Home » Auto » Industry/ Trendsन्‍यू ईयर पर इससे ज्‍यादा पीकर चलाई गाड़ी तो हो जाएंगे अरेस्‍ट - know the permissible limit of taking alcohol before drivin

न्‍यू ईयर पर इससे ज्‍यादा पीकर चलाई गाड़ी तो हो जाएंगे अरेस्‍ट, जानें लि‍मि‍ट

31 दि‍संबर की रात आपको DO NOT DRINK AND DRIVE का स्‍लॉगन हर जगह दि‍खेगा।

1 of

 

नई दि‍ल्‍ली। दि‍ल्‍ली पुलि‍स ने अपनी ओर से न्‍यू ईयर पार्टी मनाने वालों के लि‍ए एडवाइजरी जारी की है, 'अगर प्‍लान है दारू और चकना तो गाड़ी घर पर ही रखना'। 31 दि‍संबर की रात आपको DO NOT DRINK AND DRIVE का स्‍लॉगन हर जगह दि‍खेगा। आंकड़ों से पता चलता है कि‍ एक्‍सि‍डेंट का सबसे प्रमुख कारण शराब पीकर ड्राइविंग करना है। भारत में इसका आंकड़ा दुनि‍या में सबसे ज्‍यादा है जहां हर साल 1.34 लाख लोग रोड एक्‍सि‍डेंट में मारे जाते हैं। इसमें से 70 फीसदी या 93,800 मामलों में इसकी वजह शराब पीकर गाड़ी चलाना रहता है।

 

भारत के सभी शहरों में इसे रोकने के लि‍ए पुलि‍स की ओर से चेक प्‍वाइंट्स लगाए गए हैं। मानकों के आधार पर भारत में ब्‍लड के अंदर एल्‍कोहल की लि‍मि‍ट सबसे सख्त है। तब भी यहां रोड एक्‍सि‍डेंट और एल्‍कोहल संबंधि‍त एक्‍सि‍डेंट दूसरे डेवलप देशों की तुलना में काफी ज्‍यादा है।

 

क्‍या कहता है कानून

 

वैसे तो कि‍सी तरह का एल्‍कोहल पीकर ड्राइव करना हानि‍कारक हो सकता है। पुलि‍स की ओर से ब्रेथलाइजर का इस्‍तेमाल कर बल्क एल्‍कोहल कंटेट (BAC) को चेक कि‍या जाता है। दि‍ल्‍ली ट्रैफिक पुलि‍स के मुताबि‍क, ब्‍लड में एल्‍कोहल कंटेट की लीगल लि‍मि‍ट प्रति‍ 100 ml ब्‍ल्‍ड में 0.03 फीसदी या 30 mg है।

 

आगे पढ़ें...

 

कि‍तनी होगी सजा

 

अगर कोई व्‍यक्‍ति‍ के 100 ml ब्लड में BAC का लेवल 30 mg से ज्‍यादा है तो उस पर मोटर व्‍हीकल एक्‍ट के सेक्‍शन 185 के तहत जुर्माना और सजा होगी। इसमें छह माह तक की जेल या 2,000 रुपए का जुर्माना या दोनों शामि‍ल है। अगर यह अपराध तीन साल के भीतर दोबारा होता है तो 2 साल तक की जेल या 3,000 रुपए जुर्माना या दोनों होगा।

 

आगे पढ़ें...

 

कितना एल्‍कोहल ले सकते हैं

 

वैसे तो एल्‍कोहल पीकर ड्राइव नहीं करना चाहि‍ए। ब्‍लड स्‍ट्रीम में एल्‍कोहल दो चीजों से प्रभावि‍त होता है। एक व्‍यक्‍ति‍ का वजह और दूसरा शरीर में हाइड्रेशन या वाटर कंटेट की मात्रा।

 

-आमतौर पर रेग्‍युलर बीयर (300 ml या एक पाइंट) में 4 फीसदी एल्‍कोहल रहता है या टोटल 13.2 ml एल्‍कोहल होता है।

-वहीं, रेग्‍युलर व्‍हीस्‍की (30 ml) में 43 फीसदी एल्‍कोहल या 12.9 ml एल्‍कोहल होता है।

-इसके अलावा, रेग्‍युलर वाइन (100 ml) में 12 फीसदी या 12 ml एल्‍कोहल होता है।

 

वर्जि‍नि‍या टेक यूनि‍वर्सि‍टी की एक स्‍टडी में दि‍खाया गया है कि कि‍तना एल्‍कोहल लेने से ब्‍लड एल्‍कोहल कंटेट का हि‍स्‍सा कि‍तना होता है। यहां करीब 65 कि‍लोग्राम वजह वाले व्‍यक्‍ति‍ का उदाहरण लि‍या गया है और उसका लीगल लि‍मि‍ट कि‍तना रहेगा।

 

-बीयर की 2 पाइंट (600 ml)

-एक लार्ज व्‍हीस्‍की (60 ml)

-वाइन के दो ग्‍लास (200 ml)

 

आगे पढ़ें...

 

ड्रिंक के कि‍तनी देर बाद करनी चाहि‍ए ड्राइविंग

 

रि‍सर्च में पाया गया है कि‍ शरीर में करीब 9.5ml का एल्‍कोहल प्रोसेस होने में करीब एक घंटे का वक्‍त लगता है। ऊपर दि‍या गया डाटा इस बात का है कि‍ कि‍तना एल्‍कोहल लेना लीगल लि‍मि‍ट में रह सकता है। इसका मतलब यह है कि‍ आपको एक पाइंट बीयर पीने के बाद कम से कम 90 मि‍नट तक इंतजार करना चाहि‍ए। वहीं, एक लार्ज व्‍हीस्‍की के बाद करीब 3 घंटे रुकना चाहि‍ए।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट