बिज़नेस न्यूज़ » Budget 2018 » Consumerबजट 2018 : जानें क्‍या हुआ सस्‍ता, कि‍सके देने होंगे ज्‍यादा दाम

बजट 2018 : जानें क्‍या हुआ सस्‍ता, कि‍सके देने होंगे ज्‍यादा दाम

चुनिंदा चीजों पर कस्‍टम ड्यूटी बढ़ाने के अलावा सोशल वेलफेयर सराचार्ज भी लगा दि‍या है।

1 of

नई दि‍ल्‍ली। बजट 2018 में सरकार ने मेक इन इंडि‍या को बढ़ावा देने के लि‍ए चुनिंदा चीजों पर कस्‍टम ड्यूटी बढ़ाने के अलावा सोशल वेलफेयर सरचार्ज भी लगा दि‍या है। इंपोर्टेड मोबाइल फोन, कार, बाइक के अलावा कई वि‍देशों से आने प्रोडक्‍ट्स पर लगने वाली कस्‍टम ड्यूटी को बढ़ा दि‍या गया है। ऐसे में आने वाले दि‍नों में इनकी कीमतें बढ़ सकती हैं। हालांकि‍, कुछ चीजें ऐसी भी हैं इनके दाम कम हो सकते हैं।

 

इंपोर्ट होने वाले कई इडिबिल ऑयल होंगे महंगे


अब इंपोर्ट होने वाले कई इडिबिल ऑयल महंगे हो जाएंगे। बजट में ग्राउंडनट ऑयल, सैफफ्लॉवर सीड ऑयल जैसे क्रूड इडिबिल ऑयल पर कस्टम ड्यूटी 12.5 फीसदी से बढ़ाकर 30 फीसदी कर दी गई। वहीं रिफाइंड इडिबल वेजिटेबल ऑयल पर ड्यूटी 20 से बढ़ाकर 35 फीसदी कर दी गई।

 

पेट्रोल-डीजल पर घटी एक्साइज ड्यूटी, लेकिन लगाया 8 रु. रोड सेस


पेट्रोल-डीजल के मोर्चे पर सरकार ने बजट में बहुत ज्‍यादा राहत नहीं दी। इस बार के बजट में एक तरफ सरकार ने जहां पेट्रोल-डीजल की पर लगने वाली एक्‍साइज ड्यूटी 2 रुपए और अतिरिक्‍त एक्‍साइज ड्यूटी को 6 रुपए घटा दिया, वहीं दूसरी ओर 8 रुपए प्रति लीटर का रोड सेस लागू कर दिया।

 

सरकार के इस फैसले से पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कोई बदलाव नहीं होने की संभावना है। इस वक्‍त पेट्रोल और डीजल की कीमतें आसमान छू रही हैं। मुंबई में पेट्रोल 80 रुपए प्रति लीटर के आंकड़े को पार कर गया है। ऐसे में सरकार के इस फैसले से राहत की उम्‍मीद न के बराबर है। बता दें कि पेट्रोलियम मंत्रालय ने वित्‍त मंत्रालय को सौंपे अपने प्रीबजट मेमोरेंडम में पेट्रोल और डीजल पर एक्‍साइज ड्यूटी घटाने का प्रस्‍ताव रखा था। 

 

 

क्‍या हुआ महंगा

 

-टेलीवि‍जन पार्ट्स पर लगने वाली कस्‍टम ड्यूटी को बढ़ाकर 15 फीसदी कि‍या।
-मोबाइल फोन के पार्ट्स पर लगने वाली कस्‍टम ड्यूटी को 15 फीसदी से बढ़ाकर 20 फीसदी कि‍या।
-फुटवेयर पार्ट्स की कस्‍टम ड्यूटी को 10 फीसदी से 20 फीसदी तक बढ़ाया।
-फुटवेयर पर कस्‍टम ड्यूटी 15 फीसदी से 20 फीसदी तक बढ़ाई।
-गोल्‍ड के इंपोर्ट पर 3 फीसदी का सोशल वेलफेयर सरचार्ज।
-चांदी के इंपोर्ट पर 3 फीसदी का सोशल वेलफेयर सरचार्ज।
-सनग्‍लास

-इंपोर्टेड डायमंड - कस्‍टम ड्यूटी को दोगुना कि‍या।

-इंपोर्टेड एलईडी

-इंपोर्टेड परफ्यूम

-सि‍गरेट

-पान मसाला

-तंबाकू

-सि‍ल्‍क फैब्रि‍क

-ट्रक बस रेडि‍अल टायर - इंपोर्टेड ट्रक्‍स और बस रि‍डअल टायर्स पर लगने वाली ड्यूटी को 10 फीसदी से बढ़ाकर 15 फीसदी कि‍या गया।

-वीडि‍यो गेम कंसोल

-इंपोर्टेड स्‍मार्ट वॉच और वॉच

-ऑरेंज फ्रूट जूस

-इंपोर्टेड कार और बाइक - कम्‍पलि‍टली नॉक डाउन (CKD) पर लगने वाली कस्‍टम ड्यूटी को 10 फीसदी से 15 फीसदी तक कर दि‍या है। वहीं, मोटर व्‍हीकल्‍स के कम्‍पलि‍टली बि‍ल्‍ड यूनि‍ट (CBU) इंपोर्ट को 20 फीसदी से बढ़ाकर 25 फीसदी कर दि‍या गया है।

 

क्‍या हुआ सस्‍ता

 

-काजू 
-एलएनजी

-नि‍केल - बेसि‍क कस्‍टम ड्यूटी को शून्‍य कि‍या गया।

-टाइल्‍स

-मोबाइल चार्जर

-सोलर टेम्‍पर्ड ग्‍लास (सोलर पैनल को बनाने में यूज होता है) - इस पर बेसि‍क कस्‍टम ड्यूटी को 5 फीसदी से घटाकर शून्‍य कर दि‍या गया है।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट