विज्ञापन
Home » Auto » Industry/ TrendsKnow these four things about car insurance, then get good insurance cover

ऑटो / कार इंश्योरेंस लेते वक्त 4 बातों का रखेंगे ख्याल, तो मिलेगा अच्छा बीमा कवर

मोटर व्हीकल एक्ट 1988 के मुताबिक सभी कार ओनर के पास थर्ड पार्टी इंश्योरेंस कवर होना चाहिए।

Know these four things about car insurance, then get good insurance cover
  • कार खरीदते वक्त अगर आप इंश्योरेंस में एड ऑन कवर लेते हैं, तो आपकी इंश्योरेंस पॉलिसी का कवर बढ़ जाता है।

नई दिल्ली. मोटर व्हीकल एक्ट 1988 के मुताबिक सभी कार ओनर के पास थर्ड पार्टी इंश्योरेंस कवर होना चाहिए। इस मिनिमम प्रोडेक्शन के बगैर कोई भी व्हीकल नहीं चला सकते हैं। इसके बगैर व्हीकल चलाने पर आप पर जुर्माना लगाया जा सकता है। इंश्योरेंस होने की स्थिति में कार डैमेज पर नियम और शर्तों के आधार पर बीमा कवर मिलता है। मार्केट में मौजूद बेहतर इंश्योरेंस के बारे में जानने के लिए मनी भास्कर ने गिरनार इंश्योरेंस ब्रोकर प्राइवेट लिमिटेड (Girnar Insurance Broker Pvt Ltd) के डायरेक्टर अंकित अग्रवाल से बातचीत की।

राइट कार/ ट्रिम लेवल

जब आप कोई कार पसंद करते हैं, तब आप उसके वैरिएंट और इंश्योरेंस कॉस्ट को देखते हैं। ज्यादातर मामलों में अगर आप ज्यादा हाई ट्रिम कार लिस्ट में जाएंगे, तो इंश्योरेंस कॉस्ट में अंतर मिलेगा। मतलब अगर आप मर्जिडीज बेंच या फिर कोई महंगी गाड़ी खरीदते हैं, तो आपको महंगा इंश्योरेंस लेना पड़ेगा। ऐसा इसलिए क्योंकि इंश्योरेंस में कार की कीमत, उसके महंगे पार्ट क देखा जाता है। ज्यादा ट्रिम इंश्योरेंस क्लेम को कम कर देता है।

इंश्योरेंस के प्रकार

कार खरीदते समय दो तरह का इंश्योरेंस ले सकते हैं। एक कॉम्प्रिहेंसिव पॉलिसी के साथ एक लायबिलिटी पॉलिसी को जोड़ा जा सकता है। कॉम्प्रिहेंसिव पॉलिसी में आमतौर पर एक सीमित वक्त के बाद गाड़ी की कीमत से कम इंश्योरेंस कवर मिलता है। हाालंकि जीरो डेप्रिसिएशन पॉलिसी में एक सीमित वक्त के बाद भी कार की पूरी कीमत के बराबर इंश्योरेंस कवर मिलता है। यह इंश्योरेंस 5 से 7 साल के लिए होता है। ऐसे में अगर आप कभी-कभी कार का इस्तेमाल करते हैं, तो आपके लिए कॉम्प्रिहेंसिव पॉलिसी लेना बेहतर होगा, जबकि रोजाना इस्तेमाल वालों के लिए जीरो जीरो डेप्रिसिएशन पॉलिसी लेना चाहिए।

एड ऑन कवर

कार खरीदते वक्त अगर आप इंश्योरेंस में एड ऑन कवर लेते हैं, तो आपकी इंश्योरेंस पॉलिसी का कवर बढ़ जाता है।  एड ऑन कवर में आप व्हीकल के किसी खास पार्ट का इंश्योरेंस ले सकते हैं। जैसे अगर आपकी कार पानी में डूब गई और इंजन खराब हो गया हैं, तो इसके लिए एड ऑन कवर आते हैं।

सेफ्टी फीचर्स पर अच्छा इंश्योरेंस

अगर आपकी कार में एंटी थेफ्ट इक्यूपमेंट (चोरी से बचने के उपकरण) लगे हैं, तो इंश्योरेंस कंपनियां से अच्छे टर्म एडं कंडीशन पर बढ़िया प्रोटेक्शन इंश्योरेंस हासिल कर सकते हैं। जिन कारों में ऑटोमोटिव रिसर्च एसोसिएशन ऑफ इंडिया (ARAI) से प्रमाणित सेंट्रल लॉकिंग, इमोबिलाइजर जैसे उपकरण लगे हैं, तो आप कम प्रीमियम में बेहतर इंश्योरेंस कवर पा सकते हैं। क्योंकि सेफ्टी फीचर्स आपकी कार को चोरी की संभावनाओं को कम करते हैं।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss