बिज़नेस न्यूज़ » Auto » Industry/ Trendsट्रंप ने इस BIKE को बनाया मोहरा, भारत के साथ कर रहा है गेम

ट्रंप ने इस BIKE को बनाया मोहरा, भारत के साथ कर रहा है गेम

अमेरि‍की बि‍जनेस और डि‍प्‍लोमेट्स की ओर से भारत पर टैरि‍फ कम करने का दबाव बनाया जा रहा है।

1 of

नई दि‍ल्‍ली। अमेरि‍की बि‍जनेस और डि‍प्‍लोमेट्स की ओर से भारत पर टैरि‍फ कम करने का दबाव बनाया जा रहा है। मोदी सरकार की ओर से मेक इन इंडि‍या को बूस्‍ट देने के लि‍ए दर्जन भर प्रोडक्‍ट्स पर लगने वाली कस्‍टम ड्यूटीज को बढ़ा दि‍या है। इंडस्‍ट्री और सरकार के सूत्रों का कहना है कि‍ इस फैसले के बाद भारत पर लगातार टैरि‍फ घटाने का दबाव बनाया जा रहा है। दरअसल, अमेरि‍का के राष्‍ट्रपति‍ डोनाल्‍ड ट्रंप ने बाइक कंपनी हार्ले डेवि‍डसन को राजनीति‍क मोहरे के तौर पर यूज कि‍या है। हार्ले के नाम पर ट्रंप और अमेरि‍की डि‍प्‍लोमेट्स भारत पर दबाव बना रहे हैं। 

 

अमेरि‍का ने क्‍या कहा

 

रॉयटर्स की रि‍पोर्ट के मुताबि‍क,  भारत और अमेरि‍का नजदीकी राजनीति‍क संबंध बनाने का काम कर रहे हैं और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते साल वाशिंगटन में अमेरि‍की राष्‍ट्रपति‍ डोनाल्‍ड ट्रंप को राजनीति‍क स्‍टाइल में गले भी लगाया था। लेकि‍न व्‍यापार में अलगाव इस सब चीजों पर भारी पड़ रहा है। यूएस स्‍टेट डि‍पार्टमेंट के स्‍पोक्‍सपर्सन ने कहा कि‍ भारत को व्‍यापार बाधाएं कम करनी चाहि‍ए जोकि‍ इकोनॉमि‍क संबंधों को रोक रही हैं।  

 

मोटरबाइक्‍स पर ट्रम्‍प की टि‍प्‍पणी के संबंध में स्‍टेट डि‍पार्टमेंट के स्‍पोक्‍सपर्सन ने कहा कि‍ यह अहम है कि‍ भारत ट्रेड बाधाएं कम के लि‍ए ज्‍यादा कदम उठाए ताकि‍ कंज्‍यूमर्स को कम दाम पर प्रोडक्‍ट मि‍ले और भारत में वैल्‍यू चेनके डेवलपमेंट को बढ़ावा मि‍ले।

 

आगे पढ़ें...

 

ट्रंप ने बनाया हार्ले को मोहरा

 

ट्रंप पहले ही हार्ले-डेवि‍डसन मोटरसाइकि‍ल्‍स पर लगने वाली ड्यूटीज को कम करने के लि‍ए भारत से कह चुका है और इस महीने मोदी ने हाई-ऐंड बाइक्‍स के लि‍ए टैरि‍फ रेट को 75 फीसदी से घटाकर 50 फीसदी कर दि‍या है। लेकि‍न यह ट्रम्‍प को संतुष्‍ट कर पाया है। ट्रम्‍प ने अमेरि‍का में बि‍कने वाली भारतीय बाइक्‍स के लि‍ए जीरो ड्यूटीज पर इशारा करते हुए कहा कि‍ वह उन देशों के खि‍लाफ 'रेसि‍प्रोकल टैक्‍स' को बढ़ावा देंगे जो अमेरि‍की प्रोडक्‍ट्स पर टैरि‍फ लगाते हैं। 

 

आगे पढ़ें...

 

धमकी देने का कोई फायदा नहीं

 

ब्रांड गुरु हरीश बि‍जूर ने बताया कि‍ हार्ले की कीमत ज्‍यादा और ड्यूटी लगने के बाद यह और भी ज्‍यादा हो जाती है। अगर जीरो इंपोर्ट ड्यूटी हो जाती है तो भी यह इंडि‍यन मेड मोटरसाइकि‍ल्‍स से महंगी ही रहेगी। जब भी वि‍कसीत देशों से नौकरि‍यां जाने की बात होती है भारत को बलि‍ के बकरे की तरह यूज कि‍या जाता है। लेकि‍न भारत पर आरोप लगाने से अमेरि‍की राष्‍ट्रपति‍ डोमेस्‍टि‍क सेंटीमेंट नहीं सुधार सकते। न ही इससे हार्ले डेवि‍डसन को भारत में कोई मदद मि‍लेगी।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट