Home » Auto » Industry/ Trendsbuy used cars at price of scooter; know the list

स्‍कूटर की कीमत पर खरीद सकते हैं यूज्‍ड कारें, ये है भरोसेमंद गाड़ि‍यों की लि‍स्‍ट

ऐसे ऑप्‍शन भी मि‍लेंगे जि‍न्‍हें आप ऑटोमैटि‍क स्‍कूटर जैसे एक्‍टि‍वा या जुपि‍टर की कीमत पर खरीद सकते हैं।

1 of

नई दि‍ल्‍ली। सेकंड हैंड मार्केट में आपको कई ऑप्‍शन मि‍ल जाएंगे। कुछ ऐसे ऑप्‍शन भी मि‍लेंगे जि‍न्‍हें आप ऑटोमैटि‍क स्‍कूटर जैसे एक्‍टि‍वा या जुपि‍टर की कीमत पर खरीद सकते हैं। ये कारें ऐसी हैं जि‍नपर लोग कई साल से भरोसा कर रहे हैं और यह आपको 50 हजार से 70 हजार रुपए की कीमत पर मि‍ल सकती हैं। हां, इनमें से कई कारें 15 साल तक पुरानी हो सकती हैं, इसका मतलब है कि‍ दि‍ल्‍ली-एनसीआर में इनका रजि‍स्‍ट्रेशन एक प्रॉब्‍लम है। हालांकि‍, देश के दूसरे शहरों में इन कारों का रजि‍स्‍ट्रेशन हो सकता है। यहां हम आपको ऐसी कुछ ऑप्‍शन बता रहे हैं। 

 

मारुति‍ 800

 

मारुति‍ 800 सबसे पुरानी हैचबैक में से एक है। यह गाड़ी दो दशक से ज्‍यादा समय से मार्केट में है। मारुति‍ 800 की खास बात यह है कि‍ यह काफी भरोसेमंद है, चलाने में सस्‍ती है और इसका रख-रखाव करना भी सस्‍ता है। कई लोगों के लिए मारुति‍ 800 उनकी पहली कार है और आज भी इसकी रीसेल वैल्‍यू काफी अच्‍छी है। आपको ऑनलाइन सेकंड प्‍लेटफॉर्म या मार्केट में मौजूद सेकंड हैंड कार डीलर्स पर यह 50 हजार से 60 हजार रुपए में मि‍ल सकती है। 

 

आगे पढ़ें...

 

जेन

 

मारुति‍ जेन पहली हैचबैक थी जि‍से पावरफुल माना गया था। इसमें 1 लीटर का इंजन है जोकि‍ 50 बीएचपी की पावर तक देता है। इस कार में स्‍पेस भी है और इसे चलाने में मजा भी आता है। इस कार को भी 50 हजार से 85 हजार रुपए तक की कीमत पर खरीदा जा सकता है। 

 

आगे पढ़ें...

 

ह्युंडई सेंट्रो

 

भारत में ह्युंडई की पहली कार सेंट्रो थी। यह पहली टॉल ब्‍लॉय हैचबैक थी जि‍से भारत में पेश कि‍या गया था। सेंट्रो को आज भी ड्राइविंग स्‍कूल या ड्राइविंग सीख रहे या जि‍न्‍होंने कार चलाना सीखा है, उनके लि‍ए भरोसेमंद मानी जाती है। खास बात यह इसे चलाना और इसे यूज करना काफी आसान है।  सेंट्रो को भी 50 हजार से 70 हजार रुपए में खरीदा जा सकता है। 

 

आगे पढ़ें...

 

टाटा इंडिका

 

टाटा की पहली हैचबैक इंडि‍का थी। इंडि‍का के लॉन्‍च के साथ ही टाटा ने बड़ी और ज्‍यादा स्‍पेस वाली हैचबैक पेश करने की शुरुआत की। इसके साथ ही यह काफी इकोनॉमि‍कल भी रही। इंडि‍का का इस्‍तेमाल खासतौर से कैब सेगमेंट में कि‍या गया। ऐसा इसलि‍ए क्‍योंकि‍ इस कार में आपको ज्‍यादा स्‍पेस मि‍लती है और इसे चलाना भी सस्‍ता है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Don't Miss