Home » Auto » Industry/ Trendsनई पॉलिसी, एंट्री-एक्जिट और कमबैक के नाम साल 2017 - auto industry face entry exit and new policy in 2017

2017: नई कारों ने कंपनियों को GST के झटके से बचाया, बंद हो गई GM की दुकान

साल 2017 ऑटोमोबाइल इंडस्‍ट्री से जुड़ी कंपनि‍यों के लि‍ए काफी व्‍यस्‍त रहा।

1 of

 

नई दि‍ल्‍ली. साल 2017 ऑटोमोबाइल इंडस्‍ट्री से जुड़ी कंपनि‍यों के लि‍ए काफी व्‍यस्‍त रहा। जहां कुछ कंपनि‍यों ने मार्केट में ऐसे मॉडल्‍स को लॉन्‍च कि‍या उनके लि‍ए पूरा गेम ही बदल गया। वहीं, जनरल मोटर जैसी कंपनी ने भारत में कारों को नहीं बेचने जैसा बड़ा फैसला ले लि‍या। इसके अलावा, कई ग्‍लोबल कंपनि‍यों ने इस साल भारत में अपनी एंट्री करने का ऐलान कर दिया। 

 

इतना ही नहीं, ऑटोमोबाइल इंडस्‍ट्री सरकारी पॉलि‍सी के ईद-गि‍र्द भी घूमती दि‍खी। कभी बीएस-4 की तैयारी तो कभी गुड्स एंड सर्वि‍स टैक्‍स की वजह से कीमतों में फेरबदल। साथ ही, इलेक्‍ट्रि‍क व्‍हीकल्‍स को जल्‍द से जल्‍द पेश करने का दबाव। कुल मि‍लाकर साल 2017 में ऑटोमोबाइल इंडस्‍ट्री के पास काफी काम रहा। 

 

टाटा मोटर्स के आए अच्‍छे दि‍न

साल 2017 टाटा मोटर्स के लि‍ए गेम चेंजर से कम नहीं रहा। कंपनी ने साल की शुरुआत टाटा के लि‍ए नेक्‍स्‍ट जेन व्‍हीकल्‍स का सब ब्रांड TaMo को लॉन्‍च करने के साथ की। टाटा मोटर्स ने अपने बि‍जनेस को रीस्‍ट्रक्‍चर करना शुरू कि‍या ताकि‍ वह मुनाफा कमा सके। स्‍मॉल कार टि‍आगो की सेल्‍स ग्रोथ 2017 में भी कायम रही।

 

इसके अलावा, कॉम्‍पैक्‍ट कार नेक्‍सॉन के दम पर कंपनी नए सेगमेंट में उतरी और कई कारों को सेल्‍स के मामले में पीछे छोड़ दि‍या। टाटा मोटर्स ने इस साल 4,000 करोड़ रुपए इन्‍वेस्‍ट करने का भी ऐलान कि‍या। 

 

जनरल मोटर्स (शेवरले) ने कहा अलवि‍दा   

इस साल अमेरिका की बड़ी कार कंपनी जनरल मोटर इंडि‍या ने भारत में कारों को नहीं बेचने का ऐलान कि‍या। जनरल मोटर्स ने कहा है कि‍ वह 2017 के आखिर तक भारत में व्‍हीकल्‍स बेचना बंद कर देगी। कंपनी ने कहा है कि‍ वह भारत से केवल कारों के एक्‍सपोर्ट पर फोकस करेगी। इससे पहले अप्रैल में जनरल मोटर्स ने गुजरात में अपने हलोल प्लांट में प्रोडक्‍शन रोक दि‍या था। कंपनी ने भारत में अपने मैन्‍युफैक्‍चरिंग ऑपरेशंस के इंटीग्रेशन की कोशिशों के तहत अपने इस पहले प्‍लांट में प्रोडक्‍शन बंद किया।

 

कई नई कंपनि‍यों ने दी दस्‍तक

साउथ कोरिया की कार कंपनी Kia मोटर्स कार्प ने इंडि‍यन कार मार्केट में एंट्री करने का ऐलान कि‍या। कंपनी ने कहा कि‍ वह भारत में वह 1.1 अरब डॉलर (करीब 7100 करोड़ रुपए) के इन्‍वेस्‍टमेंट से आंध्र प्रदेश (अनंतपुर) में पहला प्‍लांट लगाने जा रही है। कंपनी की ओर से जारी स्‍टेटमेंट के अनुसार, 2019 के सेकंड हॉफ से प्‍लांट से प्रोडक्‍शन शुरू हो जाएगा।

 

चीन की कार कंपनी SAIC मोटर कारपोरेशन अपने ब्रि‍टि‍श स्‍पोर्ट्स कार ब्रांड एमजी (Morris Garages) का प्रोडक्‍शन 2019 से शुरू कर देगी। SAIC मोटर ने कहा है कि‍ वह जीएम इंडि‍या के बंद पड़े हलोल प्‍लांट में अपनी फैक्‍ट्री लगाई है। प्रोडक्‍शन प्‍लांट का आधि‍कारि‍क उद्घाटन हो चुका है। एमजी मोटर सालाना 80 हजार व्‍हीकल्‍स की मैन्‍युफैक्‍चरिंग के लि‍ए करीब 2000 करोड़ रुपए का इन्‍वेस्‍टमेंट करेगी। 

 

फ्रांस के पीएसए ग्रुप अपने Peugeot ब्रांड को भारत में तीसरी बार लेकर आने वाली है। इससे पहले कंपनी 1990 और 2011 में फेल हो चुकी है। कंपनी ने भारत में वेंचर के प्‍लान का ऐलान भी कि‍या। इतना ही नहीं, कंपनी ने हिंदुस्‍तान मोटर्स के अम्‍बेसडर ब्रांड को पहले ही खरीद लि‍या है। कंपनी भारत में सीके बि‍ड़ला ग्रुप के साथ ज्‍वाइंट वेंचर कि‍या है।  

 

नई पॉलि‍सी में उलझी इंडस्‍ट्री

 

बढ़ते पॉल्‍युशन की वजह से ऑटोमोबाइल कंपनि‍यों को 1 अप्रैल 2017 से बीएस-4 नॉर्म्‍स को लागू करना पड़ा। इसके अलावा, देश के सबसे बड़ी टैक्‍स रि‍फॉर्म गुड्स एंड सर्वि‍स टैक्‍स (जीएसटी) को लागू कि‍या गया। जीटीएस लागू होने के बाद कंपनि‍यों के बीच काफी कन्‍फ्यूजन रही जि‍सकी वजह से बार-बार कीमतों में बदलाव कि‍या गया।

 

सरकार की ओर से साल 2017 में सबसे बड़ा ऐलान 2030 तक ऑल इलेक्‍ट्रि‍क व्‍हीकल्‍स को लागू करना रहा। इसे देखते हुए ऑटोमोबाइल कंपनि‍यों ने इलेक्‍ट्रि‍क व्‍हीकल्‍स प्‍लेटफॉर्म पर काम शुरू कर दि‍या।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट