Home » Auto » Industry/ Trendsdiesel emission scandal: volkswagen to pay 1 billion euro

डीजल एमि‍शन स्‍कैंडल: जर्मनी ने Volkswagen पर लगाया 1.18 अरब डॉलर का जुर्माना

डीजल एमि‍शन स्‍कैंडल मामले में जर्मनी की अथॉरि‍टीज ने Volkswagen पर 1 अरब यूरो (करीब 1.18 अरब डॉलर) का जुर्माना लगाया है

diesel emission scandal: volkswagen to pay 1 billion euro

नई दि‍ल्‍ली। डीजल एमि‍शन स्‍कैंडल मामले में जर्मनी की अथॉरि‍टीज ने Volkswagen पर 1 अरब यूरो (करीब 1.18 अरब डॉलर) का जुर्माना लगाया है। यह जर्मनी की अथॉरि‍टीज की ओर से कि‍सी कंपनी पर लगाया गया सबसे बड़ा जुर्माना है। जर्मनी की ओर से यह जुर्माना, जनवरी 2017 में अमेरि‍का की याचि‍का समझौते के बाद लगाया गया है जहां Volkswagen ने डीजल इंजन में गैरकानूनी सॉफ्टवेयर लगाने के लि‍ए 4.3 अरब डॉलर का भुगतान करने पर सहमति‍ जताई थी।  

 

फॉक्‍सवैगन ने मानी गलती

 

जारी बयान में कहा गया कि‍ जांच के बाद फॉक्‍सवैगन एजी ने जुर्माने को मंजूर कि‍या है और कंपनी ने इसके खि‍लाफ याचि‍का दायर नहीं करने की बात कही है। ऐसा करने पर फॉक्‍सवैगन एजी ने डीजल संकट के लि‍ए अपनी जि‍म्‍मेदारी को स्‍वीकारा है। 

 

पीछा नहीं छोड़ रहा डीजल एमि‍शन स्‍कैंडल 

 

ताजा जुर्माना जर्मनी की ऑटो इंडस्‍ट्री को लगने वाला एक और झटका है जोकि‍ डीजल एमि‍शन स्‍कैंडल से उबर नहीं पा रही है। फॉक्‍सवैगन के अलावा, जर्मनी की सरकार ने सोमवार को डैमलर को करीब 2,40,000 कारों को रि‍कॉल करने का आदेश दि‍या है। इन कारों में गैरकानूनी एमि‍शन कंट्रोल डि‍वाइस लगाए गए हैं।  

 

ऑडी की भी जांच

 

म्‍यूनि‍ख प्रोक्‍सि‍क्‍युटर ने इस हफ्ते एमि‍शन चीटिंग के मामले को बढ़ाते हुए फॉक्‍सवैगन की ऑडी यूनिट को भी शामि‍ल कि‍या है। इसमें ऑडी के चीफ एक्‍जि‍क्‍युटि‍व रूपर्ट स्‍टेडलर पर गलत विज्ञापन और फ्रॉड के आरोप लगाए गए हैं। कहा गया है कि‍ ऑडी की कुछ डीजल मॉडल में लगे सॉफ्टवेयर में अनियिमितता पता चली है। कंपनी ने डीलर्स को इन कारों की डिलिवरी रोक दी है। जर्मनी की फेडरल मोटर ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी ने जांच शुरू कर दी है। 

 

2015 में हुआ था फॉक्‍सवैगन का डीजल स्‍कैंडल

 

गौरतबल है कि‍ साल 2015 में एक अमेरिकी एजेंसी ने फॉक्‍सवैगन की कारों में गड़बड़ी पकड़ी थी। कंपनी ने भी माना था कि पॉल्‍यूशन जांच को चकमा देने के इरादे से उसने 1.1 करोड़ कारों के सॉफ्टवेयर में गड़बड़ी की थी।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट