• Home
  • ऑटो
  • About 800 vehicles made daily in India buy Yamaha now company crossed the 10 million mark in 34 years

सफलता /Yamaha ने भारत में रोजाना बनाए करीब 800 वाहन, 34 साल में कंपनी ने पार किया एक करोड़ का आंकड़ा 

  • साल 2012 में इसी कारखान में 50 लाख वाहन निर्माण का पड़ाव पार किया। 
  • 2012 में ही कंपनी ने Ray मॉडल का पहला स्कूटर उतारा था।

Money Bhaskar

May 14,2019 05:27:00 PM IST

नई दिल्ली. यामाहा मोटर ने भारत में 34 साल पहले 1985 में कदम रखा था। कंपनी ने तब से लेकर आज तक एक करोड़ वाहन बनाने का पड़ाव पार किया। कंपनी ने भारत में सूरजपुर, फरीदाबद और चेन्नई की तीन फैक्ट्रियों से हर दिन औसतन 800 वाहनों का निर्माण किया। इस दौरान कंपनी की यमाहा मोटरसाइकिल के FZS-FI वर्जन 3.0 मॉडल को बेस्ट सेलिंग का अवार्ड मिला।

कंपनी का भारत में सफर

  • यमाहा कंपनी ने साल 1999 में सूरजपुर कारखाने में 10 लाख वाहन निर्माण का आंकड़ा हासिल किया।
  • साल 2012 में इसी कारखान में 50 लाख वाहन निर्माण का पड़ाव पार किया।
  • 2012 में ही कंपनी ने Ray मॉडल का पहला स्कूटर उतारा था।
  • कंपनी के चेन्ऩई कारखाने ने 2015 में वाहन उत्पादन क्षमता 4.5 लाख थी। इसे 2019 में 9 लाख किया गया।
  • पिछले 5 सालों में तीनों कारखानों से कुल 2.80 लाख वाहनों का निर्माण किया।
  • 2016 में आईवाईएम ने भारत में 10 लाख स्कूटर के निर्माण का पड़ाव पार किया।

इन वाहनों का होता है निर्माण

  • YZF-R3 (249सीसी) एबीएस के साथ
  • YZF-R15 वर्जन 3.0 (155सीसी) एबीएस के साथ
  • MT-15 (155सीसी) एबीएस के साथ
  • FZ 25 (249सीसी)
  • Fazer 25 (249सीसी)
  • FZ-S FI (149सीसी)
  • FZ FI (149सीसी)
  • Saluto (125सीसी)
  • Saluto (110सीसी)
  • Cygnus Ray-ZR (113सीसी)
  • Fascino (113सीसी)
  • Cygnus Alpha (113सीसी)
  • Cygnus Ray Z (113 सीसी)
  • MT-09 (847सीसी)
  • YZF-R1 (998सीसी)
X
COMMENT

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.