बिज़नेस न्यूज़ » Auto » Industry/ Trendsअब रेसिंग ट्रैक पर नहीं दि‍खेंगी ये ग्‍लैमर्स गर्ल्‍स, जानें क्‍या है वजह

अब रेसिंग ट्रैक पर नहीं दि‍खेंगी ये ग्‍लैमर्स गर्ल्‍स, जानें क्‍या है वजह

अगर आपने कभी फॉर्मूला वन रेस देखी है तो आपने रेस में 'ग्रि‍ड गर्ल्‍स' को जरूर देखा होगा।

1 of

 

नई दि‍ल्‍ली। अगर आपने कभी फॉर्मूला वन रेस देखी है तो आपने रेस में 'ग्रि‍ड गर्ल्‍स' को जरूर देखा होगा। ग्रि‍ड गर्ल्‍स अकसर रेस ट्रेक पर रेसिंग ड्राइवर्स के साथ या रेसिंग टीम के साथ बोर्ड पर नंबर को डि‍स्‍प्‍ले करते हुए दि‍खती हैं। हालांकि‍, अब वह रेसिंग ट्रैक पर नहीं दि‍खेंगी। अब 2018 वर्ल्‍ड चैम्‍पि‍यनशि‍प सीजन की शुरुआत में ग्रि‍ड गर्ल्‍स को यूज नहीं कि‍या जाएगा।

 

फॉर्मूला वन के कमर्शि‍यल ऑपरेशंस के मैनेजिंग डायरेक्‍टर सीन ब्राच ने कहा कि‍ इस समान स्‍पोर्ट के लि‍ए हमारे वि‍जन के साथ इस बदलाव को पूरा कि‍या गया है। इससे पहले बीते साल दि‍संबर में एफ1 मैनेजिंग डायरेक्‍टर ऑफ मोटरस्‍पोर्ट्स रॉस ब्राउन ने एक इंटरव्‍यू में बताया था कि‍ फीमेल प्रोमोशनल मॉडल्‍स का इस्‍तेमाल 'अंडर रि‍व्‍यू' है। नए एफ1 सीजन की शुरुआत 25 मार्च से होगी।

 

आगे पढ़ें...

 

क्‍यों नहीं दि‍खेंगी ग्रि‍ल गर्ल्‍स

 

ब्राच ने कहा कि‍ दशकों से फॉर्मूला वन ग्रांड प्रिक में ग्रि‍ड गर्ल्‍स को काम पर रखने की प्रथा चल रही है, हमारा मानना है कि‍ यह प्रथा हमारे ब्रांड वैल्‍यू के साथ नहीं जुड़ती और साफ तौर पर आज के दौरान की सामाजि‍क मानकों के साथ मेल नहीं खाती है। हमें नहीं लगता कि‍ फॉर्मूला वन के साथ यह प्रथा उपयुक्त है।

 

आगे पढ़ें...

 

क्‍या करती हैं ग्रिड गर्ल्‍स

 

'ग्रि‍ड गर्ल्‍स' वो मॉडल्‍स होती हैं जि‍सका इस्‍तेमाल चुनिंदा प्रोमोशनल टास्‍क को पूरा करने के लि‍ए कि‍या जाता है। वह आमतौर पर स्‍पॉन्‍सर के नाम वाले कपड़ों को पहनती हैं। एफ1 में उनके काम में छाते को पकड़ना या ड्राइवर के नाम वाले बोर्ड को ग्रि‍ड पर दि‍खना। इसके अलावा, जि‍स कॉरि‍डोर से ड्राइवर चलता है वहां खड़े होकर लाइनिंग करना।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट