बिज़नेस न्यूज़ » Auto » Industry/ Trendsइन वजहों से आपकी कार में लग सकती है आग, कृपया ध्‍यान दें

इन वजहों से आपकी कार में लग सकती है आग, कृपया ध्‍यान दें

कार में आग लगने के अलग-अलग कारण हो सकते हैं।

1 of

नई दि‍ल्‍ली। कार में आग लगने के अलग-अलग कारण हो सकते हैं। ऐसी कई दुर्घटनाएं देखी जा चुकी है जहां चलती हुई कार या खड़ी गाड़ी में आग लगी है। हम यहां आपको उन वजहों के बारे में बता रहे हैं जि‍ससे आग लगना आसान हो जाता है। अगर आप इन वजहों को पहले से जान लें तो आप अपनी कार के साथ होने वाली दुर्घटना को रोक सकते हैं। 

 

वायर के साथ छेड़छाड़

 

कारों में आग लगने की एक वजह नॉर्मल हैलोजन हैडलाइड की जगह हाई इंटेंसि‍टी डि‍स्‍चार्ज (एचआईडी) लैम्‍प लगाने के अलावा आफटर मार्केट एक्‍सेसरीज जैसे एडि‍शनल लैम्‍प या इंफोटेनमेंट लगाना हो सकता है। अगर वायरिंग सही ढंग से नहीं की गई हो तो इससे शॉर्ट-सर्कि‍ट हो सकता है। शॉर्ट सर्कि‍ट से गाड़ी का पूरा इलेक्‍ट्रि‍कल सर्कि‍ट गर्म हो जाता है और आग लगने का खतरा बढ़ जाता है। 

 

दि‍ल्‍ली स्‍थि‍त टाटा मोटर्स बॉडी शॉ मैनेजर नरेंद्र सिंह ने बताया कि‍ लोग लोकल रीपेयर शॉप से लाइट्स को इंस्‍टॉल करवाते हैं। सही ढंग से वायरिंग नहीं होने से वायर्स में अर्थिंग होती है जि‍ससे बाद में शॉर्ट सर्कि‍ट हो जाता है। ऐसे में सीट बेल्‍ट और डोर जाम हो जाते हैं। लोग फ्री सर्वि‍सिंग के बाद अनऑर्गेनाज्‍ड वर्कशॉप से काम करवाते हैं जहां लेबर्स स्‍कि‍ल्‍ड नहीं होते हैं।  
 
आगे पढ़ें...

 

अनऑथराइज्‍ड सीएनजी या एलपीजी किट्स

 

कई लोग फैक्‍ट्री फि‍टेड सीएनजी या एलपीजी कि‍ट्स वाली कारों को नहीं खरीदते हैं बल्‍कि‍ बाद में अपनी कारों में इन कि‍ट्स को लगवाते हैं। वहीं, ज्यादातर पुराने कार ओनर्स इन कि‍ट्स को लगवाते हैं। इस तरह की कि‍ट्स में उच्‍च स्‍तर के दुरुस्‍त कॉम्‍पोनेंट्स का यूज कि‍या जाता है जो कम्‍प्रेज्‍ड गैस को सि‍लेंडर से इंजन तक डि‍लिवर करते हैं। डि‍लि‍वरी लाइन में कि‍सी भी तरह का फॉल्‍ट आग लगने का कारण बन सकता है। अगर कि‍ट्स की क्‍वालि‍टी का स्‍टैंडर्ड खराब है तो भी आग लगने का खतरा है। हमेशा सुनि‍श्‍चि‍त करें कि‍ जि‍स जगह से आप कि‍ट्स इंस्‍टॉल करवा रहे हैं वह ऑथराज्‍ड वर्कशॉप है और वहां ट्रेंड लोग काम करते हैं। 
 
आगे पढ़ें...

 

सर्वि‍स पर ध्‍यान नहीं दि‍या तो...

 

कार की सर्वि‍स नि‍यमि‍त रूप से नहीं करने पर भी कार में आग लगने का खतरा बढ़ जाता है। फ्यूल लाइन में लीकेज या अन्‍य लीकेज का संपर्क इंजन पार्ट से होता है तो कार में आग लग सकती है। समय पर सर्वि‍सिंग नहीं कराने या लंबे समय तक सर्वि‍स नहीं कराने पर पुरानी वायर्स ढीली हो जाती है जि‍ससे शॉर्ट सर्कि‍ट होने का खतरा बढ़ जाता है। 

 

आगे पढ़ें...

 

बाहर से लगाया ये समान तो...

 

आफटर मार्केट एग्‍जॉस्‍ट को कार की पावर बढ़ाने या एग्‍जॉस्‍ट नोट बढ़ाने के लि‍ए डीजाइन कि‍या जाता है। इस तरह के एग्‍जॉस्‍ट को ऐसे डीजाइन कि‍या जाता है जिससे एग्‍जॉस्‍ट गैस फ्री-फ्लो तरीके से नि‍कले। एग्‍जॉस्‍ट गैस का तापमान 900सी तक पहुंच जाता है जोकि‍ बेहद ज्‍यादा है। अगर कार एग्‍जॉस्‍ट को ज्‍यादा तापमान झेलने के लि‍ए ही ढंग से डीजाइन नहीं कि‍या गया है तो इससे कार में आग लग सकती है। 

 

आगे पढ़ें...

 

बोनट में ही छोड़ दि‍या जलने वाला आइटम

 

कई लोग इंजन की सफाई करने के बाद अनजाने में सफाई का मैटि‍रि‍यल जैसे कपड़ा या दूसरे लि‍क्‍वि‍ड बोनत के अंदर ही छोड़ देते हैं जोकि‍ ज्‍वलनशील होते हैं। इंजन गर्म होने से इस तरह के मैटि‍रि‍यल आग पकड़ लेते हैं। कार का इंजन बेहद ज्‍यादा तापमान पर चलता है और कपड़े या क्‍लीनिंग लि‍क्‍वि‍ड के संपर्क में आने से गाड़ी में आग तेजी से लगती है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट