बिज़नेस न्यूज़ » Auto » Industry/ Trendsदि‍संबर में नई कार खरीदने से बचें, जनवरी में मि‍लते हैं ये फायदे

दि‍संबर में नई कार खरीदने से बचें, जनवरी में मि‍लते हैं ये फायदे

सवाल यह है कि‍ क्‍या आपको इन डि‍स्‍काउंट का फायदा उठाना चाहि‍ए या नए साल का इंतजार करना चाहि‍ए।

1 of

 

नई दि‍ल्‍ली। दि‍संबर ऐसा महीना है जब लोगों को कारों पर अच्‍छी डील्‍स और डि‍स्‍काउंट मि‍लते हैं। एक तो फेस्‍टि‍व सीजन साल के अंत तक चलता है और दूसरा कंपनि‍यां अपने स्‍टॉक को क्‍लीयर करती हैं। लेकि‍न सवाल यह है कि‍ क्‍या आपको इन डि‍स्‍काउंट का फायदा उठाना चाहि‍ए या नए साल का इंतजार करना चाहि‍ए। ऐसा इसलि‍ए क्‍योंकि‍ कार की मैन्‍युफैक्‍चरिंग ईयर का फायदा कस्‍टमर्स को लंबे समय बाद मि‍लता है। ज्‍यादातर कारों की रीसेल वैल्‍यू 5वें साल के अंत तक करीब-करीब आधी हो जाती है। 

 

2017 खत्‍म होने में 4 हफ्ते बचे हैं तो आप यह जरूर सोच रहे होंगे कि‍ नई कार को 2017 के अंत में खरीदें या 2018 की शुरुआत में। यहां हम आपको बता रहे हैं अगर आप अपनी ड्रीम कार को 2018 में खरीदतें हैं तो आपको क्‍या फायदे मि‍लेंगे। 

 

आगे पढ़ें...

2018 में मि‍लेगा ये फायदा

 

साल के अंत में कार खरीदने का सबसे बड़ा नुकसान उसका मैन्‍युफैक्‍चरिंग ईयर रहता है। 2017 में खरीदी गई कार और 2018 में खरीदती गई कार का मतलब एक साल का अंतर है। यदि‍ आप 2017 में खरीदी कार को कुछ साल बेचते हैं तो आपकी रीसेल वैल्‍यू कम हो जाएगी जबकि‍ 2018 में खरीदी गई कार को बेचने पर आपको ज्‍यादा पैसे मि‍लेंगे क्‍योंकि‍ दोनों कारों की मैन्‍युफैक्‍चरिंग डेट में एक साल का अंतर हो गया है। अगर आपको साल के अंत में कार में ज्‍यादा डि‍स्‍काउंट नहीं मि‍लता है तो आपको रीसेल वैल्‍यू से कॉम्‍प्रोमाइज करना पड़ेगा।

 

आगे पढ़ें...

इसे ऐसे समझें

 

मान लीजि‍ए दि‍संबर में आप 4.75 लाख रुपए में कार खरीदते हैं। आप उस कार को छह साल बाद बेचते हैं तो आपको करीब 1,75,750 रुपए कम मि‍लेंगे, मतलब आपकी रीसेल वैल्‍यू करीब 2,99,250 रुपए हो जाएगी। लेकि‍न अगर आप जनवरी तक इंतजार करते हैं और 5 लाख रुपए में कार खरीदतें तो पांच साल बाद उसकी रीसेल वैल्‍यू जोकि‍ 30 फीसदी या 1.50 लाख रुपए कम होगी, यानी रीसेल वैल्‍यू 3.50 लाख रुपए होगी। यहां दि‍संबर की कार के लि‍ए 37 फीसदी नुकसान का अनुमान लगाया गया है। 

 

आगे पढ़ें...

2018 में मि‍लेगा ये फायदा

 

2017 के अंत में कार कंपनि‍यां अपने बचे हुए मॉडल्‍स को नि‍कालने की कोशि‍श करती हैं। ऐसे में कारों के कलर और मॉडल्‍स के ऑप्‍शन कम हो जाते हैं। वहीं, 2018 में आपको ऑप्‍शन मि‍ल सकते हैं। इसके अलावा, अकसर नए साल में कंपनि‍यों की ओर से कारों को अपग्रेड कि‍या जाता है। यानी इसमें एक्‍स्‍ट्रा सेफ्टी फीचर्स, न्‍यू टेक्‍नीकल स्‍पेसि‍फिकेशन (ज्‍यादा माइलेज) को जोड़ा जाता है। अगर आप 2017 के अंत में कार खरीदतें हैं तो हो सकता है कि‍ आप कार में दूसरे फीचर्स न मि‍ल सकें जो 2018 में मि‍ल सकते हैं।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट