बिज़नेस न्यूज़ » Auto » Industry/ TrendsSC का बड़ा फैसला, इन सेफ्टी फीचर्स के बि‍ना नहीं बि‍के कोई मोटरसाइकि‍ल

SC का बड़ा फैसला, इन सेफ्टी फीचर्स के बि‍ना नहीं बि‍के कोई मोटरसाइकि‍ल

सुप्रीम कोर्ट ने सड़क दुर्घाटनाओं को कम करने के लि‍ए टू-व्‍हीलर्स के संबंध में बढ़ा फैसला लि‍या है।

1 of

नई दि‍ल्‍ली। सुप्रीम कोर्ट ने सड़क दुर्घाटनाओं को कम करने के लि‍ए टू-व्‍हीलर्स के संबंध में बढ़ा फैसला लि‍या है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि‍ मोटरसाइकि‍ल की पीछे की सीट पर बैठने वालों के लि‍ए बि‍ना सेफ्टी फीचर्स के नहीं बेचा जा सकता। कोर्ट ने कहा कि‍ पीछे की सीट वाले राइडर्स के लि‍ए कुछ सेफ्टी फीचर्स जैसे साड़ी गार्ड और हैंड ग्रि‍प वाली मोटरसाइकि‍ल को ही रजि‍स्‍टर्ड किया जाएगा। सुप्रीम कोर्ट ने सोसाइटी ऑफ इंडि‍यन ऑटोमोबाइल मैन्‍युफैक्‍चरर्स (सि‍आम) की याचि‍का को खारि‍ज कर दि‍या है।

 

क्‍या है मामला
 
सि‍आम ने मध्‍य प्रदेश हाई कोर्ट के आदेश के खि‍लाफ अपील की थी। उस आदेश में पीछे की सीट पर बैठे लोगों के लि‍ए सेफ्टी फीचर्स नहीं होने वाली मोटरसाइकि‍ल्‍स के रजि‍स्‍ट्रेशन को बैन कर दि‍या गया था। मध्‍य प्रदेश हाई कोर्ट ने यह आदेश नवंबर 2008 में दि‍या था। 2008 में मध्‍य प्रदेश हाई कोर्ट ने राज्‍य में बि‍ना साड़ी गार्ड या हैंड ग्रि‍प्‍स वाली मोटरसाइकि‍ल्‍स की सेल पर बैन लगा दि‍या।   

 

टू-व्‍हीलर कंपनि‍यों ने हाई कोर्ट के आदेश के खि‍लाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी और वहां उनहें जीत मि‍ली थी। सुप्रीम कोर्ट ने आदेश पर स्‍टे लगाकर उसे रोक दि‍या था। सि‍आम ने 2008 मध्‍य प्रदेश हाई कोर्ट ऑर्डर के खि‍लाफ सुप्रीम कोर्ट में अनुरोध कि‍या लेकि‍न अब सुप्रीम कोर्ट ने सि‍आम की याचि‍का को खारि‍ज कर दि‍या। 

 

आगे पढ़ें...

 

सुप्रीम कोर्ट ने क्‍या कहा

 

सुप्रीम कोर्ट ने सि‍आम की याचि‍का को खारि‍ज करते हुए उन मोटरसाइकि‍ल्‍स पर सवाल उठाया है जोकि‍ पीछे की सीट वाले राइडर्स के लि‍ए बि‍ना साड़ी गार्ड या इन एडि‍शनल सेफ्टी लगाए बि‍क रही हैं। सिआम ने तर्क दि‍या है कि‍ सभी पीछे की सीट पर बैठने वाले राइडर्स महि‍लाएं नहीं होतीं और टू-व्‍हीलर्स का डि‍जाइन पहले से ही मंजूर है और अब इसे बदलना मुश्‍कि‍ल है। 

 

आगे पढ़ें...

 

 

क्‍या काम करता है साड़ी गार्ड

 

मोटरसाइकि‍ल में साड़ी गार्ड एक अहम पीस है जोकि‍ कपड़ों को पीछे के पहि‍ए में फंसने से बचाता है। ऐसी कई घटनाएं हैं जहां पीछे की सीट पर बैठी महि‍ला के साथ इसलि‍ए हादसा हुआ क्‍योंकि‍ उसका डुप्‍ट्टा या साड़ी पहि‍ए में फंस जाता है। रिसर्च में पाया गया है कि‍ साड़ी गार्ड से इस दुर्घाटना को रोकने में मदद मि‍लती है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट