बिज़नेस न्यूज़ » Auto » Industry/ Trendsअरबपति‍ हो या कि‍सी देश का राजा, नहीं खरीद सकता है यह कार

अरबपति‍ हो या कि‍सी देश का राजा, नहीं खरीद सकता है यह कार

एक कंपनी ऐसी है जो अपनी चुनिंदा कारों को चुनिंदा लोगों को ही बेचती है।

1 of

नई दि‍ल्‍ली। यह बात बि‍ल्‍कुल सच है कि‍ पैसे हर चीज नहीं खरीदी जा सकती। हम यहां सचे प्‍यार की बात नहीं कर रहे बल्‍कि‍ कार की बात कर रहे हैं। एक कंपनी ऐसी है जो अपनी चुनिंदा कारों को चुनिंदा लोगों को ही बेचती है। ऐसे में अगर कोई टॉप अरबपति‍ हो या कि‍सी देश का राजा तो भी वह इसे नहीं खरीद सकता।

 

जी हां, इटली की कार कंपनी हर व्‍यक्‍ति‍ को कार नहीं बेचती है। वह अपने क्‍लाइंट्स को खुद चुनती है और उनके चुनने का तरीका भी अपना ही है। फरारी के चीफ मार्केटिंग और कमर्शि‍यल ऑफि‍सर एनरि‍को गैलेरि‍या तय करते हैं कि‍ फरारी की लि‍मि‍टेड एडि‍शन कि‍से मि‍लेगी और कौन इस कार को नहीं खरीद सकता है।

 

क्‍या है कार बेचने का तरीका
 
एनरि‍को गैलेरि‍या ने द ड्राइव को दि‍ए एक इंटरव्‍यू में कहा कि‍ मेरी नौकरी का सबसे मुश्‍कि‍ल हि‍स्‍सा है ‘ना’ कहना। उन्‍होंने कहा कि‍ कुछ बायर्स की ओर से ‘बेहद’ दबाव रहता है। सप्‍लाई से कहीं ज्‍यादा डि‍मांड रहती है। तो हम अच्‍छे कस्‍टमर्स को रीवॉर्ड देने के लि‍ए उनकी पहचान करते हैं। लि‍मि‍टेड एडि‍शन कारों को हम अपने बेस्‍ट कस्‍टमर्स को दि‍ए जाने वाले गि‍फ्ट के तौर पर देखते हैं।

 

आगे पढ़ें...

 

हर कि‍सी को नहीं मि‍लती कार
 
गैलेरि‍या ने कहा कि‍ शुरुआत में ऐसे लोगों से आवेदन मि‍लते हैं जो उसके हकदार नहीं है, उनके पास केवल पैसे हैं। वो कहते हैं कि‍ मैं किंग या कोई और हूं, तो उसे कार का हक है। इसके जवाब में गैलेरि‍या कहते हैं कि‍ हां, लेकि‍न आप फरारी के क्‍लाइंट नहीं हैं।
 
सबसे आसान काम है, जब आपके पास कोई अच्‍छा कस्‍टमर है लेकि‍न वह टॉप 200 में नहीं और मैं उसे कार ऑफर नहीं कर सकता तो वह आमतौर पर समझ जाते हैं। लेकि‍न कुछ लोगों को ‘ना’ सुनने की आदत नहीं रहती और वह पूछते रहते हैं।

 

आगे पढ़ें...

 

बि‍ना देखे ही बि‍क गई करोड़ों की कारें
 
18 लाख डॉलर से ज्‍यादा की कार को गि‍फ्ट करना, सुनने में अहंकारी लगता है और यह अहंकार ही हो सकता है लेकि‍न तर्क के साथ। फरारी की ‘स्‍पेशल’ कार LaFerrari Aperta कन्‍वर्टि‍बल के क्‍लाइंट्स की लि‍स्‍ट बनाते हुए गैरेलि‍या ने 200 लोगों को फरारी की चाबी मेल की और पूछा कि‍ क्‍या वह इसे बि‍ना देखे खरीदना चाहते हैं। हैरानी की बात यह है कि‍ सभी ने हां कहा। एक मेल में ही सभी 200 कारें प्रोडक्‍शन के दौरान ही बि‍क गईं।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट