Home » Auto » Industry/ TrendsMercedes से लेकर Audi तक: कौन हैं इन कंपनि‍यों का असली मालि‍क

Mercedes से लेकर Audi तक: कौन हैं इन कंपनि‍यों का असली मालि‍क

यहां आपको बता रहे हैं जि‍न कारों कंपनि‍यों से आप गाड़ी खरीद रहे हैं उन कार कंपनि‍यों का असली मालि‍क कौन है।

1 of

नई दि‍ल्‍ली। साल 2008 की आर्थि‍क मंदी में ऑटो इंडस्‍ट्री को बदल दि‍या। बेलआउट के बाद सेल्‍स की वजह से वि‍भि‍न्‍न ब्रांड्स को दूसरों से हाथ मि‍लाना पड़ा। इसकी मदद से ऑटोमोबाइल इंडस्‍ट्री को दोबारा से खड़ा होने का मौका मि‍ला और ऑपरेशन का नया स्‍ट्रक्‍चर बन गया। जो दि‍खने में साफ और सीधा है लेकि‍न असल में काफी कॉम्‍पैक्‍स है। यहां आपको बता रहे हैं जि‍न कारों कंपनि‍यों से आप गाड़ी खरीद रहे हैं उन कार कंपनि‍यों का असली मालि‍क कौन है।   

 

Daimler AG

 

Daimler-Benz की शुरुआत जर्मनी में 1926 में हुई थी जि‍से आप Daimler AG के नाम जानते हैं। Daimler AG के पास कई ऐसे कार ब्रांड्स हैं जो दुनि‍या में बेहद फेमस हैं। इस ग्रुप के पास ब्रांड्स जैसे मर्सडीज-बेंज, मर्सडीज-एएमजी, स्‍मार्ट और हैवी व्‍हीकल कंपनि‍यां जैसे डायमलर ट्रक्‍स, भारत-बेंज आदि‍ हैं। साल 2012 से कंपनी ने पास अपना लग्‍जरी डि‍वि‍जन Maybach भी है।    

 

आगे पढ़ें...

 

BMW 

 

एयरक्राफ्ट इंजन बनाने वाली कंपनी बीएमडब्ल्‍यू की शुरुआत 1916 में हुई थी जोकि‍ धीरे-धीरे मोटरसाइकि‍ल और बाद में कार भी बनाने लगी। बीएमडब्‍ल्‍यू ने 1998 में लग्‍जरी कार कंपनी रॉल्‍य रॉयस को खरीदा और 1994 में रोवर ग्रुप से ब्रि‍टि‍श स्‍मॉल कार ब्रैंड मि‍नी को पूरी तरह से खरीद लि‍या। 2000 में रोवर ग्रुप टूट गया और मि‍नी ब्रांड बीएमडब्‍ल्‍यू के पास रह गया। 

 

आगे पढ़ें...

 

FIAT 

 

फैब्रि‍का इटेलि‍याना ऑटोमोबि‍ल टोरि‍नो यानी फि‍एट की शुरुआत रोड़, रेल, ट्रैक्टर्स और एयरप्‍लेन के लि‍ए इंजन मैन्‍युफैक्‍चरर के तौर पर हुई थी। साल 2009 में फि‍एट ने क्रि‍स्‍लर को खरीद लि‍या था और बाद में दि‍वालि‍या होने के लि‍ए आवेदन दि‍या और FCA के तौर पर सब्‍सि‍डयरी कंपनी बनाई। इस कंपनी के पास अबार्थ, अल्‍फा रोमि‍यो, Maserati और क्रि‍स्‍लर ब्रांड्स जैसे Jeep, Dodge, RAM, SRTहैं। 

 

फि‍एट ने 1969 में फरारी में 50 फीसदी हि‍स्‍सा खरीदा और इसे 1988 में 90 फीसदी तक बढ़ा दि‍या। बाद में अक्‍टूबर 2014 के दौरान FCA ने फरारी से अलग होने का ऐलान कि‍या और अक्‍टूबर 2015 में इसका प्रोसेस शुरू कर दि‍या। 3 जनवरी 2016 को फरारी को एक अलग कंपनी के तौर पर खड़ा कि‍या गया। 

 

आगे पढ़ें...

 

Ford 

 

एक समय ऐसा था कि‍ अमेरि‍कन कार कंपनी फोर्ड के पास वॉल्‍वो, जैगुआर लैंड रोवर, मर्करी, माज्‍डा और मस्‍टन मार्टि‍न में अधि‍कांश हि‍स्‍सेदारी थी। वक्‍त के साथ-साथ इन कंपनि‍यों से वह अलग होती गई। मौजूदा समय में फोर्ड के पास Lincoln ब्रांड है और मस्‍टन मार्टि‍न में कुछ हि‍स्‍सेदारी है।  

 

आगे पढ़ें...

 

General Motors

 

जनरल मोटर्स दूसरी अमेरि‍कन कार कंपनी है जि‍सने 2009 में दि‍वालि‍या होने के लि‍ए आवेदन दि‍या था। कंपनी के स्‍टॉकहोल्‍डर्स ने अपना तकरीबन पूरा नि‍वेश खो दि‍या था। तब अमेरि‍की सरकार ने कंपनी की मदद की थी। बेहतर ऑपरेशन के लि‍ए जनरल मोटर्स ने कई ब्रांड्स जैसे Saturn, Pontiac और Hummer को हटा दि‍या। कंपनी ने Saab ऑटोमोबाइल को डच कार कंपनी स्‍पाइकर को बेच दि‍या था। अब कंपनी के पास Buick, Chevrolet, Cadillac और GMC कार ब्रांड्स हैं।   

 

आगे पढ़ें...

 

Volkswagen

 

दुनि‍या की सबसे बड़ी पैसेंजर व्‍हीकल कंपनी फॉक्‍सवैगन ग्रुप को 'लोगों की कार' का खि‍ताब मि‍ला हुआ है। इस कंपनी की शुरुआत 1937 में जर्मनी में नाजी ट्रेड यूनि‍यन द्वारा हुई। इस वक्‍त फॉक्‍सवैगन के पास Volkswagen, Audi, Porsche, Buggati, Lamborghini, SEAT, Skoda, MAN trucks, Ducati, Scaniaऔर Bentley जैसे ब्रांड्स हैं। 

 

आगे पढ़ें...

 

टाटा मोटर्स 

 

भारतीय कार कंपनी टाटा मोटर्स ने फोर्ड मोटर कंपनी से 2008 में जैगुआर लैंड रोवर बि‍जनेस को खरीदा था। टाटा मोटर्स ने जैगुआर लैंड रोवर को 2.3 अरब डॉलर के ऑल कैश ट्रांजैक्‍शन में खरीदा था। 

 

आगे पढ़ें...

 

रेनो-नि‍सान

 

रेनो के पास नि‍सान में 43.4 फीसदी हि‍स्‍सेदारी है जबकि‍ नि‍सान के पास रेनो के 15 फीसदी शेयर्स हैं। अक्‍टूबर 2016 में नि‍सान ने 2.3 अरब डॉलर में मित्‍सुशि‍बी मोटर्स को खरीदा था। वहीं, नि‍सान ने 2013 में डैटसन को दोबारा शुरू कि‍या। नि‍सान के पास परफॉर्मेंस ब्रांड Infiniti भी है। 

 

आगे पढ़ें...

 

टोयोटा

 

दुनि‍या की सबसे बड़ी पैसेंजर व्‍हीकल कंपनी में से एक टोयोटा के पास Lexus, Daihatsu and Hino Motors हैं।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट