बिज़नेस न्यूज़ » Auto » Industry/ Trends1 माह में स्‍क्रैप पॉलि‍सी को मि‍लेगी कैबि‍नेट मंजूरी, 20 साल पुरानी गाड़ि‍यां होंगी कबाड़

1 माह में स्‍क्रैप पॉलि‍सी को मि‍लेगी कैबि‍नेट मंजूरी, 20 साल पुरानी गाड़ि‍यां होंगी कबाड़

20 साल से ज्‍यादा पुराने कमर्शि‍यल व्‍हीकल्‍स के लि‍ए प्रस्‍तावि‍त व्‍हीकल स्‍क्रैप पॉलि‍सी को एक माह में कैबि‍नेट मंजूर

Vehicle scrap policy to go for Cab nod

नई दि‍ल्‍ली। 20 साल से ज्‍यादा पुराने कमर्शि‍यल व्‍हीकल्‍स के लि‍ए प्रस्‍तावि‍त व्‍हीकल स्‍क्रैप पॉलि‍सी को एक माह में कैबि‍नेट मंजूरी के लि‍ए भेजा जाएगा। सड़क एंड परि‍वहन मंत्री नि‍ति‍न गडकरी ने कहा कि‍ एक बार पॉलि‍सी लागू होने के बाद सरकार को अति‍रि‍क्‍त 100 अरब रुपए मि‍लेंगे। लंबे समय से व्‍हीकल स्‍क्रैप पॉलि‍सी का इंतजार कि‍या जा रहा है। इस पॉलि‍सी को पीएमओ की उच्‍च स्‍तरीय अंतर मंत्रालय बैठक में 'सैद्धांति‍क' मंजूरी दे दी गई है। इससे 1 अप्रैल 2020 से 20 साल पुराने कमर्शि‍यल व्‍हीकल्‍स को कबाड़ में डालने का रास्‍ता खुल गया है।  

 

गडकरी ने क्‍या कहा

 

नि‍ति‍न गडकरी ने कहा कि‍ कैबि‍नेट नोड के बाद रि‍यायत के लि‍ए इसे जीएसटी काउंसि‍ल के सामने रखा जाएगा। पॉलि‍सी को पीएमओ में सेक्रेटरी लेवल मीटिंग में मंजूरी मि‍ल गई है। अब 15 दि‍न में स्‍टेकहोल्‍डर्स कंसलटेशन कि‍या जाएगा और इसके बाद एक माह में कैबि‍नेट में भेजा जाएगा। 

 

15 से 20 फीसदी तक मि‍ल सकती है रि‍यायत

 

कैबिनेट मंजूरी मि‍लने के बाद इसे जीएसटी काउंसि‍ल के सामने रखा जाएगा क्‍योंकि‍ नए व्‍हीकल्‍स के बायर्स को दि‍ए जाने वाली रि‍यायत राज्‍य सरकारों और भारत सरकार से जुड़ी है। गडकरी ने कहा कि‍ इस संबंध में केंद्र और राज्‍यों कि‍तनी रि‍यायत देंगे, इसका फैसला जीएसटी काउंसि‍ल करेगा। मैं फि‍लहाल इस स्‍थि‍ति‍ में नहीं हूं कि‍ यह बता सकूं कि‍ इसी तरह के वाहनों के बायर्स को कि‍तना फायदा होगा। लेकि‍न अनुमान यह है कि‍ स्‍क्रैप के बाद नए वाहन को खरीदने पर 15 फीसदी से 20 फीसदी का फायदा हो सकता है।  

 

सरकार की बढ़ेगी 100 अरब रुपए की कमाई

 

मंत्री ने दावा कि‍या है कि‍ पॉलि‍सी आने के बाद सरकार के रेवेन्‍यू को 100 अरब रुपए का इजाफा होगा। इससे नए व्‍हीकल्‍स के प्रोडक्‍ट में 22 फीसदी का इजाफा होगा। मौजूदा समय में ऑटोमोबाइल इंडस्‍ट्री 4.5 लाख करोड़ की इंडस्‍ट्री है जोकि 20 लाख करोड़ रुपए की इंडस्‍ट्री बन जाएगी।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट