Home » Auto » Industry/ Trendsford india become no 1 car exporter in 2017-18

भारत के कार एक्‍सपोर्ट में फोर्ड का कब्‍जा, दूसरे नंबर पर ह्युंडई मोटर

फोर्ड इंडि‍या भारत से एक्‍सपोर्ट करने वाली कंपनि‍यों की लि‍स्‍ट में टॉप पर है।

ford india become no 1 car exporter in 2017-18
 
नई दि‍ल्‍ली। ऑटोमोबाइल कंपनि‍यों का डोमेस्‍टि‍क मार्केट की ओर शि‍फ्ट होने और जीएसटी रीफंड्स में आई दि‍क्‍कतों की वजह से भारत से होने वाला पैसेंजर व्‍हीकल एक्‍सपोर्ट 1.51 फीसदी गि‍र गया है। हालांकि‍, इस गि‍रावट का असर अमेरि‍का की बड़ी कार कंपनी फोर्ड इंडि‍या पर नहीं पड़ा है। फोर्ड इंडि‍या भारत से एक्‍सपोर्ट करने वाली कंपनि‍यों की लि‍स्‍ट में टॉप पर है। फोर्ड इंडि‍या ने फाइनेंशि‍यल ईयर 2017-18 में 1,81,148 यूनि‍ट्स का एक्‍सपोर्ट कि‍या है। इसमें पि‍छले साल की तुलना में 14.31 फीसदी की ग्रोथ दर्ज की गई है। 2016-17 में फोर्ड इंडि‍या ने 1.58 लाख कारों का एक्‍सपोर्ट कि‍या था।  
 
ह्युंडई मोटर इंडि‍या का एक्‍सपोर्ट गि‍रा
 
ह्युंडई मोटर इंडि‍या पैसेंजर व्‍हीकल्‍स एक्‍सपोर्ट करने के मामले में दूसरे नंबर पर है। हालांकि‍, ह्युंडई के एक्‍सपोर्ट में 2017-18 के दौरान 7.39 फीसदी की गि‍रावट दर्ज की गई है। कंपनी ने इस अवधि‍ में 1,53,942 यूनि‍ट्स का एक्‍सपोर्ट कि‍या है जबकि‍ पि‍छले साल यह आंकड़ा 1,67,120 यूनि‍ट्स था। हालांकि‍, ह्युंडई मोटर के यूटि‍लि‍टी व्‍हीकल एक्‍सपोर्ट में ग्रोथ देखने को मि‍ली हैं। 
 
मारुति‍ सुजुकी के एक्‍सपोर्ट में हल्‍की बढ़त
 
2017-18 में देश की सबसे बड़ी कार कंपनी मारुति‍ सुजुकी इंडि‍या के एक्‍सपोर्ट में खास ग्रोथ नहीं आई है। मारुति‍ सुजुकी इंडि‍या का एक्‍सपोर्ट 1,23,903 यूनि‍ट्स हुआ। इसकी ग्रोथ सालाना आधार पर 1.53 फीसदी है। पि‍छले साल कंपनी ने 1.20 लाख यूनि‍ट्स रहा। 
 
अमेरि‍का की दूसरी कंपनी जीएम का एक्‍सपोर्ट भी बढ़ा
 
अमेरि‍का की ऑटोमोबाइल कंपनी जनरल मोटर्स ने भारत में कारों को बेचना बंद कर दि‍या है। हालांकि‍, कंपनी का एक्‍सपोर्ट अब भी जारी है। कंपनी ने 2017-18 के दौरान 83,140 यूनि‍ट्स का एक्‍सपोर्ट कि‍या जबकि‍ पि‍छले साल यह आंकड़ा 70,735 यूनि‍ट्स का था। जीएम के एक्‍सपोर्ट में सालाना आधार पर 17.54 फीसदी की ग्रोथ दर्ज की गई। इसके अलावा, फॉक्‍सवैगन इंडि‍या का एक्‍सपोर्ट भी 2017-18 में 90,382 यूनि‍ट्स के 4.06 फीसदी बढ़ा है।  
 
टॉप 4 कार एक्‍सपोर्ट कंपनि‍यां
 
कंपनी 2017-18 2016-17 ग्रोथ
फोर्ड इंडि‍या 1,81,148 1,58,472 14.31%
ह्युंडई मोटर 1,53,942 1,67,120 -7.39%
मारुति 1,23,903 1,20,171 1.53%
जीएम 83,140 70,735 17.54%

(स्रोत: सि‍आम)

 
रिफंड की वजह से दबाव में एक्‍सपोर्ट
 
सि‍आम के डीजी वि‍ष्‍णु माथुर ने कहा कि‍ पैसेंजर व्‍हीकल के एक्‍सपोर्ट पर लगातार दबाव बना हुआ है। एक्‍सपोर्ट में गि‍रावट की बड़ी वजह जीएसटी रिफंड है। उन्‍होंने कहा कि‍ जीएसटी रीफंड सि‍स्‍टम सही ढंग से काम नहीं कर रहा है जि‍सका असर पैसेंजर व्‍हीकल के एक्‍सपोर्ट पर पड़ा है। हमने देखा है कि‍ 5 से 6 बड़ी कंपनि‍यों का रिफंड रुका हुआ है। 
 
ऑटोमोबाइल कंपनि‍यों को रिफंड नहीं मि‍लने की वजह से कंपनि‍यों ने एक्‍सपोर्ट के वॉल्‍यूम को कम करना शुरू कर दि‍या है। माथुर ने यह भी कहा कि‍ जि‍न मार्केट्स में भारत से एक्‍सपोर्ट कि‍या जाता है उनकी स्‍थि‍ति‍ भी ठीक नहीं है। इन दोनों से इंडि‍यन पैसेंजर व्‍हीकल्‍स का एक्‍सपोर्ट दबाव में है।
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट