ग्रेच्युटी अमेंडमेंट बिल 2017 आने वाले budget 2018 सेशन में पास किया जा सकता है। इस बिल के पास हो जाने के बाद फॉर्मल सेक्टर के कर्मचारी 20 लाख रुपए की टैक्स फ्री ग्रेच्युटी पाने के हकदार होंगे। मौजूदा समय में फॉर्मल सेक्टर के ऐसे कर्मचारी जिनका सर्विस पीरियड 5 साल से ज्यादा हो चुका है, नौकरी छोड़ने के बाद या रिटायरमेंट के समय 10 लाख रुपए की टैक्स फ्री गैच्युटी पाने के हकदार होते हैं।

 

Live Budget 2018 News - आम बजट 2018 से जुड़ी हर खबर

 

Budget 2018 - सरकार बिल के पक्ष में 

- सोर्सेस के मुताबिक, "पेमेंट ऑफ ग्रेच्युटी (अमेंडमेंट) बिल, 2017 को संसद के बजट सेशन में पास किया जा सकता है। बजट सेशन की शुरुआत इस महीने के अंत में होने वाली है। सरकार चाहती है कि वो फॉर्मल सेक्टर में काम करने वाले कर्मचारियों को 20 लाख रुपए की टैक्स फ्री गैच्युटी दी जाए।"

 

बजट 2018 : रेंटल हाउसिंग पर हो फोकस, लोकल बॉडीज को किया जाए मजबूत

 

Budget 2018 - विंटर सेशन में पेश हुआ था बिल

- लोकसभा के विंटर सेशन में लेबर मिनिस्टर संतोष कुमार गंगवार ने 18 दिसंबर 2017 को पेमेंट ऑफ ग्रेच्युटी अमेंडमेंट बिल 2017 पेश किया था। अगर यह बिल पास हो जाता है तो सरकार को टैक्स फ्री गैच्युटी की रकम तय करने के लिए इसे फिर से पास करवाने की जरूरत नहीं होगी। यह बिल सरकार को मैटरनिटी लीव और ग्रैच्युटी की समयसीमा को नोटिफाई करने की इजाजत देगा, जिसका फायदा सेंट्रल गवर्नमेंट के कर्मचारियों की ओर से उठाया जा सकता है। 

 

पेमेंट ऑफ ग्रेच्‍युटी एक्ट-1972 इनके लिए किया था लागू 

- पेमेंट ऑफ ग्रेच्‍युटी एक्ट, 1972 को फैक्ट्रियों, माइंस, ऑयलफील्ड, प्लांटेशन, पोर्ट, रेलवे कंपनियों, दुकानों या अन्य ऑर्गनाइजेशंस में नौकरी करने वाले कर्मचारियों के लिए लागू किया गया था। यह 10 या अधिक कर्मचारियों वाले प्रतिष्ठान में कम से कम 5 साल की नौकरी पूरी करने वाले कर्मचारियों पर लागू है। 

 

बजट 2018: इलेक्‍ट्रि‍क व्‍हीकल पार्ट्स के इंपोर्ट मि‍ले सपोर्ट, आरएंडडी पर मि‍ले इन्‍सेंटि‍व

 

मैटरिनिटी लीव को 26 हफ्ते किया जाएगा

- मैटरनिटी बेनेफिट (अमेंडमेंट) एक्ट, 2017 के जरिए मैटरिनिटी लीव को 12 सप्ताह से बढ़ाकर अधिकतम 26 हफ्ते किया जा सकता है। ग्रेच्युटी की रकम नौकरी के प्रत्येक वर्ष के लिए 15 दिन के वेतन के आधार पर तय की जाती है। इसकी अधिकतम सीमा अभी 10 लाख रुपए है, जो 2010 में तय की गई थी।

 

Get latest update on - Union Budget 2018 in Hindi

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट