Home » Budget 2018 » Market/Investorआम बजट 2018 - डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स खत्म कर सकती है सरकारः EY

आम बजट 2018 - डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स खत्म कर सकती है सरकारः EY

वित्त मंत्रालय आम बजट 2018 में शेयरहोल्डर्स को मिले डिविडेंड पर टैक्स लगाने और डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स

1 of

नई दिल्ली. वित्त मंत्रालय आम बजट 2018 में शेयरहोल्डर्स को मिले डिविडेंड पर टैक्स लगाने और डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स (डीडीटी) खत्म करने पर विचार कर सकता है। अर्न्स्ट एंड यंग (ईवाई) ने यह अनुमान व्यक्त किया है। वित्त मंत्री अरुण जेटली 1 फरवरी को  आम बजट पेश करेंगे।

Live Budget 2018 News - आम बजट 2018 से जुड़ी हर खबर

 

डीडीटी से बढ़ीं कंपनियों की मुश्किलें

अपनी प्री बजट उम्मीदों में ईवाई ने कहा कि ऊंची दर, नहीं चुकाने पर मुकदमेबाजी जैसे कई फैक्टर्स के कारण डीडीटी कंपनियों के लिए मुश्किलों भरा हो गया है। साथ ही लगाए गए कैपिटल पर रिटर्न खासा कम हो गया है।

 

बजट के ठीक पहले मोदी के लिए आई बुरी खबर, 4 साल के निचले स्तर पर आ सकती है GDP

 

स्लोडाउन का जोखिम नहीं उठा सकती सरकार

ईवाई इंडिया पार्टनर और नेशनल लीडर (बिजनेस टैक्स सर्विसेज) गरिमा पांडे ने कहा, 'स्टॉक मार्केट में अच्छी तेजी बनी हुई है और सरकार इक्विटीज मार्केट पर लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन टैक्स लगाकर स्लोडाउन का जोखिम नहीं ले सकती है।'

 

कॉर्पोरेट टैक्स की ऊंची दर से कॉम्पिटीशन क्षमता हुई कमजोर

बजट 2015-16 में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा था कि भारत में कॉर्पोरेट टैक्स की बेसिक रेट 30 फीसदी है, जो दूसरी बड़ी एशियाई इकोनॉमीज की मौजूदा दरों से ज्यादा है। इससे डॉमेस्टिक इंडस्ट्री की कॉम्पिटीशन की क्षमता कमजोर होती जा रही है और इसे अगले 4 साल में 25 फीसदी से नीचे लाया जाएगा।

 

बजट 2018: जेटली जी! मोदी के बनारस को चाहिए टैक्‍स में राहत और सस्‍ता लोन

 

कॉर्पोरेट इनकम टैक्स रेट कम होने की संभावना नहीं

पांडे ने कहा, 'राजकोषीय तंगी और जीएसटी कलेक्शन में गिरावट के चलते कॉर्पोरेट इनकम टैक्स रेट में कमी संभव नहीं दिखती। हालांकि सरकार डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स में कमी और शेयरहोल्डर्स को मिलने वाले डिविडेंड पर टैक्सेशन की पुरानी व्यवस्था को बहाल करके प्रभावी कॉर्पोरेट टैक्स रेट को व्यावहारिक बना सकती है।'

 

Get latest update on - Budget 2018 in Hindi

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट