बिज़नेस न्यूज़ » Auto » Industry/ Trendsइन गाड़ि‍यों का नहीं कटेगा चालान, दि‍ल्‍ली हाई कोर्ट ने लगाई रोक

इन गाड़ि‍यों का नहीं कटेगा चालान, दि‍ल्‍ली हाई कोर्ट ने लगाई रोक

सरकार ने सभी राज्‍यों से कहा था कि‍ वह व्‍हीकल्‍स में लगे अनऑथराइज्‍ड क्रैश गार्ड और बुल बार्स के खि‍लाफ एक्‍शन लें।

delhi high court stays ban on bull bar in vehicles

नई दि‍ल्‍ली। बीते साल दि‍संबर में केंद्र सरकार ने सभी राज्‍यों से कहा था कि‍ वह व्‍हीकल्‍स में लगे अनऑथराइज्‍ड क्रैश गार्ड और बुल बार्स के खि‍लाफ एक्‍शन लें। केंद्र सरकार ने कहा था कि‍ इस तरह की फि‍टिंग रास्‍ते पर चलते वालों के लि‍ए सुरक्षा को खतरे में डालते हैं। हालांकि‍, दि‍ल्‍ली हाई कोर्ड ने केंद्र सरकार के नोटि‍फि‍केशन पर रोक लगा दी है। 

 

मामले की सुनवाई के दौरान एक्टिंग चीफ जस्टिस गीता मित्तल की अगुवाई वाली बेंच ने नोटिफिकेशन पर रोक लगा दी है। कोर्ट ने रोड ट्रांसपोर्ट एंड हाईवे मि‍नि‍स्‍ट्री को इस मामले की जांच करने और अगली सुनवाई 18 अप्रैल तक इस मामले में चालान न काटा जाए, यह सुनि‍श्‍चि‍त करने के लि‍ए कहा है। इसके अलावा, कोर्ट ने यह भी पाया है कि‍ नोटि‍फि‍केशन जारी करते वक्‍त मि‍नि‍स्‍ट्री ने मोटर व्‍हीकल्‍स एक्‍ट को सही ढंग से नहीं समझा है और कहा है कि‍ वह वि‍स्‍तार से इसका जवाब दें।    

 

कोर्ट ने पूछा सवाल...

 

कोर्ट ने सवाल उठाया कि आखिर सरकार ने किस अधिकार के तहत ये नोटिफिकेशन जारी किया? किस कानून के तहत ये निर्देश जारी किया गया है? बेंच ने कहा कि‍ अगली तारीख तक कोई भी चालान नहीं होगा। पिछले साल दिसंबर में राज्यों के यातायात प्रधान सचिवों, सचिवों और कमिश्नर को लेटर लिखकर केंद्र ने कहा था कि क्रैश गार्ड, बुल बार लगाना मोटर व्‍हीकल्‍स एक्ट का उल्लंघन है। 

 

कि‍तने का चालान कट रहा है

 

मोटर व्‍हीकल्‍स एक्‍ट, 1988 के सेक्‍शन 190 में कहा गया है कि‍ सार्वजनि‍क स्‍थल पर मोटर व्‍हीकल को कोई भी व्‍यक्‍ति‍ जो ड्राइव कर रहा है या कारण है या जि‍स ड्राइव की मंजूरी दी गई है, जो रोड सेफ्टी, शो के कंट्रोल और एयर पॉल्‍यूशन के संबंध में नि‍र्धारि‍त मानकों का उल्‍लंघन करता है उस पर पहली बार के लि‍ए 1,000 रुपए का जुर्माना लगेगा। दूसरी बार उल्‍लंघन करने पर 2,000 रुपए का जुर्माना लगेगा।  

 

बेचने वालों के लि‍ए कानून

 

सेक्‍शन 191 में कहा गया है कि‍ जो भी मोटर व्‍हीकल्‍स में इंपोर्टर के तौर पर या डीलर के, बेचने या डि‍लि‍वर करने या बेचने का ऑफर देने या मोटर व्‍हीकल डि‍लि‍वरी करने का काम कर रहा है और वह चैप्‍टरVII के नि‍यमों का उल्‍लंघन करता है तो उसपर 5,000 रुपए का जुर्माना लगेगा।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट