Home » Budget 2018 » ConsumerBudget 2018 : Phones will be expensive, Apple will have the biggest impact

बजट-2018 : महंगे होंगे वि‍देश में बनने वाले फोन, एप्‍पल पर पड़ेगी सबसे ज्‍यादा मार

बजट में मोबाइल फोन पर कस्टम ट्यूटी को 15 फीसदी से बढ़ाकर 20 फीसदी करने की घोषणा की गई है

Budget 2018 : Phones will be expensive, Apple will have the biggest impact
 
नई दि‍ल्‍ली. केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने गुरुवार को 2018-19 का बजट पेश किया। इसमें मोबाइल फोन पर कस्टम ट्यूटी को 15 फीसदी से बढ़ाकर 20 फीसदी करने की घोषणा की गई है। इसके चलते अब भारत में आयात होने वाले ब्रांड के स्मार्टफोन पर 20 फीसदी सीमा शुल्क लगेगा। इससे ऐप्पल जैसे बड़े ब्रांड के स्मार्टफोन भारत में अब पहले से ज्यादा महंगे हो जाएंगे। जानकारों का मानना है कि कस्टम ड्यूटी में हुई इस बढ़त से सबसे ज्‍यादा असर ऐप्‍पल पर पड़ेगा। क्‍योंकि‍ सि‍र्फ एेप्‍पल के ही 90 फीसदी फोन इंपोर्ट होते हैं। जबकि‍ अन्‍य सभी कंपनि‍यां चाहे सैमसंग हो, शाआेमी हो, वनप्‍लस हो सभी के 90 फीसदी फोन भारत में ही मैन्‍युफैक्चर होते हैं। 
 
आईडीसी के सीनि‍यर मार्केट एनालि‍स्‍ट जयपाल सि‍ंह ने बताया कि‍ इसकी उम्‍मीद पहले से की जा रही थी कि‍ सरकार मेक इन इंडि‍या को बढ़ावा देने के लि‍ए कस्‍टम ड्यूटी को और बढ़ा सकती है। ऐसे में सीमा शुल्क में हुई इस बढ़ोत्तरी के बाद अब कुछ कंपनियां लोकल उत्पादन इकाइयों का सहारा लेंगी और लोकल असेंबलिंग बढ़ाएंगी। इस फैसले से ऐप्‍पल जैसे प्रीमियम फोन वाले बड़े ब्रांड प्रभावित होंगे, जो आयात पर खासा निर्भर हैं। लेकिन यह कदम स्थानीय कंपनियों के लिए फायदेमंद साबित होगा। हालांकि‍, इस फैसले से भारतीय स्मार्टफोन निर्माताओं को बहुत ज्यादा फायदा होने की उम्‍मीद कम ही है। क्योंकि ज्यादातर भारतीय कंपनियां इनोवेशन और गुणवत्ता के मामले में विदेशी ब्रांड से मात खा जाती हैं।  
 
वि‍देश में बनने वाले प्रोडक्‍ट पर पड़ेगा असर 
 
कस्टम ड्यूटी बढ़ने का सबसे ज्‍यादा असर मुख्य तौर पर विदेश में बनने वाले इलेक्ट्रॉनिक और दूसरे प्रोडक्‍ट्स पर पड़ेगा। इस कदम को उठाने के पीछे सरकार की मंशा स्‍वदेशी को बढ़ावा और मेक इन इंडि‍या को बढ़ावा देने की है। बता दें कि देश के भीतर निर्मित स्मार्टफोन इस बढ़ी फीस के दायरे में नहीं आएंगे। ऐसे में इनकी कीमतें कम ही रहेंगी। 
 
8 महीने में 10 फीसदी बढ़ी कस्‍टम फीस 
 
सरकार ने पिछले साल जुलाई में ही आयातित होने वाले उपकरणों पर 10 फीसदी सीमा शुल्क लागू किया था। इसे बाद में बढ़ाकर 15 फीसदी कर दिया गया था और अब बजट में कस्‍टम फीस को बढ़ाकर 20 फीसदी कर दि‍या गया है। 
 
iPhone पर पड़ेगी सबसे ज्‍यादा मार 
 
आपको बता दें कि शाओमी और सैमसंग की भारत में पहले से ही निर्माण इकाई स्थापित हैं। जहां से कई स्मार्टफोन निकले हैं। वहीं, ऐप्पल की बात करें तो कंपनी भारत में सिर्फ iPhone SE का ही निर्माण करती है। हालांकि खबरें हैं कि ऐप्पल iPhone 6S का निर्माण भी भारत में जल्द शुरू कर सकता है। वहीं, कस्‍टम फीस बढ़ाने के इस कदम से वीवो, हुवावे और ओप्पो जैसी कंपनियां भी प्रभावित होंगी। 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट