विज्ञापन
Home » Auto » Industry/ TrendsThe proposal to levy uniform vehicle registration tax across the country will not be re-registered one state to another state

योजना / देशभर में एक समान व्हीकल रजिस्ट्रेशन टैक्स, दोबारा नहीं कराना पड़ेगा रजिस्ट्रेशन 

व्हीकल की खरीद फोरख्त को आसान बनाने के लिए सड़क परिवहन मंत्रालय ला रहा है प्रस्ताव   

The proposal to levy uniform vehicle registration tax across the country will not be re-registered one state to another state
  • 10 लाख से कम कीमत के व्हीकल पर 8 प्रतिशत टैक्स लगाने का प्रस्ताव है।
  • 10 से 20 लाख की कीमत वाले व्हीकल पर 10 प्रतिशत टैक्स का प्रस्ताव है।
  • 20 लाख से ज्यादा महंगे व्हीकल पर 12 प्रतिशत टैक्स लगाया जा सकता है। 

नई दिल्ली. केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय वाहनों की खरीद फरोख्त की प्रक्रिया को आसान बनाने के प्रस्ताव पर काम कर रहा है। इसके तहत वाहनों को एक राज्य से खरीदकर दूसरे राज्य ले जाने पर दोबारा से रजिस्ट्रेशन नहीं कराना होगा और व्हीकल नंबर प्लेट भी नहीं बदलनी होगी। इसके अलावा देशभर में एक समान रजिस्ट्रेशन टैक्स लगाने पर विचार चल रहा है। 

ये हो सकती हैं टैक्स की दर 

मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक देशभर में एक समान टैक्स लागू करने का विचार हो रहा है। इसके अंतर्गत 10 लाख से कम कीमत के व्हीकल पर 8 प्रतिशत टैक्स लगाने का प्रस्ताव है। वहीं, 10 से 20 लाख की कीमत वाले व्हीकल पर 10 प्रतिशत टैक्स, 20 लाख से ज्यादा महंगे व्हीकल पर 12 प्रतिशत टैक्स लगाया जा सकात है। प्रस्ताव अभी अपने शुरुआती दौर में है, जिसे लेकर मंत्रालयों के बीच बातचीत का दौर जारी है। 

कम टैक्स वाले राज्यों में ज्यादा कार की बिक्री 

सड़क परिवहन मंत्रालय ने मामले में राज्य सरकारों को पत्र लिखकर सभी राज्यों में एक समान रजिस्ट्रेशन टैक्स लगाने लागू करने के प्रस्ताव पर सुझाव मांगे हैं। मौजूदा दौर के ट्रेंड देखें, तो व्हीकल की बिक्री उन राज्यों में ज्यादा होती है, जहां टैक्स कम रहता है। इससे कार और अन्य व्हीकल ग्राहक को सस्ते पड़ते हैं। 

आरटीओ से लेनी होती है एनओसी 

मौजूदा वक्त में अगर वाहन को एक शहर से दूसरे शहर शिफ्ट किया जाता है, तो ओनर को वाहन री-रजिस्टर्ड कराना होता है। साथ ही रीजनल ट्रांसपोर्ट ऑफिस (RTO) से एनओसी लेनी होती है, जहां वाहन का रजिस्ट्रेशन होता है। साथ ही दोबारा टैक्स देना होता है। साथ ही नया नंबर दिया जाता है। हर एक राज्य और क्षेत्र का अपना व्हीकल नंबर होता है। उदाहरण के लिए दिल्ली का नंबर DL से शुरू होता है, जबकि उत्तर प्रदेश का नंबर UP से शुरू होता है। 

बिना रजिस्ट्रेशन दूसरे राज्य में वाहन चलाने पर लग सकता है जुर्माना 

देश में कई सारे व्हीलक ओनर ऐसे है, जो बिना बिना रजिस्ट्रेशन के दूसरे राज्यों में अपने वाहन को चलाते हैं। ऐसे में ओनर पर ट्रैफिक पुलिस की ओर से जुर्माना लगाए जाने का रिस्क रहता है। ऐसा इसलिए क्योंकि हर एक स्टेट का व्हीकल रजिस्ट्रेशन अलग होता है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss