बिज़नेस न्यूज़ » Budget 2018 » Consumerआम बजट 2018: अब तक के 10 सबसे लंबे बजट भाषण, मनमोहन सिंह सब पर भारी

आम बजट 2018: अब तक के 10 सबसे लंबे बजट भाषण, मनमोहन सिंह सब पर भारी

देश में आजादी के ठीक बाद के बजट भाषण जहां छोटे हुआ करते थे वहीं आजादी के बाद के बजट भाषण लगातार बड़े होते चले गए।

1 of

नई दिल्‍ली. यूं तो बजट बेहद नीरस विषय माना जाता है और इसमें कम लोग ही रुचि लेते हैं। हालांकि इसके बाद भी इसमें कुछ रोचक बातें होती हैं। देश के वित्‍त मंत्रियों के बजट भाषण की लंबाई, उनकी शेर-ओ-शायरी और हाजिर जवाबी खासी चर्चा में रहती है। अगर लंबे बजट भाषणों (शब्‍दों के हिसाब से) की बात की जाए तो पूर्व राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी अपने वित्‍त मंत्री कार्यकाल में इस मामले में काफी चर्चित रहे। उनके एक लंबे बजट भाषण पर तत्‍कालीन पीएम इंदिरा गांधी ने कहा था कि सबसे छोटे कद के वित्‍त मंत्री ने सबसे लंबा बजट भाषण दिया है। 

 

हालांकि प्रणब मुखर्जी ने अब तक का सबसे लंबा बजट भाषण पेश नहीं किया है। इस मामले में बाजी मारी है पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने। मनमोहन सिंह ही वह वित्‍त मंत्री रहे, जिन्‍होंने भारतीय इतिहास का सबसे लंबा बजट भाषण दिया। वहीं सबसे छोटा बजट भाषण देने का रिकॉर्ड जसवंत सिंह के नाम है। 

 

Live Budget 2018 News - आम बजट 2018 से जुड़ी हर खबर

 

देश में आजादी के ठीक बाद के बजट भाषण जहां छोटे हुआ करते थे वहीं आजादी के बाद के बजट भाषण लगातार बड़े होते चले गए। सबसे ज्‍यादा बार लंबे बजट भाषण देने के मामले में यशवंत सिन्‍हा सबसे आगे रहे। टॉप 10 की लिस्‍ट में चार बार सिर्फ उन्‍हीं का नाम आता है। आइए आपको बताते हैं भारत के इतिहास के अब तक के 10 सबसे लंबे बजट भाषणों के बारे में- 

 
नोट: खबर में जिन लंबे भाषणों का जिक्र किया गया है वो शब्‍दों के आधार पर हैं। पैराग्राफ के हिसाब से बात की जाए तो यह लिस्‍ट अलग हो जाती है। उस आधार पर प्रणब मुखर्जी सबसे आगे दिखाई पड़ते हैं। 

 

आगे पढ़ें- कितने शब्‍दों का था अब तक का सबसे लंबा बजट भाषण 

 

यह भी पढ़ें- आम बजट 2018: क्‍यों खास है इस बार का बजट

मनमोहन सिंह 

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के पास सबसे लंबा बजट भाषण देने का रिकॉर्ड है। जुलाई 1991 में वित्त मंत्री के तौर पर दिया गया उनका भाषण 18,650 शब्दों का था। यह अपने आप में रिकॉर्ड है।

 

आगे पढ़ें- कौन है दूसरा

 

यह भी पढ़ें- इकोनॉमिक सर्वे ने तय किया मोदी सरकार का एजेंडा, नौकरी-पढ़ाई और खेती पर करना होगा फोकस

अरुण जेटली 

भारतीय इतिहास का दूसरा सबसे लंबा बजट भाषण देने का रिकॉर्ड मौजूदा वित्त मंत्री अरुण जेटली के नाम है। जुलाई 2014 में उनकी ओर से दिया गया बजट भाषण 16,528 शब्दों का रहा।

 

आगे पढ़ें- कौन है तीसरा

 

यह भी पढ़ें- सुनिए वित्‍त मंत्री जी पोल रिजल्‍ट: 45% को इनकम टैक्‍स में छूट तो 23 फीसदी को चाहिए सस्‍ता पेट्रोल

एनडी तिवारी 

तीसरे सबसे लंबे बजट भाषण का रिकॉर्ड एनडी तिवारी के नाम है। फरवरी 1988 में दिया गया उनका बजट भाषण 16,419 पेज का था।

 

आगे पढ़ें- चौथे नंबर पर कौन 

वीपी सिंह 

इतिहास के चौथे बजट भाषण का रिकॉर्ड पूर्व पीएम वीपी सिंह के नाम है। राजीव गांधी सरकार में वित्त मंत्री के तौर पर वर्ष 1986 में उन्होंने 16,110 शब्दों का भाषण दिया।

 

आगे पढ़ें- पांचवां कौन

यशवंत सिन्‍हा

वरिष्ठ भाजपा नेता यशवंत सिन्हा ने भारतीय इतिहास का पांचवां सबसे लंबा बजट भाषण दिया। फरवरी 2002 में उनकी ओर से दिया गया बजट भाषण 16,029 पेज का रहा।

 

आगे पढ़ें- यशवंत सिन्‍हा ही हैं अगले 

छठां रिकॉर्ड भी यशवंत सिन्‍हा के नाम 

छठां सबसे लंबा बजट भाषण देने का रिकॉर्ड भी यशवंत सिन्हा के पास ही है। जून 1998 में उनकी ओर से दिया गया बजट भाषण 15,589 शब्दों का रहा।

 

आगे पढ़ें- कौन है सातवां 

आरके षनमुखम 

सातवां सबसे लंबा बजट भाषण देने का रिकॉर्ड देश के पहले वित्त मंत्री आरके षनमुखन के नाम है। 1948 में उनकी ओर से पेश बजट 15,508 शब्दों का रहा।

 

आगे पढ़ें- अगले पायदान पर किसका भाषण 

जसवंत सिंह

आठवां सबसे लंबा बजट भाषण देने का रिकॉर्ड जसवंत सिंह के नाम है। फरवरी 2003 में उनकी ओर से दिया गया बजट भाषण 15,173 शब्दों का रहा।

 

आगे पढ़ें- नौवें नंबर पर कौन 

यशवंत सिन्‍हा फिर हैं लिस्‍ट में 

नौवां सबसे लंबा बजट भाषण देने का रिकॉर्ड भी यशवंत सिन्हा के नाम है। फरवरी 2001 में उनकी ओर से दिया गया बजट भाषण 15,173 शब्दों का रहा।

 

आगे पढ़ें- दसवें पायदान पर कौन 

पूर्व राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी 

मौजूदा राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की ओर से 1982 में दिया गया बजट भाषण 10वां सबसे लंबा बजट भाषण है। इंदिरा सरकार के वित्त मंत्री के रूप में प्रणब दा ने 14,796 शब्दों का भाषण दिया था।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट