Home » Budget 2018 » ConsumerIndia Union Budget 2018 - पॉपुलिस्ट नहीं होगा बजट 2018, चुनाव जीतने के लिए पीएम ने कभी ऐसा नहीं कियाः नीति आयोग-NITI Aayog

बजट 2018: पॉपुलिस्ट नहीं होगा बजट, चुनाव के लिए PM ने कभी ऐसा नहीं कियाः नीति आयोग

नीति आयोग के वाइस चेयरमैन राजीव कुमार ने आम बजट 2018-19 के पॉपुलिस्ट होने की संभावनाओं को सिरे से खारिज कर दिया।

1 of

नई दिल्ली. नीति आयोग के वाइस चेयरमैन राजीव कुमार ने आम बजट 2018-19 के पॉपुलिस्ट यानी लोकलुभावन होने की संभावनाओं को सिरे से खारिज कर दिया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वित्त मंत्री अरुण जेटली मिले सुझावों पर विचार करते हैं, लेकिन यदि किसी को लगता है कि यह बजट पॉपुलिस्ट होगा तो यह गलत है। उन्होंने कहा कि पीएम ने चुनाव जीतने के लिए कभी ऐसा नहीं किया।

 

Live Budget 2018 News - आम बजट 2018 से जुड़ी हर खबर

 

यह भी पढ़ें-बजट के ठीक पहले मोदी के लिए बुरी खबर, 4 साल के निचले स्तर पर आ सकती है GDP

 

जीडीपी ग्रोथ में सुस्ती के अनुमान पर क्या कहा..

हाल में नीति आयोग के वीसी ने कहा था कि पिछली तीन तिमाहियों से देश की इकोनॉमिक एक्टिविटीज रफ्तार पकड़ रही हैं और 2018-19 में जीडीपी की ग्रोथ रेट ज्यादा तेज रहेगी। कुमार सीएसओ के चालू वित्त वर्ष में जीडीपी की ग्रोथ रेट 6.5 प्रतिशत रहने के अनुमान पर प्रतिक्रिया दे रहे थे।

उन्होंने कहा कि चालू वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में जीडीपी ग्रोथ 7 फीसदी रहने का अनुमान है। इससे पूरे वर्ष की वृद्धि दर 6.5 फीसदी रहेगी। साल 2018-19 में जीडीपी की ग्रोथ रेट और रफ्तार पकड़ेगी।

 

यह भी पढ़ें-बजट 2018 - लेने जा रहे हैं ये फैसले तो करें 1 फरवरी का इंतजार, हो सकता है फायदा

 

1991-92 की 1.1 फीसदी ग्रोथ की दिलाई याद

कुमार ने कहा कि 1991-92 में जब मनमोहन सिंह ने रिफॉर्म्‍स की शुरुआत की थी, तब हमारी जीडीपी ग्रोथ 1.1 फीसदी ही रह गई थी। उसकी तुलना में यह एक उपलब्धि है कि जीएसटी और नोटबंदी जैसे बड़े बदलावों के बावजूद हमारी जीडीपी में उतनी कमी नहीं आई।

उधर, आधिकारिक आंकड़े बता रहे हैं कि पिछले साल के मुकाबले इस साल देश की इकोनॉमी सुस्त रहने का अनुमान है। कुमार का यह बयान चीफ स्टैटिस्टीशियन टीसीए अनंत की ओर से जीडीपी के एडवांस एस्टीमेट की घोषणा करने के बाद आया।

अनंत ने कहा था कि भारत की इकोनॉमी की रफ्तार 2017-18 में धीमी रहेगी और ग्रोथ रेट पिछले साल 2016-17 में दर्ज की गई 7.1 फीसदी के मुकाबले इस साल 6.5 फीसदी रहेगी।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट