Home » Auto » Industry/ TrendsRoyal Enfield silencer, Royal Enfield bikes in India

Royal Enfield में बजने वाला 'पटाखा' बना लोगों का सिरदर्द, ऐसे बाइर्क्स को पुलिस भेज रही है जेल

भारत में नॉइज पॉल्यूशन के पीछे सबसे बड़ा हाथ मोडिफाइड Royal Enfield का

1 of

नई दिल्ली। हाल ही में दिल्ली हाई कोर्ट के सामने आई एक जनहित याचिका में दावा किया गया कि भारत में नॉइज पॉल्यूशन के पीछे सबसे बड़ा हाथ मोडिफाइड Royal Enfield का है। यह याचिका को जस्टिस फॉर राइट्स फाउंडेशन एनजीओ और लॉ स्टूडेंट प्रतीक शर्मा ने दर्ज कराई है। इनका मानना है कि Royal Enfield बाइक्स में लगे मोडिफाइड फिटमेंट्स की वजह से देश में नॉइज पॉल्यूशन बढ़ रहा है। उनका कहना है कि बाइक के साइलेंसरों से होने वाली बेहद तेज आवाज लोगों के लिए सिरदर्द साबित हो रही है। 

 

चीफ जस्टिस राजेंद्र मेनन और जस्टिस वी के राव की बेंच ने इस याचिका पर केंद्र, दिल्ली सरकार, पुलिस और पॉल्यूशन कंट्रोल समितियों को नोटिस जारी कर उनसे जवाब मांगे हैं। याचिका में हाई कोर्ट से गुहार लगाई गई है कि वह दिल्ली में रॉयल एनफील्ड बाइक्स में बदले हुए साइलेंसर लगाने, अलग-अलग तरह के प्रेशर हॉर्न, स्पीकरों का बनाने, बिक्री और इस्तेमाल पर पाबंदी लगाए। 

 

ऐसे साइलेंसर कईयों के लि‍ए खतरनाक

 

कई मामलों में मोडि‍फाइड एग्‍जॉस्‍ट वाली रॉयल एनफील्‍ड मोटरसाइकि‍ल्‍स से स्‍थानि‍क इलाकों की शांति‍ भंग होती है। इसके अलावा, दि‍ल के मरीजों, छोटे बच्‍चों और सीनि‍यर सि‍टीजन के लि‍ए खतरनाक साबि‍त हो सकती हैं। इससे समस्‍या से नि‍पटने के लि‍ए देश भर में पुलि‍स कई तरीकों को अपना रही है।

 

याचिका में कहा गया है कि प्रेशर हॉर्न, वूफर और बदले हुए साइलेंसर जैसे इक्युप्मेंट्स गाड़ियों में लगाने से बेहद तेज आवाज पैदा होती है जिससे तनाव, सिरदर्द, थकान, नींद नहीं आने, झुंझलाहट, ब्लड-प्रेशर में उतार-चढ़ाव, हृदय रोग और पाचन संबंधी समस्याएं पैदा होती हैं।

 

आगे पढ़ें...

 

पुलि‍स अपना रही है कई तरीके

 

रॉयल एनफील्‍ड की मोटरसाइकि‍ल्‍स में इस तरह के एग्‍जॉस्‍ट लगाने वालों से नि‍पटने के लि‍ए कई तरीकों को अपना रही हैं। बेंगलुरु में पुलि‍स वालों ने इन तेजी आवाज वाले एग्‍जॉस्‍ट को कब्‍ज कि‍या और रोड़ रोलर से कुचल दि‍या। वहीं, पंजाब में पुलि‍स ने ऐसी बाइक्‍स चलाने वालों पर जुर्माना लगाया और दोबारा गलति‍यां करने वाले कुछ मामलों में केस भी रजि‍स्‍टर कि‍या। लोगों को कोर्ट के सामने पेश कि‍या गया जहां तय कि‍या जा रहा है कि‍ दोषी पर जुर्माना लगे या उसे 3 माह तक की जेल हो।

 

इतना ही नहीं, हाल ही में गुरुग्राम पुलि‍स ने तीन युवाओं को पटाखा साइलेंसर लगाने पर गि‍रफ्तार कि‍या है। देश के दूसरे हि‍स्‍सों जैसे महाराष्‍ट्र और दि‍ल्‍ली में बेहद ज्‍यादा आवाज करने वाले एग्‍जॉस्ट वाली रॉयल एनफील्‍ड बाइक्‍स वालों पर भारी जुर्माना लगाया जा रहा है।

 

आगे पढ़ें...

 

गैरकानूनी हैं आफटरमार्केट एग्‍जॉस्‍ट

 

ज्‍यादातर सस्‍ती मोटरसाइकि‍ल एग्‍जॉस फ्री फ्लो वाले, कैटेलि‍टि‍क कन्‍वर्टर वाले रहते है, जोकि‍ आपकी मोटरसाइकि‍ल से नि‍कलने वाले खतरनाक एमि‍शन से पर्यावरण को बचाते हैं। लेकि‍न फ्री फ्लो एग्‍जॉस बाइक से नि‍कलने वाली आवाज को भी बढ़ा देता है। फ्री फ्लो एग्‍जॉस को लगाने के नुकसान ज्‍यादा हैं। ज्‍यादा आवाज और एमि‍शन में इजाफा होने पर आरटीओ या पुलि‍स द्वारा आपकी मोटरसाइकि‍ल को जब्‍त कि‍या जा सकता है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट